लाइव टीवी

इंस्पेक्टर सुबोध कुमार सिंह को नम आंखों से दी गई विदाई, बड़े बेटे ने दी मुखाग्नि

News18 Uttar Pradesh
Updated: December 4, 2018, 8:46 PM IST

इंस्पेक्टर सुबोध कुमार सिंह को उनके बड़े बेटे श्रेय कुमार सिंह ने एटा जिले के उनके गांव में मुखाग्नि दी. बुलंदशहर में सोमवार को गोकशी को लेकर भड़की अफवाह में इंस्पेक्टर सुबोध कुमार सिंह की हत्या कर दी गई थी.

  • Share this:
इंस्पेक्टर सुबोध कुमार सिंह को उनके बड़े बेटे श्रेय कुमार सिंह ने एटा जिले के उनके गांव में मुखाग्नि दी. बुलंदशहर में सोमवार को गोकशी को लेकर भड़की अफवाह में इंस्पेक्टर सुबोध कुमार सिंह की हत्या कर दी गई थी. इस दौरान इंस्पेक्टर सुबोध कुमार को श्रद्धांजलि देने के लिए लोगों का जन सैलाब उमड़ा हुआ था. इससे पहले परिजनों ने मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ को अंतिम संस्कार में शामिल होने के लिए बुलाने की मांग की थी.

इंस्पेक्टर सुबोध कुमार की अर्थी को भी परिजनों और ग्रामीणों ने ही रोक दिया. परिजनों और पुलिस अधिकारियों के बीच सीएम योगी को बुलाने के लिए नोकझोंक भी हुई. अधिकारियों के समझाने के बाद परिजन अंतिम संस्कार के लिए राजी हो गए. इसके बाद नम आंखों से वहां मौजूद भीड़ ने इंस्पेक्टर सुबोध कुमार सिंह को अंतिम विदाई दी.

बुलंदशहर में सोमवार को गोकशी को लेकर भड़की अफवाह में इंस्पेक्टर सुबोध कुमार सिंह की हत्या मामले की जांच एडीजी इंटेलीजेंस करेंगे. जांच रिपोर्ट 48 घंटे में सौंपनी है. एडीजी मेरठ जोन प्रशांत कुमार ने बताया कि हिंसा क्यों भड़की और पुलिसवालों ने इंस्पेक्टर सुबोध कुमार सिंह को अकेला क्यों छोड़ा, इसकी भी जांच होगी. एडीजी इंटेलीजेंस आज बुलंदशहर पहुंचेंगे. मामले में दो लोगों को गिरफ्तार किया गया है जिन पर इंस्पेक्टर को गोली मारने का आरोप है.

इससे पहले बुलंदशहर हिंसा में शहीद हुए इंस्पेक्टर सुबोध कुमार सिंह की पत्नी रजनी सिंह ने मंगलवार को एटा में कहा कि, "जो उनके साथ हुआ, वह नहीं होना चाहिए था. आज पुलिस डिपार्टमेंट ने उनके साथ संकोच किया है. उससे उनकी छाती फट गई है. उनके साथ कोई न्याय नहीं कर रहा है. रजनी जानती हैं कि सुबोध ओवरकान्फिडेंस में रहते थे. पूरी जिम्मेदारी अपने पर लेते थे. वह कहते थे कि जहां तीन की जरूरत होगी, मैं दो से काम चला लेता हूं. जहां एक सिपाही की जरूरत होती है, वहां मैं खुद काम करता हूं."

रजनी बोलीं कि जब चार्ज मिला होता था, वह घर पर खुद नहीं आते थे. कहते थे कि बच्चों को, तुमको देखने का मन कर रहा है, वह सभी को अपने पास बुला लेते थे. वह कहती हैं कि न जाने कितनी गरीब औरतों को उन्होंने घर में वापसी कराई, जिन्हें उनके बच्चों ने निकाल दिया था.

ये भी पढ़ें - 

रजनी सिंह ने कहा कि, "आज पुलिस डिपार्टमेंट ने उनके साथ संकोच किया है. उससे मेरी छाती फट गई है. उनके साथ कोई न्याय नहीं कर रहा है. उनको मारने वालों को मार के रख दो तब तो न्याय है, वरना कोई न्याय नहीं. ड्यूटी पर उन्होंने अपनी जान गंवा दी. ये पहली घटना उनके साथ नहीं थी. इससे पहले भी दो बार उन्हें गोली लगी थी. ड्यूटी पर गोली खाने का ये तीसरा मामला था."

बुलंदशहर हिंसा पर बोले ADG- 4 आरोपी गिरफ्तार, 6 टीमें मार रही हैं छापे
उधर यूपी के एडीजी लॉ एंड ऑर्डर आनंद कुमार ने कहा कि बुलंदशहर में अब हालात काबू में हैं. अभी तक इस मामले में 7 लोगों पर एफआईआर दर्ज की गई है. उन्होंने बताया कि अभी तक 4 लोगों को गिरफ्तार किया गया है, जबकि 4 ही लोगों को हिरासत में लिया गया है.

एडीजी ने बताया कि फिलहाल हालात काबू में हैं. उन्होंने कहा कि गोकशी और हिंसा के मामले में दो एफआईआर दर्ज की गई है. हमारी 6 टीमें अभी छापेमारी कर रही हैं. वीडियो फुटेज, चश्मदीदों के बयान पर ही कार्रवाई की जा रही है. उन्होंने कहा कि इस मामले की जांच एसआईटी कर रही है.

एडीजी आनंद कुमार ने बताया कि जांच की जा रही है. किसी भी निर्दोष के खिलाफ कार्रवाई नहीं होगी. नामजद आरोपियों की गिरफ्तारी के लिए प्रयास किए जा रहे हैं. जो लोग गिरफ्तार हुए हैं उनमें चमन, देवेंद्र, आशीष चौहान, सतीश हैं. उन्होंने कहा कि किसी भी संगठन का नाम सामने नहीं आया है. ये वो लोग हैं जो भीड़ में आगे थे.

ये भी पढ़ें -

News18 Hindi पर सबसे पहले Hindi News पढ़ने के लिए हमें यूट्यूब, फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें. देखिए एटा से जुड़ी लेटेस्ट खबरें.

First published: December 4, 2018, 8:42 PM IST
Loading...
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर
Loading...