अपना शहर चुनें

States

एटा में शहीद की विधवा ने दिया बेटे को जन्म, बोली- पापा की शहादत का लेगा बदला

नवजात शिशु (फाइल फोटो)
नवजात शिशु (फाइल फोटो)

बता दें कि जम्मू-कश्मीर में 5 दिसंबर 2018 को एटा के जलेसर क्षेत्र के गांव रेजुआ के रहने वाले राजेश यादव पाकिस्तानी सेना के हमले में शहीद हो गए थे. उस वक्त उनकी पत्नी रीना यादव गर्भवती थीं.

  • Share this:
जम्मू-कश्मीर में 5 दिसंबर 2018 को राजेश यादव पाकिस्तानी सेना के हमले में शहीद हो गए थे. बदले की आग में सुलग रहे शहीद के आंगन में मंगलवार शाम को किलकारी गूंजी तो शहीद की पत्नी की कोख धन्य हो गई. शहीद की विधवा पत्नी ने एक बेटे को जन्म दिया. बेटे के जन्म के बाद शहीद की पत्नी ने कहा कि वो अपने बेटे को सेना में भेजेगी. उसे पापा की शहादत का बदला लेना है. फिलहाल शहीद की पत्नी आगरा के कृष्णा हॉस्पिटल में भर्ती हैं, जहां डॉक्टर के मुताबिक दोनों स्वस्थ है.

यह भी पढ़ें: पुलवामा हमला: CM योगी ने शहीद की पत्नी से किया था वादा, आज जाएंगे देवरिया

बता दें कि जम्मू-कश्मीर में 5 दिसंबर 2018 को एटा के जलेसर क्षेत्र के गांव रेजुआ के रहने वाले राजेश यादव पाकिस्तानी सेना के हमले में शहीद हो गए थे. उस वक्त उनकी पत्नी रीना यादव गर्भवती थीं. रीना के लिए ये समय बहुत ही दुविधापूर्ण था. पति के बिछुड़ने का गम खाए जा रहा था तो कोख में पल रहे बच्चे के जीवन की भी चिंता थी. पति की शहादत के बाद रीना ने एक सुंदर और स्वस्थ बालक को जन्म दिया है.



शहीद जवान और उसकी पत्नी

यह भी पढ़ें: पुलवामा हमले के बाद मेरठ में लगे ‘पाकिस्तान जिंदाबाद’ के नारे, जांच के आदेश

राजेश अपने माता-पिता की इकलौती संतान थे. शहीद के पिता नेमसिंह कहते हैं कि नाती के रूप में उनका बेटा आ गया. शहीद की मां रामवती ने कहा कि मेरे लिए तो ये बेटे से भी दुलारा है. पुलवामा में हुए आतंकी हमले के बाद इस गांव में भी शहीद राजेश की यादें ताजा हो गई हैं. पूरा परिवार शहादत पर गर्व महसूस करता है.

यह भी पढ़ें: VIDEO: शहीद जवान का शव देखकर फूट-फूटकर रोने लगे देवरिया के डीएम

गौरतलब है कि गुरुवार को सीआरपीएफ का काफिला जम्मू से कश्मीर की ओर जा रहा था. काफिले में करीब 78 गाड़ियां थीं. जिनमें 2500 से ज्यादा जवान मौजूद थे. आतंकियों ने जिस बस को टारगेट बनाया, उसमें 40 से ज्यादा जवान मौजूद थे. जैश-ए-मोहम्मद के आतंकी ने 350 किलो विस्फोटक से लदे वाहन को सीआरपीएफ की बस से भिड़ा दिया. जिससे हुए ब्लास्ट में हमारे जवानों के लहू से सड़कें लाल हो गईं. इस हमले में सीआरपीएफ के कुल 40 जवान शहीद हो गए.

(रिपोर्ट: मनोज/एटा) 

एक क्लिक और खबरें खुद चलकर आएंगी आपके पाससब्सक्राइब करें न्यूज़18 हिंदी  WhatsApp अपडेट्स

ये भी पढ़ें:

यूपी के इन शहरों में भी महसूस किए गए भूकंप के झटके, घरों से बाहर निकले लोग

सुर्खियां: काशी में गरजे PM मोदी, कहा- नए भारत में बेईमानों के लिए कोई जगह नहीं, अवैध हथियारों का जखीरा

उत्तर प्रदेश में जनाधार बढ़ाने के लिए राहुल गांधी ने 6 नेताओं को दी जिम्मेदारी

सोनिया गांधी रायबरेली से लड़ेंगी 2019 का लोकसभा चुनाव!
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज