इटावाः जहरीली शराब पीने से दो सगे भाईयों में से 1 की मौत, दूसरे की हालत गंभीर

बताते चलें इटावा में नकली शराब का कारोबार बेरोक-टोक जारी है. अवैध शराब में लिप्त लोग इतने रसूखदार हैं कि वे सरकारी दुकान पर भी अपने माल का सप्लाई कर रहे हैं.

Sandeep Mishra | News18 Uttar Pradesh
Updated: April 23, 2018, 8:29 AM IST
इटावाः जहरीली शराब पीने से दो सगे भाईयों में से 1 की मौत, दूसरे की हालत गंभीर
इतावाह में जहरीली शराब से एक युवक की मौत
Sandeep Mishra | News18 Uttar Pradesh
Updated: April 23, 2018, 8:29 AM IST
इटावा में एक सरकारी दुकान से खरीदी गई जहरीली देसी शराब पीने से दो सगे भाईयों में से एक की मौत हो गई जबकि दूसरे भाई की हालत गंभीर बनी हुई है. जहरीली शराब पीने से दो भाईयों की हालत बिगड़ी गई तो दोनों भाईयों को सैफई के मिनी पीजीआई में भर्ती कराया गया था. जहां इलाज के दौरान एक भाई की मौत हो गई.

रिपोर्ट के मुताबिक थाना चौपुला के वीना गांव निवासी ने अपने बच्चे के जन्मदिन के मौके पर सरकारी दुकान से देसी शराब खरीदी थी. रविवार शाम को बर्थडे पार्टी के दौरान दोनों भाईयों ने शराब पी, जिसके बाद उनकी तबियत बिगड़ गई. परिजनों ने दोनों को अस्पताल में भर्ती करवाया.

बताते हैं दोनों भाईयों की गंभीर हालत को देखते हुए उन्हें सैफई स्थित मिनी पीजीआई में रेफर कर दिया गया, जहां इलाज के दौरान एक युवक की मौत हो गई जबकि दूसरे की हालत भी नाजुक बनी हुई है. मृतक की शिनाख्त  जड्डू के रूप में हुई है जबकि दूसरे युवक का नाम सुनील है. दोनों सगे भाई हैं. फिलहाल पूरे मामले में जिला आबकारी विभाग ने चुप्पी साध रखी है.

गौरतलब है इटावा जिले में नकली शराब का कारोबार बेरोक-टोक जारी है. अवैध शराब में लिप्त लोग इतने रसूखदार हैं कि वो सरकारी दुकान पर भी अपने माल का सप्लाई कर रहे हैं. सरकारी दुकान पर जहरीली शराब के बिक्री में आबकारी विभाग की मिलीभगत की भी आशंका जताई जा रही है.

इससे पहले, जुलाई 2016 में एटा के अलीगंज इलाके में जहरीली शराब पीने 78 लोग बीमार पड़े थे, जिसमें से 19 लोगों की मौत हो गई थी. यही नहीं, यूपी के अन्य जिलों में धड़ल्ले से जहरीली शराब का कारोबार चल रहा है. इसी साल जनवरी में बाराबंकी में जहरीली शराब पीने से 12 लोगों की मौत हो चुकी है, बावजूद इसके आलाधिकारी चुप्पी साधे बैठे हुए हैं.
पूरी ख़बर पढ़ें
अगली ख़बर