लाइव टीवी

पिछले 7 सालों से बिना गर्भाधान के दूध दे रही भरत की 'कामधेनु'

News18
Updated: November 30, 2014, 9:42 AM IST
पिछले 7 सालों से बिना गर्भाधान के दूध दे रही भरत की 'कामधेनु'
दुनिया भर में आए दिन कुछ न कुछ अजीबोगरीब बातें सामने आती ही रहती हैं। जिसमें अब भारत भी किसी से पीछे नहीं रह गया, इसका उदाहरण है देवरिया जिला। जी हां, देवरिया निवासी भरत पर मानो भगवान पूरी तरह से मेहरबान हैं, क्योंकि उनके घर में एक गाय बिना गर्भाधान लगातार सात सालों से दूध दे रही है। वह भी प्रतिदिन दोनों समय चार-चार लीटर।

दुनिया भर में आए दिन कुछ न कुछ अजीबोगरीब बातें सामने आती ही रहती हैं। जिसमें अब भारत भी किसी से पीछे नहीं रह गया, इसका उदाहरण है देवरिया जिला। जी हां, देवरिया निवासी भरत पर मानो भगवान पूरी तरह से मेहरबान हैं, क्योंकि उनके घर में एक गाय बिना गर्भाधान लगातार सात सालों से दूध दे रही है। वह भी प्रतिदिन दोनों समय चार-चार लीटर।

  • News18
  • Last Updated: November 30, 2014, 9:42 AM IST
  • Share this:
दुनिया भर में आए दिन कुछ न कुछ अजीबोगरीब बातें सामने आती ही रहती हैं। जिसमें अब भारत भी किसी से पीछे नहीं रह गया, इसका उदाहरण है देवरिया जिला। जी हां, देवरिया निवासी भरत पर मानो भगवान पूरी तरह से मेहरबान हैं, क्योंकि उनके घर में एक गाय बिना गर्भाधान लगातार सात सालों से दूध दे रही है। वह भी प्रतिदिन दोनों समय चार-चार लीटर।

लोग उसे गाय नहीं कामधेनु करते हैं
देवरिया के लोग उसे गाय नहीं बल्कि कामधेनु कहते हैं और परिवार के पुण्य फल से जोड़कर देखते हैं। वहीं, बिहार के एक व्यक्ति ने एक लाख रुपए में गाय बेचने का प्रस्ताव रखा, जिसे भरत ने साफतौर से नामंजूर कर दिया था। परिवार के सभी सदस्य पुण्य लाभ के लिए इसे बारी-बारी से खिलाते हैं। क्षेत्र में अनुष्ठान-पूजा में इस गाय का दूध, मूत्र व गोबर विशेष रूप से लोग ले जाते हैं। बता दें कि पशु चिकित्सक भी इसे हार्मोन परिवर्तन का दुर्लभ मामला मानते हैं।

2007 में शुरू हुआ यह चमत्कार

भाटपाररानी तहसील क्षेत्र के चुहियां गांव के भरत यादव के घर एक गाय ने बछिया को जन्म दिया था। वह बड़ी हुई तो उसका शरीर काफी विकसित हो गया। कुछ दिन बाद यानि वर्ष 2007 में अचानक उसके थन से दूध टपकने लगा। भरत ने चिकित्सक से जांच करायी तो पता चला कि गाय गर्भवती नहीं है, लेकिन वह तभी से प्रतिदिन सुबह-शाम चार चार लीटर दूध दे रही है। यह घटना पशुपालकों, चिकित्सकों के लिए आश्चर्य का विषय बना हुआ है। भरत बताते हैं कि उत्तर प्रदेश ही नहीं बिहार से भी लोग हमारी कामधेनु को देखने के लिए आ रहे हैं।

क्या कहते हैं डॉक्टर
गौरखपुर के पशु चिकित्सा अधिकारी डॉ.राकेश शुक्ल के अनुसार कामधेनु का मामला दुर्लभ है। डॉ. शुक्ल के अनुसार बच्चा नहीं देने वाली गाय-भैंस में इंड्यूज लेक्टेशन के जरिए दूध पैदा किया जाता है। मतलब निर्धारित कोर्स के अनुसार पशु को हार्मोन व स्टेरायड का इंजेक्शन दिया जाता है।

News18 Hindi पर सबसे पहले Hindi News पढ़ने के लिए हमें यूट्यूब, फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें. देखिए देवरिया से जुड़ी लेटेस्ट खबरें.

First published: November 30, 2014, 9:25 AM IST
Loading...
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर
Loading...