विधानसभा चुनाव से पहले अखिलेश यादव के गढ़ में बना बीजेपी का हाईटेक ऑफिस, सपा ने लगाए ये आरोप

इटावा में बीजेपी का दफ्तर
इटावा में बीजेपी का दफ्तर

समाजवादी पार्टी (Samajwadi Party) के जिलाध्यक्ष गोपाल यादव ने कहा कि बीजेपी (BJP) के पूर्व राष्ट्रीय अध्यक्ष अमित शाह (Amit Shah) के बारे में वीडियो का जिक्र करते हुए उन्होंने कहा कि हाईटेक कार्यालय झूठ की प्रयोगशाला है और यह बात जनता जान चुकी है और झूठ के पैर बहुत लंबे नही होते हैं.

  • News18Hindi
  • Last Updated: November 4, 2020, 2:35 PM IST
  • Share this:
इटावा. समाजवादी पार्टी का गढ़ कहे जाने वाले इटावा में भारतीय जनता पार्टी ने हाईटेक कार्यालय की स्थापना के जरिये अपने कार्यकर्ताओं मे गहरी पकड़ बना कर 2022 के विधानसभा चुनाव में बड़ी कामायाबी हासिल करने का दावा किया, लेकिन इसके विपरीत दूसरे प्रमुख दल भी जनबल के जरिये बीजेपी के हाईटेक प्रणाली का मुकाबला करने की बात कह रहे हैं. भारतीय जनता पार्टी ने हाल के दिनों में प्रदेश में 56 हाईटेक कार्यालय शुरू किये हैं. उनमें से एक इटावा का ऑफिस भी शामिल है. करीब 5000 वर्ग फुट में बन इस कार्यालय में कार्यकर्ताओं की मीटिंग आदि के लिए सभी बंदोबस्त किये गये हैं. तीन फ्लोर के इस कार्यालय के फर्स्ट फ्लोर में अध्यक्ष के अलावा डा. श्यामा प्रसाद मुखर्जी पुस्तकालय, स्टोर रूम, अटल संवाद कक्ष और पुस्कालय है. जबकि सेकेंड फ्लोर पर पं. दीनदयाल उपाध्याय सभागार और थर्ड फ्लोर पर अतिविशिष्ट अतिथि कक्ष, रसोई, केयर टेकर कक्ष और अतिथि कक्ष स्थापित है. सिर्फ इतना ही नहीं यहां पर एक पुस्तकालय भी है, जहां पर करीब दस हजार के आसपास बीजेपी विचाराधारा से जुड़ी हुईं किताबें भी हैं. जिनका फायदा यहां के कार्यकर्ताओं को मिल सकता है.

बीजेपी के जिला अध्यक्ष अजय ठाकरे का कहना है कि इटावा समेत प्रदेश के 56 जिला कार्यालयों को वीडियो कांफ्रेंस के माध्यम से एक साथ कनेक्ट कर दिया गया है. पार्टी कार्यालय के हाईटेक होने से प्रदेश अध्यक्ष से लेकर के प्रदेश के वरिष्ठ सभी पदाधिकारी जिले के किसी भी कार्यकर्ता से सीधे तौर पर बात कर सकते हैं. कार्यालय को तकनीकी तौर पर बहुत मजबूत किया गया है. यहां इंटरनेट की व्यवस्था तो की ही गई है साथ ही वीडियो कैमरे भी लगाए गए हैं.

संगठन का कोई वरिष्ठ पदाधिकारी अगर आता है तो उसके ठहराने के लिए अलग से गेस्ट रूम की व्यवस्था की गई है. पार्टी कार्यालय में मीडिया बंधुओं से बात करने के लिए अलग से प्रेस कान्फ्रेंस रूम बनाया गया है. यही सब सुविधाएं कार्यालय में मौजूद हैं. प्रेस कांफ्रेंस हाल में 40 से लेकर 50 लोग बड़े आराम से बैठ सकते हैं जब कि पार्टी की बैठक के लिए तीन सैकड़ा लोग बैठ सकते है. हर तरह की सुविधा युक्त पार्टी कार्यालय प्राकृतिक तौर पर भी सुसज्जित किया गया है क्योंकि यहां पर हरे भरे बड़े स्तर पर पेड़ों को भी लगाया गया है.



बड़े नेताओ मे शुमार हो चुके भारतीय जनता पार्टी के पूर्व जिलाध्यक्ष शिव महेश दुबे ने बताया कि जब से कोरोनाकाल आया है तब से वर्चुअल बैठकों का बहुत महत्व बड़ा है. भारतीय जनता पार्टी ने अपने सभी जनपदों में अपने कार्यालय निर्मित किए हैं. इनमें से 56 बनकर पूरी तरह से पूर्ण सुसज्जित हो गए हैं जो आजकल सीधे प्रदेश स्तरीय कार्यालय से जोड़ दिए गए हैं. इस व्यवस्था से इटावा से लेकर के लखनऊ तक की भागदौड़ बचेगी और कोई भी प्रदेश स्तर का पदाधिकारी किसी भी क्षण किसी भी समय जिला स्तरीय पदाधिकारियों की कार्यकर्ताओं की बैठक लेकर के दिशा निर्देश ले सकता है.
इस व्यवस्था के क्रम में 24 घंटे पार्टी पदाधिकारी निगरानी में रहेंगे ओर जब भी पार्टी मुख्यालय से कोई संदेश आता है तो त्वरित ढंग से उस मंशा के क्रम में मीटिंग आदि में शामिल हुआ जा सकता है. निकट भविष्य में आने वाले चुनाव के लिए यह बहुत ही महत्वपूर्ण व्यवस्था है जिसका फायदा पार्टी कार्यकर्ताओं के साथ-साथ पदाधिकारियों को भी बड़े स्तर पर मिल सकेगा. उन्होंने दावा किया है कि अब वर्चुअल का ही जमाना आ रहा है पार्टी कार्यालयों को हाईटेक करना बहुत ही महत्वपूर्ण और बहुत ही उपयोगी कदम भारतीय जनता पार्टी के लिहाज से है. उन्होंने बताया कि भारतीय जनता पार्टी का यह कार्यालय ना केवल कार्यालय बल्कि श्रद्धा का केंद्र है इस भव्य कार्यालय में एक कान्फ्रेंस रूम है जो इटावा से सीधे पार्टी मुख्यालय को किसी भी वक्त कनेक्ट करने में सुविधा दी गई है.

वैसे तो यहां पर सभी अत्याधुनिक सुविधाएं मुहैया कराई गई हैं, लेकिन सबसे खास बात यह है कि यहां पर एक लाइब्रेरी की भी स्थापना है हुई है जिसमें करीब साढ़े आठ हजार ऐसी पुस्तके हैं जो भारतीय जनता पार्टी विचारधारा से जुड़े हुए महानुभाव से संदर्भित है. इस लाइब्रेरी की पुस्तकों के जरिए भारतीय जनता पार्टी का कोई भी कार्यकर्ता पार्टी विचारधारा के किसी भी महानुभाव के बारे में यहां अध्ययन करके अपना ज्ञान अर्जुन कर सकता है. यह पुस्तकें दुर्लभ पुस्तके की श्रेणी में शुमार हैं. देश की सबसे पुरानी पार्टी कांग्रेस का कार्यालय बेशक नगर पालिका भवन के उपर स्थापति है. लेकिन वहां पर ऐसी व्यवस्थाएं नहीं है. जैसी बीजेपी कार्यालय में उपलब्ध है. इसका असर निश्चित है कि कांग्रेस के प्रभाव पर पड़ेगा ही.

कांग्रेस पार्टी के जिला अध्यक्ष मलखान सिंह यादव का कहना है कि भारतीय जनता पार्टी के नेता कहते थे कि 70 साल में कांग्रेस ने देश में कुछ नहीं किया. आज भाजपा में जो हाईटेक की व्यवस्थाएं हैं. वो कांग्रेस की वजह से ही है. बेसक कांग्रेस पर भ्रष्टाचार का आरोप भारतीय जनता पार्टी की ओर से लगाया जाता है. ऐसे में अगर कांग्रेस पार्टी का 70 साल में  पार्टी कार्यालय व्यवस्थित नहीं हो सका जब कि मात्र 7 साल में बीजेपी ने अपने कार्यालय को हाईटेक कर लिया है. यह पैसा कहां से लाये यह सवाल होना लाजमी है. कांग्रेस पार्टी भाजपा की हाईटेक रणनीति का जवाब जनमत के जरिये से देने को तैयार है. 1992 मे स्थापित समाजवादी पार्टी का आफिस का पास के इलाके सिविल लाइन में बेशक स्थापित हो लेकिन हाईटेक व्यवस्थाओं से वंचित है फिर भी पार्टी अध्यक्ष जनबल के जरिये भाजपा की हाईटेक रणनीति का मुकाबला करने का दावा करते हैं.

समाजवादी पार्टी के जिलाध्यक्ष गोपाल यादव कहते हैं कि भारतीय जनता पार्टी के लोग सरकार में हैं. उनके पास जितने संसाधन है उतने हमारे पास नहीं हैं और वो जिस प्रकार देश की संपत्तियों को बेच रहे हैं, निजीकरण कर दिया है. उनके पास पैसा तो है ही इसलिए वो हाईटेक कार्यालय खोल सकते हैं, लेकिन अब जनता यह जान चुकी है. भाजपा के पूर्व राष्ट्रीय अध्यक्ष अमित शाह के बारे में वीडियो का जिक्र करते हुए उन्होंने कहा कि हाईटेक कार्यालय झूठ की प्रयोगशाला है और यह बात जनता जान चुकी है. और झूठ के पैर बहुत लंबे नही होते हैं. समाजवादी पार्टी सच्चाई के साथ खड़ी है, न्याय के साथ खड़ी है और पूरा विश्वास है कि जनता किसी के धोखे में नहीं आने वाली है.

मुलायम के भाई शिवपाल गठित पीएसपी का कार्यालय चैगुर्जी मे एक निजी भवन मे संचालित है, लेकिन हाईटेक जैसा कुछ भी नहीं है फिर भी प्रगतिशील समाजवादी पार्टी लोहिया के जिला अध्यक्ष सुनील यादव कहते हैं कि भारतीय जनता पार्टी ने पूरे प्रदेश और देश मे बहुत कम समय में पैसा इक्कठा कर बड़े पैमाने पर अपने हाईटेक कार्यालय बनाने काम किया. 2 साल पहले गठित पार्टी के पास बेसक हाईटेक कार्यालय नहीं हो, लेकिन जमीनी वर्कर बहुत हैं. जो भाजपा के झूठ को उजागर करेंगे.

इटावा संसदीय सीट पर 2014 मे भाजपा के अशोक दोहरे ने जीत हासिल की थी उसके बाद 2019 मे भाजपा के प्रो.रामशंकर कठेरिया ने जीत अर्जित की. इसी तरह से 2017 के चुनाव मे इटावा सदर सीट पर भाजपा की श्रीमती सरिता भदौरिया और भर्थना सुरक्षित सीट पर भाजपा की ही श्रीमती सावित्री कठेरिया को जीत मिली. जब कि 2012 के विधानसभा चुनाव मे इटावा, भर्थना और जसंवतनगर सपा के कब्जे में थी अब केवल जसवंतनगर सीट से शिवपाल सिंह यादव ही एमएलए हैं वे बेसक सपा के टिकट पर जीते हों, लेकिन अब उनकी राह अलग हो चुकी है.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज