अपना शहर चुनें

States

उत्तर प्रदेश: इटावा में मिले एक साथ 30 मरे हुए कौवे, Bird Flu की आशंका

बर्ड फ्लू की आशंका के बीच प्रशासन अलर्ट.
बर्ड फ्लू की आशंका के बीच प्रशासन अलर्ट.

उत्तर प्रदेश के इटावा जिले में एक साथ 30 कौवों के मरे हुए मिलने के बाद सनसनी फैल गई. बर्ड फ्लू (Bird Flu) की आशंका के बाद डॉक्टरों ने सैंपल जांच के लिए भेज दिया है.

  • Share this:
इटावा: उत्तर प्रदेश के इटावा जिले में बसरेहर वन रेंज के ग्राम नावली में एक साथ 30 कौवों के मरे हुए मिलने के बाद सनसनी फैल गई. इटावा के प्रभागीय वन निदेशक राजेश कुमार वर्मा ने कौवों की मौत (Crow Dead) की पुष्टि करते हुए न्यूज 18 को बताया कि ग्राम नावली में चितभवन नहर के पास मंगलवार सुबह 30 कौवों के मरने की सूचना ग्रामीणों ने पशु चिकित्साधिकारी को दी. उनके निर्देश पर ब्लॉक बसरेहर स्थित पशु चिकित्सालय के डॉ. नरेश और डॉ. शिवहरे और पशुधन प्रसार अधिकारी बादाम सिंह मौके पर पहुंचे.

डॉ.शिवहरे ने मृत कौवों का पोस्टमार्टम किया. उन्होंने बताया कि पोस्टमार्टम के बाद 30 सैंपल जांच के लिए भारतीय पशु चिकित्सा अनुसंधान संस्थान इज्जतनगर बरेली भेजा जाएगा. उन्होंने बताया कि प्रथम जांच में फ्लू के लक्षण नहीं दिखे है. बाकी स्थिति रिपोर्ट आने पर साफ होगी. डॉक्टरों की टीम ने करीब पांच घंटे की मशक्कत के बाद सभी मरे हुए कौवों का परीक्षण पूरी सर्तकता से करने के बाद सभी को जमीन में दफन कर दिया.

चिकित्सकों ने दी ये सलाह



मुख्य पशु चिकित्साधिकारी डॉ. विनीत पांडेय ने बताया कि मंगलवार को वह जसवंतनगर गए और वहां पोल्ट्री फार्म का निरीक्षण किया. लेकिन अभी खतरे जैसी कोई बात नहीं है. लोगों को सतर्कता और सावधानी बरतने की सलाह देते हुए कहा कि मुर्गे के मीट को अच्छे से पकाकर खाएं. अंडा भी उबाल कर खाएं. इटावा जिले में पांच जनवरी से लेकर अब तक करीब 35 कौवे मृत मिल चुके हैं. पांच कौवा महेवा क्षेत्र में मिले थे. मुख्य पशु चिकित्साधिकारी के अनुसार जिले के सभी ब्लॉकों में सर्विलांस एवं रैपिड रिस्पांस टीमें पोल्ट्री फार्मों, तालाबों और नहरों के किनारे निगरानी कर रही हैं.
ये भी पढ़ें: Noida: राधे चौहान ने की मुस्लिम युवती से शादी, 6 महीने बाद मिली खून से सनी लाश

विभाग सतर्क

बर्ड फ्लू की आशंका के चलते पशु चिकित्सकों और सेंचुरी अमले ने चकरनगर क्षेत्र में नदियों, तालाबों के पास पक्षियों की निगरानी बढ़ा दी है. पशुपालन विभाग एवं वन विभाग के अधिकारियों एवं कर्मचारियों ने संयुक्त अभियान चलाकर परिक्षेत्र की चंबल, यमुना, क्वारी एवं जलाशयों के अलावा सिंडौस क्षेत्र में स्थित पोल्ट्री फार्मों का निरीक्षण किया. पशु चिकित्साधिकारी हनुमंतपुर डॉ. राहुल कुमार ने बताया कि निरीक्षण के दौरान पक्षियों में बर्ड फ्लू के लक्षण नहीं मिले है. यह अभियान जारी रहेगा.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज