लाइव टीवी
Elec-widget

यूपी का खस्ताहाल अस्पताल: देवरिया में रसोईयां बना डॉक्टर, लगा रहा है इंजेक्शन

UMASHANKER BHATT | ETV UP/Uttarakhand
Updated: February 1, 2018, 11:51 AM IST
यूपी का खस्ताहाल अस्पताल: देवरिया में रसोईयां बना डॉक्टर, लगा रहा है इंजेक्शन
रसोइया रमा शंकर मरीजों को लगा रहा है इंजेक्शन

कैमरा देखते ही रसोइया रमा शंकर घबरा गया और कबूला कि वह प्राइवेट रसोइया है, जिसका काम खाना देना है. दरअसल अस्पताल मे यह खेल कई महीनों से चल रहा है, लेकिन इसकी भनक किसी भी स्वास्थ्य विभाग के अफसर को नहीं लगी.

  • Share this:
कहते हैं स्वस्थ्य प्रदेश ही विकास की तरफ अग्रसर होता है. लेकिन जिस प्रदेश का स्वास्थ्य विभाग ही बीमार हो उस प्रदेश का भगवान ही मालिक है. ऐसी ही एक तस्वीर देवरिया जिले के एक सरकारी अस्पताल से सामने आई है जो भगवान भरोसे चल रहा है. देवरिया जनपद के भटनी सामुदायिक स्वास्थ्य केंद्र पर सैकड़ों की तादाद मरीज रोजाना इलाज कराने के लिए आते हैं. लेकिन इस अस्पताल की व्यवस्था पटरी से उतर गई है. तस्वीरें हैरान करने वाली थी. अस्पताल का प्राइवेट रसोइया मरीजों को ड्रिप्स और इंजेक्शन लगा रहा था.

कैमरा देखते ही रसोइया रमा शंकर घबरा गया और कबूला कि वह प्राइवेट रसोइया है, जिसका काम खाना देना है. दरअसल अस्पताल मे यह खेल कई महीनों से चल रहा है, लेकिन इसकी भनक किसी भी स्वास्थ्य विभाग के अफसर को नहीं लगी.

अस्पताल में भर्ती मरीज भी उस समय हैरान रह गए जब उन्हें पता चला कि उनका इलाज करने वाला अस्पताल का कर्मचारी नहीं है. दरअसल महिला वार्ड में भर्ती गर्भवती महिलाओं के लिए रसोइया रखा गया है. स्वास्थ्य विभाग के नियम के अनुसार गर्भवती महिलाएं जब तक अस्पताल में रहेंगी उन्हें नाश्ता और भोजन मिलेगा. लेकिन रसोईया तो सुई और ड्रिप लगाने मे मस्त था, तो खाना कहां से बनेगा. पुछने पर पता चला कि भटनी सामुदायिक अस्पताल मे भोजन कई वर्षों से नहीं बन रहा है और भोजन के नाम पर लाखों रुपये का बन्दर बांट किया जा रहा है. अस्पताल में भर्ती एक महिला सोनी ने बताया कि वह नाश्ता और भोजन अपने पैसे से कर रही है. यहां कुछ नहीं मिलता है.

जब अस्पताल के गेट पर ईटीवी का कैमरा पहुंचा तो वहां चल रहे फर्जी पैथोलॉजी सेन्टर बंद होने लगे. वहीं अस्पताल के मुख्य गेट पर कई मेडिकल सेन्टर चल रहा है जिसका लाइसेंस नहीं है. अस्पताल के कर्मचारियों की मिलीभगत से यह गोरखधंधा कई वर्षों से चल रहा है. अस्पताल परिसर मे चलने वाले पैथोलॉजी सेंटर पर भी एक अनट्रेंड लड़का विद्यासागर मौजूद था. जब उससे डिग्री दिखने की बात की तो वह भागने लगा.

हालांकि जब इसकी सूचना देवरिया के मुख्य चिकित्साधिकारी डॉ रामनिवास को दी गई तो वे पूरे प्रकरण की जांच करावाकर दोषियों के खिलाफ कार्रवाई की बात कहने लगे.

News18 Hindi पर सबसे पहले Hindi News पढ़ने के लिए हमें यूट्यूब, फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें. देखिए देवरिया से जुड़ी लेटेस्ट खबरें.

First published: February 1, 2018, 11:38 AM IST
Loading...
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर
Loading...
Listen to the latest songs, only on JioSaavn.com