लाइव टीवी

देवरिया कांड: कभी सिलाई केंद्र चलाती थी गिरिजा त्रिपाठी, ऐसे की करोड़ों की कमाई

News18 Uttar Pradesh
Updated: August 9, 2018, 10:36 PM IST
देवरिया कांड: कभी सिलाई केंद्र चलाती थी गिरिजा त्रिपाठी, ऐसे की करोड़ों की कमाई
सिलाई मशीन केंद्र से शेल्टर होम तक, गिरिजा ने कमाई जबरदस्त दौलत (FILE PHOTO)

करीब दो दशक तक गिरिजा ने काफी पैसा कमाया और उसने गोरखपुर में एक वृध्दा आश्रम खोल दिया, इसके अलावा देवरिया के राजला इलाके और रेलवे स्टेशन रोड पर शेल्टर होम भी चलता रहा.

  • Share this:
उत्तर प्रदेश के देवरिया जिले में एक सिलाई केंद्र चलाने वाली सामान्य महिला केवल लालच में मां विन्ध्यवासिनी शेल्टर होम की प्रभावशाली मैनेजर बन गयी. इस शेल्टर होम पर सेक्स रैकेट चलाने का आरोप है. शेल्टर होम की मैनेजर गिरिजा त्रिपाठी का जन्म खुखुंडू पुलिस स्टेशन के रूपाई गांव में हुआ था. उनकी शादी देवरिया के नूनख्वार गांव के मोहन त्रिपाठी से हुई थी. मोहन भटनी शुगर मिल में एक छोटा कर्मचारी था जबकि गिरिजा अपनी आर्थिक स्थित ठीक करने के लिये सिलाई केंद्र चलाती थी.

गिरिजा को अपनी ताकत का एहसास तब हुआ जब भाटनी शुगर मिल के प्रबंधन से अपने पति की नौकरी के लिये संघर्ष किया. भटनी के रहने वाले राजेश कुमार ने बताया कि 'शुगर मिल की आर्थिक स्थिति ठीक न होने के कारण मोहन की नौकरी चली जाने का खतरा उत्पन्न हो गया तब गिरिजा ने मिल प्रबंधन के खिलाफ जबरदस्त धरना प्रदर्शन किया और आखिर में मिल प्रबंधन को झुकना पड़ा. भटनी में प्रौढ़ शिक्षा केंद्र बनने पर वह प्रशासनिक अधिकारियों के संपर्क में आई और वह प्रौढ़ लोगों को प्रशिक्षण भी देने लगी. बाद में देवरिया चली आयी और यहां रेलवे स्टेशन रोड पर मां विन्ध्यवासिनी सेवा संस्थान नामक शेल्टर होम और स्वंय सेवी संस्था चलाने लगी. (देवरिया कांड: संचालिका की बेटी को पुलिस ने हिरासत में लिया, पूछताछ जारी)

करीब दो दशक तक गिरिजा ने काफी पैसा कमाया और उसने गोरखपुर में एक वृध्दा आश्रम खोल दिया, इसके अलावा देवरिया के राजला इलाके और रेलवे स्टेशन रोड पर शेल्टर होम भी चलता रहा. उसकी बड़ी बेटी कनकलता फिलहाल पुलिस हिरासत में है और वह जिला प्रोबेशन अधिकारी गोरखपुर में संविदा पर काम करती है. उसका बेटा एक शिक्षित अध्यापक है. छोटी बेटी कंचनलता देवरिया के शेल्टर होम की अधीक्षिका थी.(प्रशासन को नहीं मालूम देवरिया शेल्टर होम से गायब 20 लड़कियों की डिटेल)

गिरिजा के देवरिया में शेल्टर होम खोलने के साथ ही उसके काफी रसूखदार लोगों से संबंध हो गये. इसके सबूत वह फोटोग्राफ है जिनमें वह नेताओं और अधिकारियों के साथ दिख रही है. उसकी स्वंय सेवी संस्था का लाइसेंस लाइसेंस 2017 में समाप्त हो गया था इसके बावजूद प्रशासन उसे अनेक सरकारी कार्यक्रमों में आमंत्रित करता रहा. यहां तक कि इस वर्ष नौ फरवरी में आयोजित सामूहिक विवाह कार्यक्रम में भी उसे बुलाया गया था.(देवरिया शेल्टर होम कांड: आयु जांच रिपोर्ट में 10 लड़कियां मिलीं बालिग)

News18 Hindi पर सबसे पहले Hindi News पढ़ने के लिए हमें यूट्यूब, फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें. देखिए देवरिया से जुड़ी लेटेस्ट खबरें.

First published: August 9, 2018, 10:30 PM IST
Loading...
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर
Loading...