Etawah news

इटावा

अपना जिला चुनें

इटावा: ब्लाॅक प्रमुख चुनाव में भाजपाइयों ने किया जमकर बवाल, SP सिटी को मारा थप्पड़

इटावा में ब्लॉक प्रमुख के चुनाव में भाजपाईयों ने जमकर बवाल काटा, एसपी सिटी को थप्पड़ मारा.

इटावा में ब्लॉक प्रमुख के चुनाव में भाजपाईयों ने जमकर बवाल काटा, एसपी सिटी को थप्पड़ मारा.

Etawah News: एसपी सिटी प्रशांत कुमार को एक भाजपा नेता ने थप्पड़ जड़ दिया. इससे गुस्साई पुलिस ने आंसू गैस के गोले छोड़े और उपद्रवियों को खदेड़ दिया. बवाल के चलते बढ़पुरा ब्लॉक में एक घंटे तक मतदान भी प्रभावित रहा.

SHARE THIS:
इटावा. उत्तर प्रदेश के इटावा जिले के बढ़पुरा ब्लाॅक प्रमुख के चुनाव में मतदान मे भाजपा कार्यकर्ताओं ने जबरदस्त फायरिंग की, जिसे रोकने की कोशिश मे पहुंचे एसपी सिटी प्रशांत कुमार को एक भाजपा नेता ने थप्पड़ मार दिया. इससे गुस्साई पुलिस ने आंसू गैस के गोले छोड़े. बवाल के चलते एक घंटे तक मतदान भी प्रभावित रहा. इटावा में बढ़पुरा ब्लाॅक में प्रमुख का चुनाव भाजपा व सपा दोनों के लिए ही प्रतिष्ठा बना हुआ था. सपा की ओर से सपा एमएलसी राकेश यादव के भतीजे आनंद यादव टंटी प्रत्याशी हैं, जबकि भाजपा की ओर से गनेश राजपूत हैं. भाजपा विधायक सरिता भदौरिया, जिलाध्यक्ष अजय धाकरे का गृह ब्लाॅक होने से इस सीट पर भाजपा भी प्रतिष्ठा लगी है.

जानकारी के अनुसार, शनिवार की दोपहर में एक बजे ब्लाॅक परिसर में मतदान हो रहा था. तभी कुछ BDC आये तो भीड़ उपद्रव करने लगी. उपद्रव रोकने पहुंचे एसपी सिटी प्रशांत कुमार को किसी भाजपा नेता ने थप्पड़ मार दिया. इससे पुलिस के जवान आग बबूला हो गए और आंसू गैस के गोले चला कर उपद्रवियों को भगाने की कोशिश की. तब जाकर भीड़ शांत हुई. इस दौरान मौजूद भाजपा जिलाध्यक्ष अजय धाकरे, विधायक सरिता भदौरिया ने एसपी सिटी पर उनके कार्यकर्ताओं पर लाठियां बरसाने का आरोप लगाया. वहीं एसपी सिटी प्रशांत कुमार ने कहा कि आपके लोगों ने थप्पड़ मारा है. हालांकि भाजपा नेताओं ने किसी को भी थप्पड़ मारने से इंकार किया है.

एसपी सिटी ने हाथ जोड़कर समझाने की कोशिश की 

भाजपा समर्थकों और सपा समर्थकों के बीच विवाद पर एएसपी सिटी प्रशांत कुमार ने समझाने का प्रयास किया तो धक्का-मुक्की करते हुए थप्पड़ मार दिया. धक्का-मुक्की से वह जमीन पर गिर पड़े. बाद में अतिरिक्त पुलिस बल ने उत्पातियों को खदेड़ दिया और भीड़ को नियंत्रित करने के लिए आंसू गैस के गोले भी छोड़े. दोपहर करीब एक बजे तक वोटिंग ठीक चल रही थी. इसके बाद मतदान केंद्र से 200 मीटर दूर खड़े भाजपा समर्थकों ने सपा समर्थकों पर वोटरों को धमकाने का आरोप लगाते हुए हंगामा शुरू कर दिया. इस पर सपा और भाजपा समर्थक आमने सामने आ गए. हवाई फायरिंग शुरू कर दी है.

एसपी सिटी के सामने फायरिंग करते रहे उपद्रवी

इसकी जानकारी पर फोर्स लेकर एसपी सिटी समझाने पहुंचे तो उनके सामने भी फायरिंग की गई. पुलिस बल की मौजूदगी में एसपी सिटी आगे बढ़े तो उनसे धक्का-मुक्की करते हुए पीछे खदेड़ दिया. इस बीच किसी ने एएसपी सिटी को थप्पड़ मार दिया, जिससे वह जमीन पर गिर गए. जिलाधिकारी श्रुति सिंह और एसएसपी डा. बृजेश कुमार सिंह मौके पर पहुंचे तो उनके सामने भी हवाई फायरिंग की गई. डीएम, एसएसपी ने पुलिस बल की मदद से भीड़ को पीछे खदेड़ा. पुलिस अफसरों की सदर विधायक सरिता भदौरिया और भाजपा जिलाध्यक्ष अजय प्रताप से तीखी बहस भी हुई. सरिता भदौरिया का आरोप था कि सपा के लोगों ने सदस्यों को धमकाया है. एसएसपी डा. बृजेश कुमार सिंह ने बताया कि मतदान के दौरान बाहर उपद्रवियों ने फायरिंग व बवाल किया है.

पढ़ें Hindi News ऑनलाइन और देखें Live TV News18 हिंदी की वेबसाइट पर. जानिए देश-विदेश और अपने प्रदेश, बॉलीवुड, खेल जगत, बिज़नेस से जुड़ी News in Hindi.

UP में बारिश का कहर, इटावा में अंडर ब्रिज में भरा पानी, यात्रियों से भरी बस फंसी

बस के मैनपुरी अंडरपास के नीचे फंस जाने के साथ ही 40 यात्रियों की जान पर बन आई.

Etawa News: शहर में दिनभर हुई तेज बारिश के बाद मैनपुरी अंडरपास में भरा पांच फीट से भी ज्यादा पानी, रोडवेज की बस सहित कई वाहन फंसे, एक घंटे की मशक्कत के बाद बाहर निकाला जा सका लोगों को.

SHARE THIS:

इटावा. पूरे उत्तर प्रदेश में बुधवार और गुरुवार को बारिश का कहर बना रहा. इटावा में भी लगातार हो रही बारिश अब लोगों के लिए परेशानी का सबब बनती जा रही है. दिन भर हुई बारिश के बाद शहर में स्थित मैनपुरी अंडर ब्रिज नदी में तब्दील हो गया. इस दौरान यहां से गुजर रही 40 यात्रियों से भरी रोडवेज बस समेत कई वाहन इसमें फंस गए. हालात ये हो गए कि यात्रियों की जान पर बन गई. जिसके बाद आनन फानन में नगर परिषद की दो जेसीबी को बुलाया गया और बस को बाहर निकाला गया. इस दौरान सभी यात्रियों को सकुशल बाहर निकाल लिया गया.
बस फंस जाने की खबर लगते ही नगर परिषद की पहले एक जेसीबी को बुला कर बस को निकालने का प्रयास किया गया लेकिन विफल होने पर एक और जेसीबी को भी बुलाया गया और करीब एक घंटे की मशक्कत के बाद बस को बाहर निकाला जा सका. इस दौरान 40 यात्रियों की जान पर बनी रही.

रोका गया यातायात
बस के अंडरपास में फंसने के बाद पुलिस ने दोनों तरफ से यातायात को रोक दिया. इस दौरान एक एक पुलिसकर्मी की कार भी पानी में फंस गई. बाद में कार चालक ने बोनट पर खड़े होकर मदद के लिए फोन किया और उसे भी एक घंटे बाद बाहर निकाला जा सका. एक मोटरसाइकिल सवार भी इस दौरान अंडरपास में फंस गया और गहरे पानी में डूबने लगा. बताया जा रहा है कि उसे पानी की गहराई का अंदाजा नहीं रहा और इसी के चलते वो फंस गया.

पांच फीट से ज्यादा भरा पानी
दिनभर हुई बारिश के बाद मैनपुरी अंडरपास में पांच फीट से भी ज्यादा पानी भर गया. इस दौरान वाहन चालकों के लिए खतरनाक स्थिति पैदा हो गई और कई वाहन चालक पानी में फंस कर जूझते दिखाई दिए. गौरतलब है कि मैनपुरी अंडरपास में ये स्थिति हर साल बारिश के दौरान होती है लेकिन इस तरफ किसी का ध्यान नहीं जाता है. नगर परिषद की ओर से हर साल जलभराव की स्थिति न होने के दावे किए जाते हैं लेकिन मैनपुरी अंडरपास में भरने वाला पानी उन दावों की पोल खोलता नजर आता है.

इटावा: आगरा-लखनऊ एक्सप्रेस वे पर दिल्ली से गोंडा जा रही बस ट्रक से टकराई, चालक समेत दो की मौत,13 घायल

इटावा: आगरा-लखनऊ एक्सप्रेसवे पर बस और ट्रक में भिड़ंत

Eatwah Agra-Lucknow Expressway Accident: हादसा रात 1 बजे के आसपास हुआ. हादसे के बाद आगरा लखनऊ एक्सप्रेस वे पर अफरा-तफरी फैल गई. यूपीडा के कर्मियों ने स्थानीय थाना पुलिस को सूचना देने के साथ सभी घायलों को सैफई मेडिकल यूनिवर्सिटी में उपचार के लिए भर्ती कराया.

SHARE THIS:

इटावा. उत्तर प्रदेश (Uttar Pradesh) के इटावा (Etawah) जिले में सैफई थाना क्षेत्र के अंतर्गत आगरा-लखनऊ एक्सप्रेस (Agra-Lucknow Expressway) वे पर टिमरुआ कट के पास दिल्ली से गोंडा जा रही बस की टक्कर एक ट्रक से हो गई. इस हादसे (Road Accident) में बस ड्राइवर समेत दो की मौत हो गई, जबकि 13 अन्य घायल हो गए. हादसे की शिकार हुई बस में 65 यात्री सवार थे. मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने बस हादसे मे मारे गये लोगो के प्रति दुख व्यक्त व्यक्त करते हुए घायलो के निशुल्क उपचार के लिए डीएम और सीएमओ को निर्देशित किया है.

इटावा के एसएसपी डॉ ब्रजेश कुमार सिंह ने जानकारी देते हुए बताया कि हादसे के बाद स्थानीय सैफई थाना पुलिस ने तत्परता दिखाते हुए घायलों को एंबूलेंस के जरिये सैफई मेडिकल यूनीवसिर्टी में भर्ती कराया। मरने वालों में एक की पहचान चालक के रूप हुई है. चालक दिलीप शुक्ला प्रतापगढ़ का रहने वाला है. जबकि दूसरे की पहचान गोंडा के किशन शुक्ला के रूप में हुई है. यह हादसा सैफई थाना क्षेत्र के आगरा लखनऊ एक्सप्रेस वे पर चैनल नंबर 105 ओर 106 के बीच हुआ. हादसा रात 1 बजे के आसपास हुआ. हादसे के बाद आगरा लखनऊ एक्सप्रेस वे पर अफरा-तफरी फैल गई. यूपीडा के कर्मियों ने स्थानीय थाना पुलिस को सूचना देने के साथ सभी घायलों को सैफई मेडिकल यूनिवर्सिटी में उपचार के लिए भर्ती कराया.

हादसे के वक्त सभी यात्री सो रहे थे
दोनों मृतकों शवों को सैफई मेडिकल यूनिवर्सिटी के मोर्चरी में रखा गया है. दोनों के परिजनों को स्थानीय थाना पुलिस ने जानकारी दे दी है. सैफई मेडिकल यूनीवसिर्टी मे भर्ती घायलों में से एक के तीमारदार ने बताया कि हादसे के समय वो बस में सो रहे थे. जब दुर्धटना हो गई तो आनन फानन में सभी बस यात्रियों को पीछे के दरवाजे से बाहर निकाला गया. उसका कहना था कि बस के आगे ट्रैक्टरनुमा एक गाड़ी जा रही थी, जिसको बचाने के चक्कर मे यह दर्दनाक हादसा घटित हो गया. ऐसा बताया गया कि इस हादसे के कारण 2 घंटे के आसपास आगरा लखनऊ एक्सप्रेस वे पर आवागमन बंद भी रहा. एक लेन से ही वाहनों को धीमी गति से निकाला जा सका.

Etawah Tuesday Special: हनुमान जी के 'जिंदा' होने का एहसास कराती है इटावा के पिलुआ मंदिर की मूर्ति

इटावा में मौजूद है बजरंगबली का चमत्कारिक मंदिर

Etawah News: मंगलवार को बुढ़वा मंगल के अवसर पर बड़ी तादाद में हनुमानभक्त रात से ही यहां पहुंचना शुरू हो गये हैं. जिनकी सुरक्षा के लिए करीब 300 के आसपास पुलिसकर्मियों की तैनाती की गई है.

SHARE THIS:

इटावा. पवनपुत्र बजरंगबली के चमत्कारों के अनंत किस्से दुनिया भर में मशहूर हैं, लेकिन महाभारत कालीन सभ्यता से जुड़े उत्तरप्रदेश में इटावा के बीहड़ों में स्थित पिलुआ महावीर मंदिर केे बारे में मिथक और धारणा है कि इस मंदिर की हनुमान मूर्ति सैकड़ों सालों से उनके जिंदा होने का एहसास कराती नजर आती है. मंगलवार को बुढ़वा मंगल के अवसर पर बड़ी तादाद में हनुमानभक्त रात से ही यहां पहुंचना शुरू हो गये है. जिनकी सुरक्षा के लिए करीब तीन सौ के आसपास पुलिसकर्मियों की तैनाती की गई है. मंदिर परिसर के बाहर बड़ी तादाद में पूजा साग्रमी के अलावा प्रसाद आदि की दुकानें भी सज गई है.

ऐसा कहा जाता है कि साल में एक बार बुढ़वा मंगल के दिन यहां पर उत्तर प्रदेश, मध्यप्रदेश, राजस्थान और उत्तराखंड समेत देश के विभिन्न राज्यों के अलावा विदेशों से भी बड़ी संख्या में हनुमानभक्त पूजा अर्चना करने के लिए आते है. हनुमान मंदिर के मुख्य मंहत हरभजन दास का कहना है कि वैसे तो हनुमान जी की लेटी हुई मूर्ति इलाहबाद में भी है, लेकिन जैसी मूर्ति यहां पर है ऐसी दूसरी मूर्ति देश और दुनिया के किसी भी दूसरे हिस्से में नहीं है.

दावे कैसे-कैसे
हनुमान जी की इस प्रतिमा के मुख में हर वक्त पानी भरा रहता है. कितना भी प्रसाद मुंह में डालो पूरा प्रसाद मुंह में समा जाता है. आज तक किसी को पता नहीं चला कि यह प्रसाद जाता कहां हैं. महाबली हनुमान जी की प्रतिमा लेटी हुई है और लोगों की माने तो ये मूर्ति सांस भी लेती है और भक्तो के प्रसाद भी खाती है.

हनुमान जी खुद जीवित रूप में विराजमान!
कहा जाता है यहां हनुमान जी खुद जीवित रूप में विराजमान हैं. बीहड़ में स्थापति हनुमान मंदिर की मूर्ति अपने आप में कई चमत्कार समेटे हुए है, लेकिन आज तक इसके इस रहस्य का कोई पता नहीं लगा पाया कि इसके मुखार बिंदु में प्रसाद के रूप में जाने वाला दूध, पानी और लडडू आखिरकार जाता कहां है. इसको चमत्कार नहीं तो और क्या कहा जायेगा।

भक्तों की धारणा
हनुमान भक्तों का यह भी दावा है कि हनुमान जी इस मंदिर में जीवित अवस्था में है तभी एकांत में सुनने पर प्रतिमा से सांसें चलने की आवाज सुनाई देती है. बताया जाता है कि हनुमान जी के मुख से राम नाम की ध्वनि भी सुनाई देती है. बजरंगबली के ऐसे चमत्कारों के बारे में सुनकर एवं देखकर लोगों का विश्वास उनमें और भी ज्यादा बढ़ जाता है.

ऐसी है मान्यता
मान्यता है कि इस मंदिर में जो भी बजरंगबली के दर्शन करता है, उसके जीवन में कभी कष्ट नहीं आते हैं. हनुमान जी की मूूर्ति इतनी प्रभावशाली है कि इनकी आंखों में देखते ही लोगों की परेशानियां हल हो जाती हैं. इन्हें लगाया जाने वाला कई गुणा भोग भी इनके उदर को नहीं भर पाता है. यमुना नदी के किनारे बसे महाभारत कालीन सभ्यता से जुड़े यहां के बीहड़ में बंजरगबली के मंदिर में हनुमान जी की एक ऐसी मूर्ति स्थापित है, जिसके चमत्कार के आगे हर कोई नतमस्तक है. सैलून से कोई भी श्रद्धालु इस मूर्ति का मुख भरने का साहस नहीं कर पाया है.

मूर्ति उदगम की कथा
इस मूर्ति के उदगम के बारे में कहा जाता है कि प्रतापनेर के राजा हुक्म तेजप्रताप सिंह को ऐसा सपना आया, जिसमें इस मूर्ति के इसी स्थान पर निकले होने की बात बताई गई. इसके बाद राजा ने इस मूर्ति को अपने महल में स्थापित करने की कोशिश की, लेकिन राजा हार गया और हनुमान जी की मूर्ति आज अपने स्वरूप में हनुमान भक्तों की आस्था का केंद्र बना हुआ है. यह चमत्कारिक मंदिर चौहान वंश के अंतिम राजा हुक्म देव प्रताप की रियासत में बनाया गया था.

UP Anganwadi Recruitment 2021: यूपी के इन जिलों में अभी भी शुरू है आंगनवाडी भर्ती, जानें अंतिम तिथि

UP Anganwadi Recruitment 2021: सभी भर्तियां संविदा आधार पर की जाएंगीं.

UP Anganwadi Recruitment 2021: उत्तर प्रदेश आंगनवाडी भर्ती के तहत राज्य के करीब 53,000 पदों पर भर्ती की जाएगी. सभी भर्तियां संविदा आधार पर की जाएंगीं. जिसके अंतर्गत लगभग 58 जिलों में भर्ती की शुरुआत की गई है.

  • News18Hindi
  • LAST UPDATED : September 13, 2021, 21:52 IST
SHARE THIS:

नई दिल्ली. UP Anganwadi Recruitment 2021: उत्तर प्रदेश के कई जिलों में आंगनवाडी, मिनी आंगनवाडी और सहायिका पदों पर भर्ती अभी भी जारी है. हांलाकि कुछ जिलों में भर्ती प्रक्रिया संपन्न हो चुकी है. लेकिन अभी भी कई जनपद ऐसे हैं जहां पर भर्ती के लिए आवेदन मंगाए जा रहे हैं. गौरतलब है कि उत्तर प्रदेश आंगनवाडी भर्ती के तहत राज्य के करीब 53,000 पदों पर भर्ती की जाएगी. सभी भर्तियां संविदा आधार पर की जाएंगीं. जिसके अंतर्गत लगभग 58 जिलों में भर्ती की शुरुआत की गई है.

ऐसे में किन जिलों में भर्ती प्रक्रिया अभी भी शुरू है इसकी जानकारी नीचे साझा की जा रही है. इसके अलावा उम्मीदवार चाहें तो इस संबंध में उत्तर प्रदेश अभ्यर्थी बाल विकास सेवा एवं पुष्टहार विभाग की वेबसाइट से भी जानकारी प्राप्त कर सकते हैं.

UP Anganwadi Recruitment 2021: इन जिलों में शुरू है आवेदन प्रक्रिया
बता दें कि उत्तर प्रदेश में आंगनबाड़ी सहायिका के पदों पर लगभग 10 साल बाद भर्ती आयोजित की जा रही है. ऐसे में उत्तर प्रदेश आंगनवाड़ी भर्ती के इंतजार कर रहे उम्मीदवारों के लिए ये एक सुनहरा मौका है. भर्ती के लिए जारी अधिसूचना के अनुसार इन पदों के लिए केवल वही महिलाएं आवेदन कर सकती हैं, जो उत्तर प्रदेश की निवासी होंगीं. बता दें कि फिलहाल मैनपुरी, इटावा, जालौन, अलीगढ़, देवरिया, कासगंज, लखीमपुर खीरी और मथुरा जिले के लिए आवेदन प्रक्रिया अभी भी शुरू है. जिनके लिए अंतिम तिथि नजदीक ही हैं. ऐसे में इच्छुक उम्मीदवारों को जल्द से जल्द आवेदन कर लेना चाहिए. उम्मीदवार अंतिम तिथि से सम्बंधित जानकारी विभाग की वेबसाइट में चेक कर सकते हैं.

ये भी पढ़ें-
UP ANM Recruitment 2021: यूपी में एएनएम की 5000 नौकरियां, देखें पूरी डिटेल
Assam Rifles Recruitment 2021: असम राइफल्स में 10वीं पास के लिए नौकरियां

अखिलेश यादव पर BJP सांसद सुब्रत पाठक ने साधा निशाना, बोले- पहले चाचा शिवपाल से करें बात

इटावा में बीजेपी सांसद सुब्रत पाठक ने अखिलेश यादव पर बोला हमला

UP Assembly Election 2022: पाठक बोले कि अखिलेश यादव पहले अपने चाचा शिवपाल से बैठकर तो बात कर लें. उसके बाद बूथ ओर यूथ की बात करें. पाठक ने कहा कि सैफई परिवार की 20-25 साल पहले क्या स्थिति थी और आज क्या है यह किसी से छुपी नहीं है.

SHARE THIS:

इटावा. भारतीय जनता पार्टी के महामंत्री और कन्नौज के सांसद सुब्रत पाठक ने समाजवादी पार्टी के प्रमुख और उत्तर प्रदेश के पूर्व मुख्यमंत्री अखिलेश यादव पर हमला बोलते हुए कहा कि सपा प्रमुख के लिए बूथ और यूथ केवल उनका परिवार ही है. इटावा सदर विधानसभा में आयोजित प्रबुद्ध वर्ग सम्मेलन में . पाठक बोले कि अखिलेश यादव पहले अपने चाचा शिवपाल से बात कर लें. उसके बाद बूथ ओर यूथ की बात करें. पाठक ने कहा कि सैफई परिवार की 20-25 साल पहले क्या स्थिति थी और आज क्या है यह किसी से छुपा नहीं है. भ्रष्टाचार और लूट से नेताओं के महल बने हुए है.

बीजेपी सांसद ने कहा कि एक हमारे प्रधानमंत्री की मां 10×10 के छोटे से कमरे में रहती है. हमारे योगी बाबा ने कोई मकान नहीं बनाया, मंदिर से आये हैं और अगर प्रदेश की जनता आशीर्वाद नहीं देगी तो वापस मंदिर में ही जाएंगे.। हमने लूटकर कोई मकान-महल नहीं बनाया। पाठक ने कहा कि पीएम मोदी देश को सुपरपावर बनाना चाहते है. प्रधानमंत्री समाज के हर वर्ग के उत्थान के लिए प्रयासरत है. प्रदेश मे योगी सरकार के नेतृत्व मे आए बदलाव को लोग महसूस कर रहे है. प्रदेश को न सिर्फ अपराधियों से मुक्त किया, बल्कि उनकी अवैध संपत्तियों को भी जब्त किया गया.

गिनाई सरकार की उपलब्धियां
राममंदिर, धारा 370 हटाने और कोरोना काल मे 80 करोड़ देशवासियों को निशुल्क खाघान्न और सभी देशवासियों को मुफ्त वैक्सीन उपलब्ध कराने का भी जिक्र करते हुए सांसद ने कहा कि ये सराहनीय कार्य करने के लिए जनता मुक्तकंठ से प्रशंसा कर रही है. उन्होंने कहा कि देश के भ्रष्टाचारियों ने देश में महल बना लिए . चाहे कांग्रेस हो या समाजवादी परिवार लेकिन हमारे प्रधानमंत्री ने कोई मकान कोठी नहीं बनाई. हमने गांव में गरीब का घर व शौचालय बनाया है. हमारी सरकारों में गरीबों का उत्थान हुआ है. भले लोगों को समाज में आगे आना ही चाहिए । इतिहास में भी प्रबुद्ध वर्ग सामने आया था और समाज को बचाया था. उन्होंने कहा कि हमारे पड़ोस में ही कट्टरपंथियों ने मन्दिर-गुरुद्वारे तोड़ दिए है. संस्कृति नष्ट कर दी गई. 75 साल पहले के पाकिस्तान में हिन्दू 27 प्रतिशत हुआ करता था जो अब मात्र 1 प्रतिशत ही रह गया तो आखिर क्यों? अफगानिस्तान में तालिबान की ओर से किए गए अत्याचार का किसी सेक्युलर ने विरोध नहीं किया. हमारे समाज को अंग्रेजों व मुगलों के बाद कांग्रेस, समाजवादी व बहुजन समाज पार्टी प्रदेश को जाति में बांट रही है. हम सत्ता समाज को जोड़ने के लिए चाहते है, लेकिन अन्य पार्टियां समाज को तोड़ने का काम करना चाहती है.

Etawah: लिफ्ट देकर दो बहनों से गैंगरेप, एक आरोपी ने पीड़िता को सिगरेट से दागा, 3 अरेस्ट

पुलिस ने गैंगरेप के तीनों आरोपियों को मौके पर ही दबोच लिया.

crime in UP : इटावा के वरिष्ठ पुलिस अधीक्षक डॉ. बृजेश कुमार सिंह बताया कि पुलिस ने तीनों आरोपियों को मौका-ए-वारदात से गिरफ्तार कर लिया है. पकड़े गए आरोपियों में दो एंबुलेंस चालक हैं जबकि तीसरा शातिर अपराधी.

SHARE THIS:

इटावा. उत्तर प्रदेश के इटावा जिले की सैफई में दो सगी बहनों से गैंगरेप का मामला सामने आया है. इटावा के वरिष्ठ पुलिस अधीक्षक डॉ. बृजेश कुमार सिंह बताया कि पुलिस ने तीनों आरोपियों को मौका-ए-वारदात से गिरफ्तार कर लिया है. पकड़े गए आरोपियों में दो एंबुलेंस चालक हैं जबकि तीसरा शातिर अपराधी. पुलिस ने गिरफ्तार तीनों आरोपियों को फिलहाल जेल भेज दिया है और दोनों बहनों की मेडिकल कराई जा रही है.

सैफई थाना प्रभारी मो. हमीद सिद्दीकी के मुताबिक, पुलिस टीम के साथ वे गश्त पर निकले थे, तभी सायरन की आवाज पर एक दुकान से निकलकर तीन लोग भागने लगे. शक होने पर थाना प्रभारी ने गाड़ी खड़ी की, तो देखा कि दुकान का आधा शटर खुला था. जब अंदर देखा तो रोती हुई एक महिला बैठी मिली. तब इन महिलाओं ने खुद के साथ हुई वारदात की जानकारी दी.

इसे भी पढ़ें : हिस्ट्रीशीटर अपराधी लाल जी गुर्जर ने फांसी लगा कर की आत्महत्या, जानें पूरा मामला

छोटी बहन ने पुलिस को बताया कि उसका अपने पति से विवाद चल रहा था, जिसकी शिकायत करने वह महिला थाना इटावा आई थी. उसके साथ उसकी बड़ी बहन भी गई थी. थाने में पति से समझौता करा दिया गया. जिसके बाद दोनों बहनें टेम्पो से शाम 6 बजे सैफई आईं. फिर वहां कुछ समय तक उन्होंने ऑटो का इंतजार किया. जब कोई साधन नहीं मिला तो दोनों बहनें अगले चौराहे पर आ गईं, तब तक अंधेरा घिरने लगा था. इसी बीच सांवले रंग का एक शख्स इन दोनों के पास आया. उसने इन दोनों बहनों को भरोसा दिलाया कि वे जहां जा रही हैं, उसे भी वहीं जाना है. बाद में इस शख्स का नाम हरकेश यादव पता चला. दोनों बहनें विश्वास में आकर उसके साथ चल पड़ीं.

इसे भी पढ़ें : दूसरे युवक पर आया दिल तो बांग्लादेशी ने कर दी महिला की हत्या, ऐसे हुई गिरफ्तारी

रास्ते में हरकेश ने दोनो बहनों से कहा कि तुमलोग भूखी होगी, पहले खाना खा लो, फिर पहुंचा देंगे. जब दोनों बहनों ने मना किया तो हरकेश ने मारपीट की और जबरदस्ती होटल ले गया. वहां उसने फोन कर अपने साथी अश्वनी को बुला लिया. खाना खाने के दौरान उन्होंने दोनों बहनों को जबरन शराब पिलाने की कोशिश की. जब दोनों बहनों ने पीने से इनकार किया तो हरकेश और अश्वनी ने जबर्दस्ती पिलाने की कोशिश की. होटल वाले ने भी इन दोनों की हरकतों का विरोध किया. तब दोनों आरोपियों ने होटल वाले के साथ भी गाली-गलौज की. फिर हरकेश और अश्वनी दोनों बहनों को जबरन मोटरसाइकिल पर बैठाकर सैफई से बाहर रेलवे पुल के नीचे एक तिराहा पर ले गए, जहां कुछ दुकान व कमरे बने हुए हैं. यहां इन दोनों ने फोन करके अपने तीसरे साथी साहिल को बुलाया जो चार पहिया गाड़ी से आया.

इसे भी पढ़ें : नोएडा: घर में घुसकर 15 साल की लड़की से रेप, आरोपी गिरफ्तार

पीड़िताओं ने बताया कि तीनों ने हम दोनों बहनों को मारा पीटा और धमकाया कि जैसा हम लोग कहेंगे वैसा करो, नहीं तो जान से हाथ धोना पड़ेगा. छोटी बहन ने कहा कि उसके बाद मेरी बहन को थप्पड़ मारा और एक कमरे में बंद कर दिया. इसके बाद हरकेश ने छत पर ले जाकर मेरे साथ बलात्कार किया. इस दौरान उसने जलते सिगरेट से मेरे पैर दागे. इसी दौरान पुलिस की गाड़ी का सायरन बजा तो वे तीनों हमें छोड़कर भागे.

इसे भी पढ़ें : तलाक के लिए पति ने रची खौफनाक साजिश, गर्भवती पत्नी को लगवाया HIV इंजेक्शन

पुलिस ने कहा कि नशे की हालत में तीनों आरोपी गिरफ्तार किए गए हैं. गिरफ्तार आरोपियों में हरिकेश यादव ग्राम झींगुपुर, थाना सैफई का रहनेवाला है, जबकि अश्वनी और साहिल चौबेपुर थाना के. अश्वनी और साहिल मेडिकल यूनिवर्सिटी में प्राइवेट एंबुलेंस चलाते हैं. वारदात का मुख्य आरोपी हरकेश यादव पहले भी 307 के मामले में जेल जा चुका है. आरोपियों के कब्जे से एक स्विफ्ट डिजायर कार, शराब की 2 बोतलें जब्त की गई हैं. सैफई थाना प्रभारी हामिद सिद्दीकी ने बताया कि पीड़ित बहनों की ओर से आए प्रार्थना पत्र के आधार पर आरोपियों के खिलाफ कार्यवाही अमल में लाई है.

