लाइव टीवी

मोतियाबिंद का ऑपरेशन कर 26 मरीजों को जमीन पर ही लिटा दिया

ETV UP/Uttarakhand
Updated: December 19, 2017, 12:45 PM IST
मोतियाबिंद का ऑपरेशन कर 26 मरीजों को जमीन पर ही लिटा दिया
राष्ट्रीय अंधता नियंत्रण कार्यक्रम के तहत लक्ष्य को पूरा करने के लिए देवरिया जिला अस्पताल में रात में ही मोतियाबिंद के मरीजों का ऑपरेशन कर दिया और छब्बीस मरीजों को फर्श पर लिटा दिया.

राष्ट्रीय अंधता नियंत्रण कार्यक्रम के तहत लक्ष्य को पूरा करने के लिए देवरिया जिला अस्पताल में रात में ही मोतियाबिंद के मरीजों का ऑपरेशन कर दिया और छब्बीस मरीजों को फर्श पर लिटा दिया.

  • Share this:
राष्ट्रीय अंधता नियंत्रण कार्यक्रम के तहत लक्ष्य को पूरा करने के लिए देवरिया जिला अस्पताल में रात में ही मोतियाबिंद के मरीजों का ऑपरेशन कर दिया और बेड नहीं होने के चलते छब्बीस मरीजों को कड़ाके की ठंड में फर्श पर लिटा दिया. मात्र एक पतली सी दरी बिछा दी गई है. जिस कमरे में मरीजों को लिटाया गया है वह कई महीनों से बंद था. साथ ही लाइट कट जाने से मरीजों और तीमरदारो को अंधेरे में ही बितनी पड़ी, क्योंकि वार्ड में जनरेटर का कनेक्शन नहीं था.

जानकारी के मुताबिक जिले में इस सत्र में 16 हज़ार मोतियाबिंद के मरीजों के ऑपरेशन का लक्ष्य रखा गया है, जिसका तीस प्रतिशत ही अभी तक पूरा हो सका है. इसमें बकायदा गावों में कैम्प लगाकर आंखों की जांच कर उनको सरकरी अस्पताल में बुलाकर निशुल्क आपरेशन किया जाता है.

मगर देवरिया जिले के सीएमओ डा. राम निवास मरीजों की जान से खिलवाड़ कर बैठे और गंभीर ऑपरेशन के बाद मरीजों को फर्श पर लिटा दिया. यह पुरा ऑपरेशन सीएमओ डा. रामनिवास की देख-रेख में हुआ था.

पूरे मामले पर अधिकारियों ने बताया कि हमारे यहां आई का ओटी है, आई का वार्ड है. सीएमओ के आदेश पर रात में ओटी दिया गया था, जहां पर यह आपरेशन किया गया था और मरीजों के लिए कोई व्यवस्था भी नहीं की गयी. सबसे बड़ा सवाल है की अगर मरीजों को इंफेक्शन होता है उनके साथ कोई अनहोनी होती है तो उसका जिम्मेदार कौन होगा.

देवरिया से उमाशंकर भट्ट की रिपोर्ट

News18 Hindi पर सबसे पहले Hindi News पढ़ने के लिए हमें यूट्यूब, फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें. देखिए देवरिया से जुड़ी लेटेस्ट खबरें.

First published: December 19, 2017, 12:45 PM IST
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर