होम /न्यूज /उत्तर प्रदेश /

शिवपाल यादव को लेकर UP के शिक्षा मंत्री योगेंद्र उपाध्याय का बड़ा बयान, बोले- BJP को पार्टनर की जरूरत नहीं

शिवपाल यादव को लेकर UP के शिक्षा मंत्री योगेंद्र उपाध्याय का बड़ा बयान, बोले- BJP को पार्टनर की जरूरत नहीं

अखिलेश यादव और उनके चाचा शिवपाल यादव के मतभेदों के बाद उनके भाजपा में शामिल होने पर यूपी के शिक्षा मंत्री ने सवाल उठा दिए हैं.

अखिलेश यादव और उनके चाचा शिवपाल यादव के मतभेदों के बाद उनके भाजपा में शामिल होने पर यूपी के शिक्षा मंत्री ने सवाल उठा दिए हैं.

UP News: अखिलेश यादव और उनके चाचा शिवपाल यादव के मतभेदों के बाद उनके भाजपा में शामिल होने पर यूपी के शिक्षा मंत्री ने सवाल उठा दिए हैं. उप मुख्यमंत्री केशव प्रसाद मौर्य के बाद उच्च शिक्षा मंत्री योगेंद्र उपाध्याय का कहना है कि भाजपा को अब किसी भी पार्टनर की जरूरत नहीं है.

अधिक पढ़ें ...

इटावा. अखिलेश यादव (Akhilesh Yadav) के चाचा शिवपाल यादव (Shivpal Singh Yadav) के भाजपा में शामिल होने की अटकलों के बीच उप मुख्यमंत्री केशव प्रसाद मौर्य के बाद उच्च शिक्षा मंत्री योगेंद्र उपाध्याय के कटाक्ष ने कई सवाल खड़े कर दिये हैं. शिवपाल के भाजपा में शामिल होने के मुद्दे पर मौर्य के नो वैकेंसी वाले बयान के बाद उच्च शिक्षा मंत्री का कहना है कि भाजपा को अब किसी भी पार्टनर की जरूरत नहीं है.

शिवपाल की भाजपा मे इंट्री के सवाल पर उप मुख्यमंत्री केशव प्रसाद पहले ही कह चुके हैं कि भाजपा में कोई वैकेंसी ही नहीं है. आज उच्च शिक्षा मंत्री योगेंद्र उपाध्याय भी केशव की ही तर्ज पर बोल गये कि भाजपा को अब किसी भी पार्टनर की कोई जरूरत नहीं है, क्योंकि उत्तर प्रदेश की सरकार ना केवल पूर्ण बहुमत में हैं बल्कि दो तिहाई बहुमत भी उसके पास है. इटावा में पत्रकारों से वार्ता में योगेंद्र उपाध्याय ने कहा कि भारतीय जनता पार्टी सरकार के पास पूर्व बहुमत है इसलिए अब भाजपा को किसी भी पार्टनर की जरूरत नहीं है. उन्होंने कहा कि ये शिवपाल और भाजपा आलाकमान के बीच का मामला है. उत्तर प्रदेश सरकार के पास में दो तिहाई बहुमत के साथ पर्याप्त बहुमत है. अगर कोई भी भाजपा का साथ देना चाहता है तो आकर दे. योगेंद्र उपाध्याय ने कहा कि राज्य में योगी आदित्यनाथ की अगुवाई में दोबारा बहुमत से सरकार काबिज हुई है, इसलिए और उसको अब किसी अन्य पार्टनर की आवश्यकता नहीं है. हालांकि इस संबंध में पार्टी आलाकमान को निर्णय लेना है.

उन्होंने कहा कि योगी सरकार के प्रथम कार्यकाल में प्रदेश की शिक्षा व्यवस्था पटरी पर आई है. अब दूसरे कार्यकाल में शिक्षा व्यवस्था को गति मिलेगी. शैक्षिक वातावरण में सुधार होगा और शिक्षक-छात्र हित में नीतिगत निर्णय लिए जाएंगे. शैक्षिक वातावरण कैसे बने, इस दिशा में 100 दिन की नीतिगत योजना तैयार कर शीघ्र मुख्यमंत्री को सौंपी जाएगी.

Tags: Etawah news, Shivpal singh yadav, UP news

विज्ञापन

विज्ञापन

टॉप स्टोरीज

अधिक पढ़ें

अगली ख़बर