यूपी: दलित लड़की की शादी में दबंगों ने पीने का पानी रोका, FIR दर्ज

आरोप है कि पानी सप्लाई करने वाले आज़म खान ने दलित होने की वजह से परिवार के शादी समारोह में मिनरल वाटर की सप्लाई करने से मना कर दिया

News18India
Updated: May 28, 2018, 9:40 AM IST
News18India
Updated: May 28, 2018, 9:40 AM IST
यूपी के एटा में दलित के घर शादी समारोह में पानी की सप्लाई नहीं करने के मामले में प्रशासन ने कार्रवाई का भरोसा दिया है. आरोप है कि पानी सप्लाई करने वाले आज़म खान ने दलित होने की वजह से परिवार के शादी समारोह में मिनरल वाटर की सप्लाई करने से मना कर दिया. मामला पिछले 18 अप्रैल का है जिसके बाद परिवार ने प्रशासन से शिकायत के बाद प्रदर्शन भी किया. परिवार का आरोप है कि पुलिस और प्रशासन ने अभी तक मामले में कोई कार्रवाई नहीं की है.

क्या था मामला ?
जातिगत आधार पर भेदभाव की ये घटना एटा के निधौलीकलॉं कस्बे की है, जहां 18 अप्रैल को अशोक कुमार वाल्मीकी की बेटी गुड़िया देवी की शादी थी. अपनी बेटी की शादी समारोह में पानी की सप्लाई करने को कहा. मिनरल वाटर संचालकों द्धारा दलित समाज में होने वाली शादियों में मिनरल वाटर देने से साफ इंकार कर दिया गया.

सियासत भी शुरू

मामला सामने आने के बाद सियासी प्रतिक्रिया भी देखने को मिली. बीजेपी के दलित सांसद उदित राज का कहना है कि आपस में लड़ने का खामियाजा हमें आज भी भुगतना पड़ रहा है. इस तरह की सोच एक दिन में बदल जाए ऐसा नहीं है. वक्त लगेगा ऐसी सोच बदलने के लिए.

राष्ट्रीय महासचिव एवं भारतीय कम्युनिस्ट पार्टी के नेता अतुल कुमार अंजान इसके लिए मौजूदा सरकार को जिम्मेदार ठहरा रहे हैं. उनका कहना है कि उत्तर प्रदेश में साम्प्रदायिकता और जातिवाद का नंगा नाच मुख्यमंत्री, आरएसएस भाजपा द्वारा चलाया जा रहा है. ऐसा पहले कभी हमने देखा नहीं, जो आज साफ़ दिखाई दे रहा है. यह मोदीजी की सरकार की सबसे बड़ी उपलब्धि है.

बता दें, इस मामले को लेकर बड़ी संख्या में दलित समाज के लोगों ने नारेबाजी कर कलैक्ट्रेट पहुंचकर जिलाधिकारी अमित किशोर को एक ज्ञापन सौंपा. मामले को बेहद गंभीरता से लेते हुए डीएम ने पूरे मामले की जांच एसडीएम सदर को सौंपी है. प्रशासन की इस कार्यवाई से कस्बे के सभी मिनरल वाटर संचालक भूमिगत हो गए हैं

 

 
पूरी ख़बर पढ़ें
अगली ख़बर