यूपी के कासगंज में मुस्लिम वोटर्स का आरोप- वोटिंग से रोकने के लिए बंद किया गया EVM

उत्तर प्रदेश के कासगंज में मुस्लिम महिला मतदाताओं ने आरोप लगाया है कि जानबूझकर ईवीएम को बंद किया गया है ताकि मुस्लिम वोट ना डाल पाएं.

  • Share this:
उत्तर प्रदेश के कासगंज में मुस्लिम महिला मतदाताओं ने आरोप लगाया है कि इलेक्ट्रॉनिक वोटिंग मशीन (ईवीएम) को जानबूझकर बंद किया गया है, ताकि मुस्लिम वोट ना डाल पाएं. मामला नबाब तरोरा बूथ नंबर 320 का है. यहां पर लोग घंटों से लाइन में खड़े हैं, लेकिन अभी तक वोटिंग शुरू नहीं हो पाई है. मुस्लिम महिला मतादाताओं के आरोप पर अभी तक किसी का बयान नहीं आया है.

आज मुस्लिम मतादाताओं ने आरोप लगया है लेकिन पहले चरण के मतदान के दौरान मुजफ्फरनगर से बीजेपी प्रत्याशी संजीव बालियान ने आरोप लगाया था कि बुर्के वाली महिलाओं की चेकिंग नहीं की जा रही है, जिसके चलते फर्जी वोट डाले जा रहे हैं. उन्होंने कहा था कि बुर्के में आकर कौन कितना वोट डाल रहा है क्या पता. हालांकि उनके इस आरोप को चुनाव आयोग के अधिकारी ने निराधार बताया था.

वहीं दूसरे चरण के मतदान के दौरान भी एक अजीब मामला सामने आया था. मुरादाबाद के कोतवाली क्षेत्र के गदांव पिपलौती कला में फर्जी तरीके से वोट डालने पहुंची महिला को पोलिंग पार्टी ने पकड़ लिया था. दरअसल, महिला बुर्का पहन अपनी सौतन का वोट डालने पहुंची थी लेकिन अंगुली पर लगी स्याही से उसे पकड़ लिया गया.



लोकसभा चुनाव 2019 के लिए मंगलवार को तीसरे चरण का मतदान हो रहा है. इसमें उत्तर प्रदेश की 10 सीटें शामिल हैं. इसी चरण में कासगंज में भी वोटिंग हो रही है. इन 10 सीटों में मुरादाबाद, रामपुर, संभल, फिरोजाबाद, मैनपुर, एटा (कासगंज), बदायूं, आंवला (बरेली), बरेली और पीलीभीत शामिल है. स्वतंत्र व निष्पक्ष मतदान के लिए चुनाव ने कड़े सुरक्षा प्रबंध किए हैं. वहीं, इन जिलों में मतदान के मद्देनजर सार्वजनिक अवकाश घोषित किया गया है. इस दौरान सरकारी कार्यालय, कारखाने, वाणिज्य अधिष्ठान और दुकानें बंद हैं.
यह भी पढ़ें- आज़म खान के नाम पर मायावती को ये सलाह देकर मुश्किलों में घिरी जया प्रदा

यह भी पढ़ें- तीसरे फेज़ में मतदान के लिए तैयार बरेली, नोटबंदी और GST से त्रस्त हैं 'मांझे' वाले

एक क्लिक और खबरें खुद चलकर आएंगी आपके पास, सब्सक्राइब करें न्यूज़18 हिंदी WhatsApp अपडेट्स
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज