सैफई-इटावा में आरक्षण सूची में बदलाव से अनारक्षित हुई सीट, मुलायम परिवार का रह सकता है दबदबा कायम

सैफई-इटावा में ब्लॉक प्रमुख के पद को अनसूचित जाति के लिए आरक्षित कर दिया गया है (फाइल फोटो)

सैफई-इटावा में ब्लॉक प्रमुख के पद को अनसूचित जाति के लिए आरक्षित कर दिया गया है (फाइल फोटो)

जिला पंचायत राज अधिकारी यतेंद्र सिंह ने शनिवार को आरक्षण सूची जारी किए जाने की जानकारी दी. इससे पहले दो मार्च को जारी आरक्षण में यह सीट एससी महिला के लिए आरक्षित हुई थी. पिछले दिनों जो आरक्षण जारी किया गया था उसमें इटावा जिला पंचायत अध्यक्ष का पद पिछड़ी जाति के लिए आरक्षित किया गया था. इसमें कोई परिवर्तन नहीं हुआ है

  • News18Hindi
  • Last Updated: March 20, 2021, 8:27 PM IST
  • Share this:
इटावा. उत्तर प्रदेश के इटावा (Etawah) जिले के लिए नई आरक्षण सूची जारी कर दी गई है. इस सूची में सैफई ब्लाॅक प्रमुख का पद अनारक्षित हो गया है. इस बदलाव से पिछले 25 वर्षों से काबिज ब्लॉक प्रमुख के पद पर मुलायम सिंह यादव (Mulayam Singh Yadav) के परिवार की दावेदारी बरकरार रहेगी. शनिवार को जिला पंचायत राज अधिकारी यतेंद्र सिंह ने आरक्षण सूची जारी किए जाने की जानकारी दी. इससे पहले दो मार्च को जारी आरक्षण में यह सीट एससी महिला के लिए आरक्षित हुई थी. पिछले दिनों जो आरक्षण जारी किया गया था उसमें इटावा जिला पंचायत अध्यक्ष का पद पिछड़ी जाति के लिए आरक्षित किया गया था. इसमें कोई परिवर्तन नहीं हुआ है. इस पद के आरक्षण के बाद यह स्पष्ट हो गया है कि जिला पंचायत अध्यक्ष पद पर मुलायम परिवार (Mulayam Family) की दावेदारी बनी रहेगी.

वर्तमान में समाजवादी पार्टी के राष्ट्रीय अध्यक्ष और पूर्व मुख्यमंत्री अखिलेश यादव के चचेरे भाई अभिषेक यादव जिला पंचायत अध्यक्ष रहे हैं. आरक्षण को लेकर काफी गहमा-गहमी चल रही थी. पहले जिला पंचायत अध्यक्ष पद का जो आरक्षण हुआ था उसके हिसाब से इटावा जिला पंचायत अध्यक्ष का पद पिछड़ी जाति के लिए आरक्षित किया गया था. लेकिन हाईकोर्ट के निर्देश के बाद इसमें परिवर्तन की संभावना बन गई थी. इसके चलते पहले के दावेदार के अतिरिक्त कुछ नए दावेदार भी उभरकर सामने आए थे.

नया आरक्षण नीति के हिसाब से इटावा की सूची जारी

उत्तर प्रदेश में होने वाले आगामी त्रि-स्तरीय पंचायत चुनाव में नया आरक्षण नीति के हिसाब से इटावा की सूची जारी हो गई है. इटावा जिला प्रशासन ने वर्ष 2015 को बेस ईयर मानते हुए शनिवार को पंचायत चुनाव की सूची चस्पा कर दी. सूची को लेकर अब आपत्तियों को 23 मार्च तक निस्तारित (निपटारा) किया जाएगा. इसके बाद 25 मार्च की देर शाम तक अंतिम प्रकाशन जारी कर दिया जाएगा. सूची को देखने के बाद कई प्रत्याशियों के चेहरे लटक गए हैं. वो बिना चुनाव लड़े ही मैदान से बाहर हो गए हैं. वर्ष 2015 के आरक्षण के अनुसार इटावा जिले में आरक्षण की अनंतिम प्रकाशन सूची सार्वजनिक होने के बाद जिले की कई सीटों पर बदलाव किया गया है.
सूची में बदलाव के बाद कहीं ना कहीं जो कैंडिडेट पहले से चुनाव की तैयारियों में लग गए थे, उनको नई सूची आने के बाद झटका लगा है. वहीं, नए प्रत्याशियों के चेहरे पर खुशी झलकने लगी है. जिला पंचायत सदस्य के लिए 2021 चुनाव में अब जो प्रस्तावित आरक्षण 2015 के आधार पर किया गया है उससे अधिकांश वार्डो में फिर से फेरबदल हो गया है. इससे समूचे इटावा के कई ब्लॉक क्षेत्र के वार्डों में कड़ा मुकाबला होगा. तो कुछ ब्लॉक क्षेत्र में दल विशेष के प्रत्याशी सहजता से जीत दर्ज कर लेंगे. अधिकांश वार्डों में राजनीतिक दखल के तहत ही जीत-हार होगी.

यूपी पंचायत चुनाव 2021 में जारी की गई नई लिस्ट में जिले के आठ ब्लॉक प्रमुख पद का आरक्षण बदल गया है. नई लिस्ट में महेवा और भरथना की सीट एससी के लिए आरक्षित हो गई है. महेवा के ब्लॉक प्रमुख का पद भी एससी महिला के लिए आरक्षित हो गया है. सैफई की ब्लॉक प्रमुख की सीट समान्य वर्ग के खाते में गई है. ताखा की सीट ओबीसी महिला के लिए आरक्षित हुई है. वहीं बसरेहर अनारक्षित है. जसवंतनगर महिला के लिए आरक्षित हो गई है. बढ़पुरा, चकरनगर की सीट ओबीसी के लिए आरक्षित हो गई है.

समाजवादी पार्टी का गढ़ कहे जाने वाले इटावा जिले में जिला पंचायत सदस्यों का आरक्षण में ताखा प्रथम- ओबीसी, ताखा द्वितीय- अनारक्षित, ताखा तृतीय- ओबीसी, बसरेहर प्रथम- अनारक्षित, बसरेहर द्वितीय- एससी, बसरेहर तृतीय- ओबीसी, सैफई प्रथम- अनारक्षित, सैफई द्वितीय- अनारक्षित, जसवंतनगर प्रथम- एससी महिला, जसवंतनगर द्वितीय- ओबीसी महिला, जसवंतनगर तृतीय- अनारक्षित, भरथना प्रथम- अनारक्षित, भरथना द्वितीय- एससी, भरथना, तृतीय- एससी महिला, बढ़पुरा प्रथम- ओबीसी, बढ़पुरा द्वितीय- ओबीसी महिला, बढ़पुरा तृतीय- महिला, महेवा प्रथम- अनारक्षित, महेवा द्वितीय- महिला, महेवा तृतीय-एससी, महेवा चतुर्थ- महिला, महेवा पंचम- एससी, चकरनगर प्रथम-महिला, चकरनगर द्वितीय की सीट आरक्षित हो गई है.



26 मार्च को आरक्षण की अंतिम सूची जारी की जाएगी

त्रिस्तरीय पंचायत चुनाव में जिला पंचायत, क्षेत्र पंचायत और ग्राम पंचायत सदस्य एवं ग्राम प्रधान पद के लिए जिलाधिकारी की अध्यक्षता में गठित आरक्षण चयन समिति में मुख्य विकास अधिकारी प्रेरणा सिंह, जिला पंचायतराज अधिकारी यतेंद्र सिंह और अपर मुख्य अधिकारी जिला पंचायत रामगोपाल ने सदस्य के रूप में निदेशालय से प्राप्त निर्देश के तहत वर्ष 2015 के आधार पर आरक्षण प्रक्रिया निर्धारित की है. दो मार्च को जारी की गई अंतिम सूची से करीब 60 प्रतिशत बदलाव हुआ है. इसमें ताखा ब्लॉक क्षेत्र के प्रथम वार्ड में बसरेहर क्षेत्र के वार्ड संख्या 14 से 18 भी शामिल हैं. यह वार्ड पिछड़ा वर्ग के लिए, इसी ब्लॉक के वार्ड द्वितीय को अनारक्षित जबकि तृतीय वार्ड में बसरेहर के वार्ड संख्या 19 से 22 समाहित है इसे पिछड़ा वर्ग के लिए आरक्षित किया है.

जिला पंचायत राज अधिकारी यतेंद्र सिंह ने बताया कि पंचायत चुनाव 2021 के लिए निदेशालय के निर्देश पर फिर से प्रस्तावित आरक्षण की अनंतिम सूची जारी की है. इसमें 23 मार्च तक आपत्तियां ली जाएंगी. जो भी आपत्ति होगी उसके तथ्यात्मक प्रमाण प्रस्तुत करने होंगे. इसी के आधार पर आपत्तियों का निस्तारण होगा. इसके बाद 26 मार्च को आरक्षण की अंतिम सूची जारी की जाएगी.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज