देवरिया में बोले CM योगी- आज नौकरियां बिकती नहीं, बेचने का दुस्साहस करने वालों की जगह जेल

आज नौकरियां बिकती नहीं, बेचने वालों की जगह जेल
आज नौकरियां बिकती नहीं, बेचने वालों की जगह जेल

देवरिया सदर (Deoria Sadar) विधानसभा सीट ब्राह्मण बाहुल्य है, लिहाजा कोई राजनीतिक दल जनेऊधारियों से नाराजगी नहीं मोल लेना चाहता.

  • News18Hindi
  • Last Updated: October 31, 2020, 3:28 PM IST
  • Share this:
देवरिया. उत्तर प्रदेश (Uttar Pradesh) के देवरिया (Deoria) विधानसभा सीट पर 3 नवंबर को होने वाले उपचुनाव (UP Bye-election) का बिगुल बज चुका है. इसी कड़ी में शनिवार को उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ (CM Yogi Adityanath) भारतीय जनता पार्टी के प्रत्याशी डा. सत्यप्रकाश मणि त्रिपाठी के पक्ष में चुनाव करने पहुंचे. चुनावी रैली को संबोधित करते हुए सीएम योगी विपक्ष पर हमला बोला. उन्होंने कहा कि पहले नौजवानों को नौकरी नहीं मिलती थी, हमने पिछले 3.5 वर्षों में उ.प्र. में 3.5 लाख नौजवानों को सरकारी नौकरी दी है. आज नौकरी बिकती नहीं और कोई नौकरी बेचने का दुस्साहस करता तो उसको जेल के अंदर ठुसने का कार्य भी मुस्तैदी के साथ हमारी सरकार करती है.

29 साल बाद किसी ब्राह्मण की जीत तय

देवरिया के उपचुनाव में 29 साल बाद चारों प्रमुख पार्टियां ने एक साथ चार ब्राह्मण उम्मीदवार को चुनाव मैदान में उतारा है. यह देवरिया के राजनीत में पहला मौका है जब चार ब्राह्मण उम्मीदवार आमने सामने चुनाव के मैदान में उतरे है. समाजवादी पार्टी ने इस बार ब्रह्माशंकर त्रिपाठी तो भारतीय जनता पार्टी ने डा. सत्यप्रकाश मणि त्रिपाठी को चुनावी समर मे उतारा है. कांग्रेस ने मुकुन्द भाष्कर मणिल त्रिपाठी को चुनाव जीतने के लिए उम्मीदवार बनाया है तो वहीं बसपा ने भी सदर सीट पर अभयनाथ त्रिपाठी को उतारा है.





देवरिया सदर विधानसभा सीट ब्राह्मण बाहुल्य है, लिहाजा कोई राजनीतिक दल जनेऊधारियों से नाराजगी नहीं मोल लेना चाहता. इसी वजह से सभी राजनीतिक पार्टियों ने ब्राह्मण उम्मीदवारों को चुनाव मैदान में उतारा है. एक आकड़े के मुताबित देवरिया सदर विधानसभा क्षेत्र में साढ़े तीन लाख से अधिक मतदाता ,है जहां 50-55 हजार ब्राह्मण मतदाता है. जिसको लुभाने के लिये सपा, बसपा, कांग्रेस और भाजपा ने यह दाव खेला है.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज