Assembly Banner 2021

इटावा: पंचायत चुनाव से पहले लंबे समय से जमे अफसरों को हटाने की मांग, कांग्रेस ने लगाए आरोप

सांकेतिक फोटो.

सांकेतिक फोटो.

Panchayat Election 2021: उत्तर प्रदेश में पंचायत चुनाव की आहट के साथ ही कई तरह के आरोप और प्रत्यारोपों का दौर चल पड़ा है. कांग्रेस ने इटावा में वर्षों से जमे अधिकारियों को हटाने की उठाई मांग.

  • Share this:
इटावा. उत्तर प्रदेश में पंचायत चुनाव (UP Panchayat Election) की आहट के साथ ही कइयों तरह के आरोप और प्रत्यारोपों का दौर चल पड़ा है. कहीं अपराधियों के खिलाफ कार्रवाई की मांग तो कहीं तीन तीन चार चार साल से जमे अधिकारियों को हटाने की मांग की जा रही है. समाजवादी गढ़ इटावा से भी एक ऐसी ही मांग सामने आयी है, जिसमें ऐसा कहा जा रहा है कि तीन और चार साल से तैनात सभी अधिकारियों को निष्पक्ष चुनाव के मद‌्देनजर तत्काल प्रभाव से हटाया जाये. यह मांग कांग्रेस पार्टी के पूर्व जिलाध्यक्ष उदयभान सिंह यादव ने की है.

कांग्रेस नेता यादव ने राज्य निर्वाचन आयुक्त के नाम भेजे अपने पत्र में इस बात का जिक्र किया है कि इटावा में निष्पक्ष चुनाव के लिये पिछले तीन चार वर्षों से जमे अधिकारियों को पंचायत चुनाव से पहले हटाया जाना बेहद जरूरी है. उन्होंने अपने पत्र में लिखा है कि उत्तर प्रदेश में  त्रिस्तरीय पंचायत चुनाव की कभी भी घोषणा हो सकती है. पंचायत चुनाव से संबंधित मतदाता सूची, आरक्षण प्रकिया चल रही है, इसमें कई अधिकारियों की ड्यूटी लगाई जाती हैं, लेकिन जनपद में कुछ ऐसे प्रशासन और पुलिस के अधिकारी हैं, जो 3-4 वर्षो से जमे हैं और उनको भी पंचायत चुनाव कार्य में शामिल किया जा रहा है.

उदयभान ने दिया ये तर्क


उदयभान ने तर्क दिया है कि राज्य निर्वाचन आयोग के निर्देश के अनुसार भी तीन वर्ष से अधिक समय से तैनात अधिकारी पंचायत चुनाव से पृथक रखे जाएंगे. इसके बावजूद जनपद में अधिकारियों को पंचायत चुनाव में लगाया गया है. नियमों के मुताबिक इनका जनपद से बाहर तबादला होना चाहिए और जब तक तबादला हो इन्हें चुनाव कार्य से पृथक रखा जाए. उन्होंने कहा कि इटावा में अभी तक पंचायत चुनाव से जुड़े कई अफसर वर्षों से यहां पर जमे हैं, उन अधिकारियों को पंचायत चुनाव कार्य से दूर रख शीघ्र तबादले किये जाएं. ताकि पंचायत चुनाव की निष्पक्षता और पारदर्शिता बनी रहे. साथ ही पंचायती राज अधिनियम का जो उद्देश्य है उसका अनुपालन हो सके.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज