छात्राओं से साफ करवाया जाता था Toilet, वॉर्डन की तानाशाही से तंग 2 ने छोड़ दी पढ़ाई

बेसिक शिक्षा अधिकारी संतोष कुमार देव पांडेय पूरे मामले की जांच की बात कह रहे हैं. उन्होंने बताया कि इस प्रकरण की जांच करा कर विभागीय नियमों के तहत कार्यवाही की जाएगी.

News18 Uttar Pradesh
Updated: July 26, 2018, 3:55 PM IST
छात्राओं से साफ करवाया जाता था Toilet, वॉर्डन की तानाशाही से तंग 2 ने छोड़ दी पढ़ाई
देवरिया में कस्तूरबा गांधी आवासीय विद्यालय की दो छात्राओ ने पढ़ाई छोड़ दी. Photo: News 18
News18 Uttar Pradesh
Updated: July 26, 2018, 3:55 PM IST
उत्तर प्रदेश के देवरिया जनपद में कस्तूरबा गांधी आवासीय विद्यालय  में तानाशाह वार्डन और टीचरों से तंग आकर दो छात्राओ ने पढ़ाई छोड़ दी है. ये छात्राएं अब जिला प्रशासन से न्याय की गुहार लगा रही हैं.
पूरा मामला रामपुर कारखाना कस्बे का है. यहां आवासीय कस्तूरबा गांधी विद्यालय से 2 चचेरी बहनों सलीमुन नसीम और नसीन ने तानाशाह वार्डन और टीचर की प्रताड़ना से तंग आकर अपनी पढ़ाई छोड़ दी.उत्तर प्रदेश के देवरिया जनपद में कस्तूरबा गांधी आवासीय विद्यालय  में तानाशाह वार्डन और टीचरों से तंग आकर दो छात्राओ ने पढ़ाई छोड़ दी है. ये छात्राएं अब जिला प्रशासन से न्याय की गुहार लगा रही हैं.

यह भी पढ़ें: यहां भूत बनकर डराती है वार्डन, नियम तोड़ने पर करती है छात्राओं की पिटाई

आरोप है कि उन्हें अब स्कूल से जबरदस्ती निकाल दिया गया है. छात्राओं ने जो गंभीर आरोप अपने गुरु पर लगाया है, उससे यह शिक्षा का मन्दिर पर सवाल उठते हैं. दोनों चचेरी बहनें रामपुर कारखाना विकास खण्ड के सीमापट्टी गांव की रहने वाली हैं. दोनो छात्राओ का कहना है कि स्कूल की मैडम हम लोगों को पढ़ने नहीं देती थीं. जब हम लोग पढ़ने जाते तो कोई ना कोई काम करवाने के लिए भेज देती थीं. टीचर अपने बच्चे का सारा काम उनसे ही करवाती थीं. इतना ही नहीं छात्राओं का कहना कि वह अपने वच्चे का ट्वायलेट भी उन्हीं से साफ करवाती हैं. यही नहीं यह बात किसी को न बताने की धमकी देती हैं. इसी से परेशान होकर उन्होंने विद्यालय छोड़ दिया.

यह भी पढ़ें: शामली:कस्तूरबा बालिका विद्यालय से तीन छात्राएं लापता,पुलिस जांच में जुटी

सबसे बड़ी बात यह थी कि विद्यालय से बिना किसी गार्जियन के बच्चों को बाहर नहीं भेजा जाता लेकिन यहां की वार्डन और टीचरों ने दोनों बहनों को जबरदस्ती स्कूल से निकाल दिया. इन छात्राओं की मां का कहना है कि वह अपनी बेटियों को जरूर पढ़ाना चाहती हैं.

जब हमने इस मामले पर वार्डन और टीचर का पक्ष जानना चाहा तो वह गेट नहीं खोलीं और उन्होंने कैमरे पर आने से मना कर दिया. वहीं इस खबर के आने के बाद जिला प्रशासन में हड़कम्प मचा हुआ है. बेसिक शिक्षा अधिकारी संतोष कुमार देव पांडेय पूरे मामले की जांच की बात कह रहे हैं. उन्होंने बताया कि इस प्रकरण की जांच करा कर विभागीय नियमों के तहत कार्यवाही की जाएगी.

ये भी पढ़ें: 

News18 Impact: देवरिया में सरकारी स्कूलों से हटाया गया 'इस्लामिया' नाम

देवरिया जेल में छापा, बाहुबली अतीक अहमद के बैरक से 2 सिम, 4 पेन ड्राइव बरामद
पूरी ख़बर पढ़ें
अगली ख़बर