Assembly Banner 2021

एटा: राजकीय सम्मान के साथ शहीद को अंतिम विदाई, परिजनों को 25 लाख रुपए की मदद

Photo: ETV/News18

Photo: ETV/News18

1 फरवरी को पेट्रोलिंग के दौरान 17 हजार फिट की ऊंचाई पर लेह में हुए भूस्खलन के दौरान नीरेश शहीद हो गये थे.

  • News18Hindi
  • Last Updated: February 4, 2018, 4:53 PM IST
  • Share this:
एटा के बागवाला इलाके का जवान नीलेश बाबू लेह में ड्यूटी के दौरान हिमस्खलन में दबकर 4 दिन पूर्व शहीद हो गए. उनका पार्थिव शरीर रविवार को जैसे ही एटा के उनके गांव कासौन पहुंचा तो लोगों का हुजूम सा उमड़ पड़ा. जन प्रतिनिधियों से लेकर पुलिस प्रशासन और हजारों लोगों ने अपनी नम ऑंखों से उन्हें अंतिम विदाई दी. एटा से 15 किमी दूर थाना बागवाला का कासौन गांव गमगीन माहौल में डूब सा गया लेकिन सभी को फक्र था कि एटा का लाल देश की सीमाओं की रक्षा करते करते अपने प्राणों को न्यौछावर कर दिया.

बीती 1 फरवरी को पेट्रोलिंग के दौरान 17 हजार फिट की ऊंचाई पर लेह में हुए भूस्खलन के दौरान नीरेश शहीद हो गये थे. उनके शहीद होने की सूचना जैसे ही उनके परिजनों को दी गई. पूरे परिवार के साथ पूरा गांव अपने लाल की शहादत पर गमगीन तो हो गया. कासौन गॉंव निवासी पिता फौद्दार सिंह के तीन बेटों में सबसे बड़े बेटे नीरेश बाबू 1993 में सेना में भर्ती हुए थे और अपनी जांबाजी और बहादुरी के लिए जाने जाते थे.

चाहे वो उनके पिता हो भाई हो या फिर शहीद के बच्चे. नीरेश बचपन से ही अपनी जांबाजी के लिए जाने जाते थे और देश के लिए कुछ कर गुजरने का जज्बा उनके अंदर कूट कूटकर भरा था. शायद यही वो वजह थी कि 5 साल की उम्र में ही वह अपने फौजी पिता की वर्दी पहन लेते थे.



नीरेश शहीद हो गये हो लेकिन बड़ा बेटा बसन्त कहता है कि वह सेना में भर्ती होकर देश सेवा करना चाहता है. वहीं नीरेश की बेटी राखी का कहना है कि उनके पिता का सपना था कि डॉक्टर बने और गरीबों का निशुल्क उपचार करे. भले ही पिता के शहीद होने से बेटी सदमे में क्यों ना हो लेकिन पिता के सपने को पूरा करने की ललक उसकी ऑंखों में देखी जा सकती है.
रविवार को पूरे राजकीय सम्मान के साथ शहीद का अंतिम संस्कार किया गया. इस दौरान योगी सरकार की तरफ से शहीद के परिजनों को 25 लाख रुपए का चेक भी दिया गया. इसमें 20 लाख रुपए शहीद की पत्नी और 5 लाख रुपए शहीद के पिता को दिए गए.

अंतिम संस्कार में शामिल होने के लिए एटा के सांसद राजवीर सिंह, एटा के चारों विधायक, जिला अधिकारी एटा अमित किशोर, वरिष्ठ पुलिस अधीक्षक एटा अखिलेश कुमार चौरसिया सहित कई अधिकारी शहीद के घर पहुंचे.

(रिपोर्ट: मनोज श्रीवास्तव)

 
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज