इटावा: कोविड अस्पताल में 4 मरीजों की मौत, तीमारदारों ने जमकर किया हंगामा और तोड़फोड़

मौके पर पहुंचे पुलिस और प्रशासनिक अधिकारियों ने लोगों को समझाया

मौके पर पहुंचे पुलिस और प्रशासनिक अधिकारियों ने लोगों को समझाया

Etawah Corona Death: डॉ भीमराव अंबेडकर राजकीय सयुक्त अस्पताल में स्थापित 100 शैया एमसीएच विंग के कोविड अस्पताल में मंगलवार को कई मरीजों की मौत होने के बाद दोपहर बाद उनके तीमारदारों का गुस्सा फट पड़ा.

  • Share this:
इटावा. उत्तर प्रदेश (Uttar Pradesh) के इटावा (Etawah) जिला मुख्यालय स्थित एमसीएच विंग के स्थापित कोविड अस्पताल (COVID Hospital) में मंगलवार को चार कोरोना संक्रमितों की मौत  (Corona Deaths) के बाद परिजनों ने हंगामा करते हुए जमकर तोड़फोड़ की. हंगामे की सूचना पर डीएम, एसडीएम, सीओ, सीएमओ समेत दर्जनों पुलिस और प्रशासनिक अधिकारी मौके पर पहुंचे. अधिकारियों के समझाने के बाद तीमारदार शांत हुए.

बता दें डॉ भीमराव अंबेडकर राजकीय सयुक्त अस्पताल में स्थापित 100 शैया एमसीएच विंग के कोविड अस्पताल में मंगलवार को कई मरीजों की मौत होने के बाद दोपहर बाद उनके तीमारदारों का गुस्सा फट पड़ा. उन्होंने गुस्से में आकर जमकर हंगामा किया. तीमारदारों की  ड्यूटी पर तैनात डाक्टर व वार्डबाॅय से खूब कहासुनी हुई. इसके बाद मुख्य गेट के शीशे को तोड़ दिया गया. सूचना मिलने के बाद एसडीएम सदर सिद्धार्थ व सीओ सिटी राजीव प्रताप सिंह मौके पर पहुंचे और तीमारदारों को समझाया.

तीमारदारों ने लगाए ऑक्सीजन कमी के आरोप

ऐसा बताया गया है कि जसवंतनगर क्षेत्र के रायनगर के रहने वाले एक संक्रमित की मौत हो गई थी. इलाज में लापरवाही को लेकर उसके परिजन गुस्सा गये और हंगामा करने लगे. उन्होंने गुस्से में अस्पताल के मुख्य गेट का शीशा भी तोड़ दिया. स्वजन ने आरोप लगाया कि तीन घंटे तक उनका मरीज कोविड अस्पताल में पड़ा रहा, लेकिन उसको कोई डाक्टर देखने नहीं गया. नतीजा यह हुआ कि उसकी मौत हो गई. उनका आरोप है कि यहां पर आक्सीजन भी नहीं है. उन्होंने बताया कि जिस मरीज की मौत हुई है उसे आक्सीजन देने से मना कर दिया गया. बाथरूम भी गंदे पड़े हैं, उन्हें कोई देखने वाला नहीं है. प्रशासन व्यवस्थाओं के बड़े दावे कर रहा है, लेकिन उसके यह दावे झूठे हैं.
एसडीएम बोले अक्सीजन पर्याप्त मात्रा में उपलब्ध

एसडीएम सदर सिद्धार्थ ने बताया कि आक्सीजन निरीक्षण के दौरान पर्याप्त मात्रा में उपलब्ध है. ड्यूटी पर तैनात आक्सीजन प्रभारी डा. यतेंद्र राजपूत ने 17 सिलिंडर व 45 कंसनट्रेटर की उपलब्धता के बारे में जानकारी दी है. सीएमओ डॉ एनएस तोमर ने बताया कि एक मरीज की मौत हो गई थी उसके बाद लोगों को गुस्सा आ गया था. यह स्वाभाविक है. व्यवस्थाएं सभी ठीक हैं.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज