News18 Impact: देवरिया में सरकारी स्कूलों से हटाया गया 'इस्लामिया' नाम

बता दें कि इन सरकारी स्कूल को पूरी तरह मदरसों की तर्ज पर चलाया जा रहा है, जहां स्कूलों की दीवारों पर मजहबी नारे और मजहब के बारे में लिखी बातें मिली है.

UMASHANKER BHATT
Updated: July 23, 2018, 4:45 PM IST
News18 Impact: देवरिया में सरकारी स्कूलों से हटाया गया 'इस्लामिया' नाम
स्कूल की फोटो
UMASHANKER BHATT
Updated: July 23, 2018, 4:45 PM IST
देवरिया जिले के सलेमपुर तहसील के नवलपुर गांव में स्थित प्राइमरी स्कूल के बिल्डिंग में विद्यालय का नाम प्राइमरी स्कूल की जगह इस्लामिया प्राथमिक विद्यालय नवलपुर में तब्दील कर दिया. न्यूज18 पर प्रमुखता से खबर दिखाए जाने के बाद जिला प्रशासन ने कार्रवाई करते हुए स्कूल का नाम बदल दिया है. वहीं प्रिंसिपल के खिलाफ जांच के आदेश दिए हैं. इतना ही नहीं रविवार के बजाए शुक्रवार को विद्यालय बंद रहता है. एक तरह से सरकारी स्कूल को मदरसे में तब्दील कर दिया गया. इस बात के सामने आते ही बेसिक शिक्षा विभाग में हड़कंप मच गया था.

जिलाधिकारी सुजीत कुमार ने बेसिक शिक्षा अधिकारी को इस मामले की जांच कर कार्रवाई का आदेश दिया था. इसके बाद जिला बेसिक शिक्षा अधिकारी संतोष कुमार पांडे ने जांच में पाया कि कागजों और रजिस्टर पर स्कूल का नाम राजकीय प्राथमिक विद्यालय है जबकि स्कूल का बोर्ड इस्लामिया प्राथमिक विद्यालय के तौर पर लिखा गया है. सोमवार को बीएसए अपनी रिपोर्ट डीएम को सौंप देंगे. जिसके बाद प्रिंसिपल समेत स्कूल के कर्मचारियों पर बड़ी कार्रवाई हो सकती है.

बीएसए संतोष कुमार पांडे


बता दें कि इन सरकारी स्कूल को पूरी तरह मदरसों की तर्ज पर चलाया जा रहा है, जहां स्कूलों की दीवारों पर मजहबी नारे और मजहब के बारे में लिखी बातें मिली है. विद्यालय में बच्चों के नाम और शिक्षकों के हस्ताक्षर और पढ़ाई सब कुछ उर्दू में हो रही थी. प्रदेश में हर दिन सभी स्कूलों को मिड डे मील में छात्रों की उपस्थिति को सरकार को डाटा भेजना पड़ता है लेकिन इन स्कूलों में हर शुक्रवार को छात्रों की उपस्थिति शून्य होती. जबकि इन स्कूलों में है रविवार को मिड डे मील दिया जाता था.

मिड डे मील का बोर्ड


देवरिया जनपद में छह इस्लामिया प्राथमिक विद्यालय चलते है. इनमें इस्लामिया प्राथमिक विद्यालय नवलपुर, इस्लामिया आदर्श प्राथमिक विद्यालय करमहा, इस्लामिया प्राथमिक विद्यालय सामीपट्टी, इस्लामिया प्राथमिक विद्यालय पोखरभिंडा, इस्लामिया प्राथमिक जैतपुरा और इस्लामिया प्राथमिक हरैया शामिल है. सबसे खास बात ये हैं कि स्कूलों के नाम में इस्लामिया लिखने की परम्परा 1904 से है, जबसे ये विद्यालय हैं. तभी से ये चला आ रहा है.

गौरतलब है कि यह सभी स्कूल बेसिक शिक्षा विभाग के अंदर आते हैं. यहां सभी टीचर मुस्लिम वर्ग से आते हैं इन स्कूलों का नाम बदल कर इस्लामिया प्राथमिक स्कूल कर दिया गया है. यहां टीचर की उपस्थिति भी उर्दू में दर्ज होती है यहां शुक्रवार के दिन स्कूल बंद होता है और रविवार के दिन खोला जाता था.

यह भी पढ़ें:

...जब बनारस में बेटी और बहुओं ने दिया मां को कंधा

यूपी पुलिस ने मुंबइया स्टाइल में फेक न्यूज के खिलाफ किया Tweet - ...अपुन इधरिच है

राहुल गांधी को गठबंधन का चेहरा बनाने पर सपा-बसपा में खलबली!

 
पूरी ख़बर पढ़ें
अगली ख़बर