लाइव टीवी

राम मंदिर के लिए एटा में मुस्लिम कारीगरों ने बनाया 2100 किलो का घंटा

News18 Uttar Pradesh
Updated: November 13, 2019, 11:51 AM IST
राम मंदिर के लिए एटा में मुस्लिम कारीगरों ने बनाया 2100 किलो का घंटा
एटा के जलेसर में राम मंदिर के लिए घंटा तैयार किया गया है.

अयोध्या (Ayodhya) में बनने वाले राम मंदिर (Ram Temple) के लिए जनपद एटा (Etah) के पीतल नगरी के नाम से जाने जाने वाली तहसील जलेसर (Jalesar) में 2100 किलो का घंटा तैयार किया जा रहा है. दरअसल राम मंदिर पर सुप्रीम कोर्ट का फैसला आने से पहले ही यह ऑर्डर यहां मिल चुका था.

  • Share this:
एटा. सुप्रीम कोर्ट (Supreme Court Of India) की तरफ से राम मंदिर (Ram Temple) का फैसला सुनाए जाने के बाद जहां एक ओर अयोध्या (Ayodhya) में राम मंदिर बनने की कवायद तेज होती जा रही है, वहीं अन्य जगहों पर मंदिर से जुड़े सामान भी तैयार किए जा रहे हैं. आपको बता दें अयोध्या में बनने वाले राम मंदिर के लिए जनपद एटा (Etah) के पीतल नगरी के नाम से जाने जाने वाली तहसील जलेसर (Jalesar) में 2100 किलो का घंटा तैयार किया जा रहा है. दरअसल, राम मंदिर पर सुप्रीम कोर्ट का फैसला आने से पहले ही यह ऑर्डर यहां मिल चुका था.

6 फुट ऊंचा और 5 फुट चौड़ा है ये घंटा

सबसे बड़ी बात यह है कि यह 2100 किलो का घंटा पीतल का है और इसकी ऊंचाई 6 फुट और चौड़ाई 5 फुट है. इस घंटे का निर्माण करने वाले कारखाना मालिक जलेसर से नगरपालिका के चेयरमैन विकास मित्तल बताते हैं कि इस घंटे को बनाने में मुस्लिम समाज के इकबाल सहयोग कर रहे हैं. घंटे पर डिजाइनिंग वह घिसाई का काम मुस्लिम समाज के भाइयों द्वारा किया जा रहा है. इस घंटे की कीमत लगभग 10 से 12 लाख रुपये बताई जा रही है.

etah bell1
राम मंदिर के लिए एटा के जलेसर में पीतल का घंटा तैयार किया जा रहा है.


घंटे पर अंकित होगा जलेसर नाम

राम मंदिर बनने का रास्ता साफ होने के बाद जलेसर में घंटा बनाने की प्रक्रिया बढ़ चुकी है. इस घंटे के अलावा भी कई घंटों का ऑर्डर भी मिल चुका है. कारखाने में डिमांड को देखते हुए कारीगरों की संख्या भी बढ़ा दी गई है. वहीं, राम मंदिर में लगने वाले 2100 किलो के घंटे पर एटा सहित जलेसर का नाम भी अंकित किया जा रहा है, जिससे अयोध्या के राम मंदिर में जब यह घंटा लग जाएगा तो लोगों को यह भी पता चल सके कि यह घंटा एटा से बनकर आया है.

etah
घंटा तैयार करने वाले कारीगर इकबाल
सबसे बड़ी बात है कि राम मंदिर में लगने वाले इस घंटे को बनाने के लिए मुस्लिम समाज के लोग भी सहयोग कर रहे हैं जो सांप्रदायिक सौहार्द्र को बनाए रखने का प्रतीक माना जा रहा है. कारीगर इकबाल कहते हैं कि वह 40 साल से इस काम को कर रहे हैं. मंदिर के लिए घंटा भी उन्होंने ही बनाया है.

ये भी पढ़ें:

अयोध्या: दो मंजिला होगा राम मंदिर, होंगे 106 खंभों और पांच प्रवेश द्वार

राम मंदिर पर फैसले के बाद विकास पर जोर, अयोध्या नगर निगम से जुड़ेंगे 41 गांव

News18 Hindi पर सबसे पहले Hindi News पढ़ने के लिए हमें यूट्यूब, फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें. देखिए एटा से जुड़ी लेटेस्ट खबरें.

First published: November 13, 2019, 11:21 AM IST
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर