इलाज के दौरान दो महिलाओं की मौत, लापरवाही का आरोप

पूरा मामला खामपार थाना क्षेत्र के नारायणपुर तिवारी के गांव का है. यहां की रहने वाली महिला नैना देवी और रमवाती को जिला अस्‍पताल में भर्ती कराया गया था, तभी इलाज के दौरान उनकी मौत हो गई.

News18 Uttar Pradesh
Updated: August 31, 2018, 3:07 PM IST
News18 Uttar Pradesh
Updated: August 31, 2018, 3:07 PM IST
यूपी के देवरिया जिला अस्पताल मे उस समय हंगामा मच गया, जब दो महिला मरीजो की मौत हो गई. गुस्‍साए महिला के परिजनों ने  आरोप लगाया कि ऑक्‍सीजन की कमी और चिकित्सकों की लापरवाही से महिलाओं की मौत हो गई. मौके पर पहुंचकर पुलिस ने किसी तरह गुस्‍साए परिजनों को शांत कराया.

पूरा मामला खामपार थाना क्षेत्र के नारायणपुर तिवारी के गांव का है. यहां की रहने वाली महिला नैना देवी को परिजनो ने जिला अस्पताल मे भर्ती कराया था, लेकिन जब रात मे अचानक तबीयत बिगड़ी तो कोई  डॉक्टर वार्ड मे नहीं पहुचा. सुबह जब मरीज के परिजनों के कहने पर जब चिकित्सक मौके पर पहुंचे तो कुछ दवाईयां दी और ऑक्सीजन लगा दिया, लेकिन परिजनों का कहना है कि सिलेण्डर मे ऑक्सीजन गैस नहीं थी. इस वजह से मरीज नैना देवी की मौत वार्ड मे ही हो गई.

दूसरी महिला रमावती देवी की मौत जिला अस्पताल के इमरजेंसी वार्ड मे हुई. बैकुण्ठपुर कस्बे के माधोपुर गांव की रहने वाली महिला रमावती देवी की तबीयत खराब थी तो परिजनो ने सरकारी एम्बुलेंस को फोन किया, लेकिन जब समय पर एम्‍बुलेंस नही पहुंचा तो परिजनों ने खुद जिला अस्पताल में भर्ती कराया, जहां पर मौजूद चिकित्सकों ने बाहर से दवाईया लाने को कहा.

परिजनो ने बाहर से दवाईया लाई और खिलाई उसके कुछ देर बाद मौजूद चिकित्सक ने ऑक्सीजन का मास्क मरीज रमावती देवी को लगा दिया, जिसके कुछ देर बाद मरीज रमावती देवी की भी मौत हो गयी. दोनों महिलाओं की मौत जिला अस्पताल मे होने से कोहराम मच गया. मृतक के परिजनो ने कई घंटो तक हंगामा किया. सूचना पर पहुंची सदर कोतवाली पुलिस ने मामला शांत कराया.

यह भी पढ़ें: IRCTC घोटाला : तेजस्‍वी यादव और राबड़ी देवी को मिली ज़मानत 

यह भी पढ़ें: यूपी के 'निरहुआ' नहीं बनना चाहते थे एक्टर, भोजपुरी सिनेमा में ऐसे खुली किस्मत 
Loading...
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर