मां-बाप ने मजबूरी में बेटे को लोहे की चेन से बांधा

मां-बाप ने देवरिया के सीएमओ से इलाज के लिए मदद मांगी तो उन्होंने मदद देने से इनकार कर दिया.

News18 Uttar Pradesh
Updated: August 24, 2018, 11:24 AM IST
News18 Uttar Pradesh
Updated: August 24, 2018, 11:24 AM IST
देवरिया जिले से मानवता को शर्मसार करने वाला मामला सामने आया है. सदर तहसील के देसही गांव के रहने वाले संतोष प्रजापति नाम के युवक को उसके मां-बाप ने ही दो माह से जंजीरों में बांध रखा है. संतोष के हाथ और पैर को लोहे की जंजीरों से बांधकर ताले लगा दिए गए हैं.

दरअसल संतोष करीब 12 सालों से मानसिक रूप से बीमार है लेकिन वे ठीक हो गए थे. पिछले दो माह से उनका दिमाग फिर से खराब हो गया. गरीबी के कारण मां-बाप उनका इलाज नहीं करवा पा रहे हैं. परिजनों ने देवरिया के सीएमओ से इलाज के लिए मदद मांगी तो उन्होंने मदद देने से इनकार कर दिया.

संतोष के परिवार वालों का कहना है कि अगर उसे लोहे की जंजीरों से मुक्त कर दिया जाए तो वह किसी से भी मारपीट कर लेता है. मारपीट का परिणाम मजबूरी में पूरा परिवार भुगतता है. हालांकि यूपी का स्वास्थ्य महकमा समय-समय पर करोड़ों रुपए खर्च कर विज्ञापन जारी करता है लेकिन कोई भी स्वास्थ्य योजना इस परिवार तक नहीं पहुंच पाई है.

पिता बैजनाथ प्रजापति और मां तेतरी देवी ने अपने कलेजे के टुकड़े को जंजीरों मे इसलिए जकड़ दिया कि उनके पास अब इलाज के लिए पैसे नहीं हैं. संतोष का अगर सही तरीके से इलाज हो तो वह लोहे की बेड़ियों से मुक्त हो सकता है और एक अच्छी जिन्दगी जी सकता है. संतोष के पिता मिट्टी का बर्तन बनाते हैं और उसी को बेचकर अपना परिवार चलाते हैं, लेकिन पैसे खत्म होने के कारण परिवार ने संतोष प्रजापति के इलाज से मुंह मोड़ लिया.

पिछले 12 सालों से संतोष का इलाज गोरखपुर के कई मानसिक रोग विशेषज्ञों के यहां कराया गया जिससे वह कुछ हद तक ठीक हो गया लेकिन जब पैसे खत्म हो गए तो परिवार ने उनका इलाज कराना बंद कर दिया. संतोष इन लोहे की जंजीरों में 24 घंटे बंधे रहते हैं और अपने सभी काम करते हैं. जब संतोष ने मीडियाकर्मियों और उनके कैमरे को देखा तो उसने अपनी मां से उन लोगों को पानी पिलाने को कहा. इससे स्पष्ट होता है कि संतोष की जिन्दगी एक बार फिर पटरी पर आ सकती है और वह आम इंसान की तरह जी सकता है.

रिपोर्ट – उमाशंकर भट्ट

ये भी पढ़ें -
Loading...
देवरिया के बाद गोरखपुर वृद्धाश्रम में किशोरी से रेप, 10 दिनों तक कमरे में रखा बंद

यूपी के मोस्ट वांटेड गैंगस्टर सुधाकर पांडे ने कोर्ट में किया सरेंडर, पुलिस को नहीं लगी भनक

यूपी सरकार की सेवा में लगे 3 पायलटों ने दिया इस्तीफा, 'सैलरी' बढ़ाने की मांग

देखें: भोजपुरी सिनेमा की ग्लैमरस हिरोइनें
Loading...
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर