अपना शहर चुनें

States

इटावा : छेड़खानी की शिकार लड़की की खुदकुशी के मामले में मां-बेटा गिरफ्तार

पुलिस का कहना है कि लड़की ने लड़के की मां के ताने की वजह से खुदकुशी की, जबकि परिजनों ने कहा कि थाना प्रभारी के बेइज्जत करने की वजह से उसने आत्महत्या की.
पुलिस का कहना है कि लड़की ने लड़के की मां के ताने की वजह से खुदकुशी की, जबकि परिजनों ने कहा कि थाना प्रभारी के बेइज्जत करने की वजह से उसने आत्महत्या की.

आरोप यह भी है कि थाना प्रभारी ने पीड़ित लड़की और उसके परिजनों को दुत्कार कर थाने से भगा दिया था, इस बात से क्षुब्ध हो लड़की ने जान दे दी है. इस मामले में भी पुलिस जांच कर रही है.

  • News18Hindi
  • Last Updated: January 24, 2021, 8:09 PM IST
  • Share this:
इटावा. उत्तर प्रदेश (Uttar Pradesh) के इटावा (Etawah) जिले के बलरई इलाके में छेड़खानी की शिकार (molestation victim) लड़की के रेलगाड़ी से कटकर जान दे देने के मामले में (suicide) आरोपी मां-बेटे को गिरफ्तार (Arrested) कर जेल भेज दिया गया है. पुलिस अधीक्षक नगर प्रंशात कुमार ने आज यहां दोनों को गिरफ्तार करके जेल भेजे जाने की पुष्टि करते हुए बताया कि धारा 345, 504, 506, 305 और पोक्सो (POCSO) एक्ट के तहत पंकज कुमार और उसकी मां ममता की गिरफ्तारी की गई है. दोनों को जेल भेज दिया गया है.

पुलिस अधीक्षक ने बताया कि 20 जनवरी को छेड़खानी का मामला सामने आने के बाद पुलिस की जांच आरोपी को पकड़ने की दिशा में चल रही थी. इसी बीच पीड़ित और आरोपियों के बीच हुए एक समझौते ने मामले को शांत कर दिया. लेकिन ऐसा कहा गया है कि पंकज की मां ममता ने अपने बेटे का जिक्र करते हुए लड़की पर ताने मारे, जिससे कुपित हो कर उसने 22 जनवरी की दोपहर रेलगाड़ी से कट कर जान दे दी.

मामला सुर्खियो में आने के बाद पुलिस ने पीड़ित परिवार के प्रार्थना पत्र के आधार पर मुकदमा दर्ज किया. उसके बाद दोनों की गिरफ्तारी की गई है. छेड़खानी के इस मामले की शिकायत के बाद बलरई थाना प्रभारी ब्रजेंद्र सिंह पर पीड़िता के परिजनों को थाने से भगाने का भी आरोप लगा है, जिसकी जांच प्रभारी एसएसपी औरैया की पुलिस अधीक्षक अर्पणा गौतम के निर्देश पर इटावा के एसपी सिटी प्रंशात कुमार कर रहे हैं.



इस मामले को लेकर समाजवादी पार्टी के जिलाध्यक्ष गोपाल यादव ने दोषी थाना प्रभारी को तत्काल निलंबित कर कार्रवाई किए जाने की मांग की है. उन्होंने कहा है कि थाना प्रभारी खुद आरोपी हैं, इसलिए पुलिस जांच शिथिल पड़ गई है. जबकि पीड़िता के भाई ने आरोप लगाए हैं कि थाना प्रभारी ने पीड़िता और उसके परिवार के सदस्यों को थाने से गाली देकर भगा दिया था. इस कारण पीड़िता ने रेलगाड़ी से कटकर आत्महत्या कर ली है.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज