लाइव टीवी

देवरिया: डेढ़ साल बाद भी शहीद प्रेम सागर की पत्नी से किया वादा नहीं हुआ पूरा

News18 Uttar Pradesh
Updated: February 21, 2019, 1:46 PM IST
देवरिया: डेढ़ साल बाद भी शहीद प्रेम सागर की पत्नी से किया वादा नहीं हुआ पूरा
क्या है, ये शहादित की तस्वीरें जानें क्या है ये पूरा मामला

सीएम योगी आदित्यनाथ के आने के आश्वासन के बाद ही शहीद के शव का अंतिम संस्कार हुआ था. लेकिन सीएम योगी आदित्यनाथ ने जो वादा किया था, उसे जिला प्रशासन पूरा नहीं करा रहा है.

  • Share this:
जब एक जवान अपने देश की रक्षा करते हुए अपनी जान की आहुति देता है तो वह मर कर भी अमर हो जाता है. साथ ही देश की जनता के दिल मे हमेशा के लिए बस जाता है. उसकी शौर्य गाथाएं इतिहास के पन्नों में दर्ज हो जाती हैं. लेकिन शहादत के बाद उनके परिवार से किया वादा अधूरा ही रह जाता है.

देवरिया जनपद के भाटपाररानी तहसील क्षेत्र के टीकमपार गांव में वीर जवान प्रेम सागर पैदा हुए थे. शहीद प्रेमसागर 1994 में कांस्टेबल के पद पर बीसएफ में भर्ती हुए थे और 1 मई 2017 के दिन पाकिस्तान से लड़ते हुए शहीद हो गए थे. शहीद प्रेम सागर का शव पाकिस्तानी रेंजरों ने क्षत-विक्षत कर दिया था. जिसके बाद शहीद के गांववालों ने शव का अंतिम संस्कार करने से मना कर दिया था. सीएम योगी आदित्यनाथ के आने के आश्वासन के बाद ही शहीद के शव का अंतिम संस्कार हुआ था. लेकिन सीएम योगी आदित्यनाथ ने जो वादा किया था, उसे जिला प्रशासन पूरा नहीं करा रहा है.

पाकिस्तान के PM इमरान खान के 'दोस्त' आधुनिक भारत के 'जयचंद' हैं: स्मृति ईरानी

शहीद के बेटे ईश्वरचंद ने बताया कि उनके पिता देश की रक्षा करते हुए शहीद हो गए. जिस पर पूरे गांव को गर्व है लेकिन सरकार और जिला प्रशासन ने नौकरी, प्रेट्रोल पम्प और पूरी पेंशन देने का वादा किया था. एक साल से अधिक समय बीत जाने के बाद भी नहीं मिला. शहीद के नाम पर कुछ मीटर सड़क बन गई है और एक स्कूल का काम चल रहा है. लेकिन शहीद का समाधि स्थल आज भी जस की तस है और देवरिया जिला प्रशासन देवरिया महोत्सव कराने मे मशगूल है.

ये भी पढ़ें: लोकसभा चुनाव 2019: यूपी से बीजेपी के कई सांसदों का कट सकता है टिकट

शहीद प्रेम सागर के गांव वालों को देश के लिए कुर्बान होने वाले प्रेम सागर पर फक्र है. लेकिन सरकार और देवरिया जिला प्रशासन के खिलाफ आक्रोश भी दिख रहा है. सबकी जुबान पर यही है कि जब कोई शहीद होता है तो सरकार या जिला प्रशासन बड़े-बड़े वादा करती है. बाद में वादाखिलाफी करती है. शहीद प्रेम सागर भले ही इस दुनिया में नहीं हैं, लेकिन आज भी उनकी बातें गांव के हर शख्स को याद है.

शहीद प्रेम सागर के घर मे उनकी फोटो लगी है, साथ मे वर्दी भी टंगी है जो देश की शहादत को याद दिलाता है. उनकी तस्वीर और वर्दी जिला प्रशासन को भी याद दिला रही है कि जरा याद करो कुर्बानी. जो वादा किया था, लेकिन एक साल से अधिक का समय बीत जाने के बाद भी नही पूरा हुआ.
Loading...

एक क्लिक और खबरें खुद चलकर आएंगी आपके पास, सब्सक्राइब करें न्यूज़18 हिंदी  WhatsApp अपडेट्स

ये भी पढ़ें: 

लोकसभा चुनाव: यूपी में आते ही अपनी धमक का एहसास कराने लगे हैं ज्योतिरादित्य सिंधिया

आतंकियों के इशारे पर काम कर रहे हैं कांग्रेस नेता कपिल सिब्बल: राम विलास वेदांती

News18 Hindi पर सबसे पहले Hindi News पढ़ने के लिए हमें यूट्यूब, फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें. देखिए देवरिया से जुड़ी लेटेस्ट खबरें.

First published: February 21, 2019, 1:13 PM IST
Loading...
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर
Loading...