देवरिया शेल्‍टर होम: तीन दिन की रिमांड पर एनजीओ संचालिका और अन्‍य

देवरिया मामले में अभी तक एक दर्जन लोगों से पूछताछ की जा चुकी है. इस पूरे मामले की सीबीआई जांच भी होनी है. कई पुलिसकर्मी भी जांच के घेरे में हैं.

News18Hindi
Updated: August 19, 2018, 12:31 PM IST
देवरिया शेल्‍टर होम: तीन दिन की रिमांड पर एनजीओ संचालिका और अन्‍य
सांकेतिक चित्र
News18Hindi
Updated: August 19, 2018, 12:31 PM IST
देवरिया शेल्‍टर होम मामले में एनजीओ संचालिका गिरिजा त्रिपाठी को तीन दिन की रिमांड पर लिया गया है. एसआईटी की टीम ने गिरिजा के अलावा उसके पति मोहन त्रिपाठी और बालिका गृह की अधीक्षिका कंचनलता को भी रिमांड पर लिया है. इन लोगों से तीन दिन तक गहन और कड़ाई से पूछताछ की जाएगी. बताया जा रहा है कि कुछ दिनों में सीबीआई की टीम भी एनजीओ संचालिका गिरिजा त्रिपाठी से पूछताछ कर सकती है.

बता दें कि देवरिया मामले में अभी तक एक दर्जन लोगों से पूछताछ की जा चुकी है. इस पूरे मामले की सीबीआई जांच भी होनी है. कई पुलिसकर्मी भी जांच के घेरे में हैं. गौरतलब है कि ढाई माह पहले बिहार प्रांत के आम के बगीचे से एक बच्ची गायब हुई थी. इसी गायब बच्ची के साहस से मां विंध्यवासिनी बालिका संरक्षण गृह के घिनौने कारनामे का खुलासा हुआ था.

5 अगस्त को 10 साल की मुस्कान (कल्पनिक नाम) मां विंध्यवासनी बालिका गृह से भाग कर पुलिस थाने पहुंच गई थी. उसने सबसे पहले संरक्षण गृह से चल रहे बालिकाओं के यौन शोषण की बात पुलिस को बताई थी. इसके बाद पुलिस ने 5 अगस्त को ही मां विंध्यवासिनी बालिका गृह में छापा मारकर 24 बच्चों को बरामद किया था.

देवरिया जिले में एक सिलाई केंद्र चलाने वाली सामान्य महिला केवल लालच में मां विन्ध्यवासिनी शेल्टर होम की प्रभावशाली मैनेजर बन गयी. इस शेल्टर होम पर सेक्स रैकेट चलाने का आरोप है. शेल्टर होम की मैनेजर गिरिजा त्रिपाठी का जन्म खुखुंडू पुलिस स्टेशन के रूपाई गांव में हुआ था. उनकी शादी देवरिया के नूनख्वार गांव के मोहन त्रिपाठी से हुई थी. मोहन भटनी शुगर मिल में एक छोटा कर्मचारी था जबकि गिरिजा अपनी आर्थिक स्थित ठीक करने के लिये सिलाई केंद्र चलाती थी.

यह भी पढ़ें:

केरल बाढ़: यूपी के पुलिसकर्मी देंगे एक दिन का वेतन, डीजीपी ने की अपील

मेरठ पुलिस ने 2 पाकिस्तानी नागरिकों को इंदौर से किया गिरफ्तार

अब 21 अगस्त को लखनऊ आएगा अटल जी का अस्थि कलश, कार्यक्रम में हुआ बदलाव

 
पूरी ख़बर पढ़ें
अगली ख़बर