इटावा: हिस्ट्रीशीटर अपराधी लाल जी गुर्जर ने फांसी लगा कर की आत्महत्या, जानें पूरा मामला

इटावा: हिस्ट्रीशीटर अपराधी लाल जी गुर्जर ने की फांसी लगा कर आत्महत्या.

Uttar Pradesh News: उत्तर प्रदेश के इटावा जिले के सहसो थाना क्षेत्र के अंतर्गत हनुमंतपुरा में हिस्ट्रीशीटर अपराधी ने फांसी लगाकर आत्महत्या कर ली. आत्महत्या करने की कोई वजह पता नहीं चली है. पुलिस मामले की जांच कर रही है

SHARE THIS:

इटावा. उत्तर प्रदेश (Uttar Pradesh) के इटावा (Etawah) जिले के सहसो थाना क्षेत्र के अंतर्गत हनुमंतपुरा में लाल जी गुर्जर नाम के हिस्ट्रीशीटर अपराधी ने फांसी लगाकर आत्महत्या (Suicide) कर ली. लाल जी गुर्जर के आत्महत्या करने की वजह स्पष्ट नहीं है. उसके परिजन भी इसकी वजह नहीं बता पा रहे हैं, जिससे यह बात स्पष्ट हो कि हिस्ट्रीशीटर ने आत्महत्या क्यों की है.

जिले के वरिष्ठ पुलिस अधीक्षक (एसएसपी) डॉ. बृजेश कुमार सिंह ने बताया कि रविवार सुबह स्थानीय थाना पुलिस को इस बात की जानकारी मिली कि हनुमानपुरा में लाल जी गुर्जर नामक युवक ने फांसी लगा कर आत्महत्या कर ली है. पुलिस ने मौके पर पहुंचकर शव को अपने कब्जे में लेकर उसे पोस्टमॉर्टम के लिए भेज दिया है. उन्होंने बताया लाल जी गुर्जर सहसो थाने का हिस्ट्रीशीटर था. 34 ए नंबर से लाल जी की हिस्ट्रशीट खुली हुई थी. लाल जी के खिलाफ सहसो थाने में छह आपराधिक मामले दर्ज हैं. लालजी के खिलाफ दर्ज मामलों में दुराचार (रेप), मारपीट, शराब तस्करी, गुंडा एक्ट के अलावा अवैध असलाह लेकर लोगों को धमकाने के मामले दर्ज हैं.

उन्होंने बताया कि आत्महत्या करने वाला लाल जी सहसो थाने का सक्रिय अपराधी था, जिसकी हर समय निगरानी पुलिस की टीम करती रहती थी. वहीं, सहसो थाना प्रभारी गंगा दास गौतम ने बताया कि लाल जी गुर्जर ने पिछले दिनों तमंचे की नोक पर एक शख्स को धमकाया था, जिसका वीडियो वायरल होने के बाद पुलिस ने लाल जी को धमकाने में प्रयुक्त किए गए तमंचे के साथ गिरफ्तार कर जेल भेज दिया था. इसके बाद वो अदालत से जमानत पर रिहा हुआ था.

लाल जी के चाचा धन सिंह ने बताया कि वो अपने घर मे एकांत में रहता था. देर रात साड़ी का फंदा लगाकर उनसे आत्महत्या कर ली, लेकिन वो नहीं बता सकते कि उसने ऐसा क्यों किया.

इटावा सफारी देखकर गदगद हुए 21 अमेरिकी पर्यटक, विजिटर बुक में बांधे तारीफों के पुल

इटावा सफारी पहुंचे अमेरिकी एंबेसी से 21 पर्यटक.

Uttar Pradesh News: अमेरिकी पर्यटक सफारी पार्क को देख कर गदगद हैं. वो सफारी पार्क की भव्यता से काफी खुश हैं. शानदार सफारी का निर्माण करने के लिए उन्होंने धन्यवाद दिया. सफारी में नेचुरल एयर है जो शहर के अंदर नहीं है. कुछ पर्यटकों का कहना था कि ऐसा लगाता है कि इटावा सफारी में आने के बाद अफ्रीका की सफारी के अंदर आ गया. यहां ग्रीनरी (हरियाली) बहुत अधिक है. बिल्कुल भी प्रदूषण नहीं है

SHARE THIS:

इटावा. अखिलेश सरकार के कार्यकाल के दौरान तैयार हुई इटावा सफारी (Etawah Safari) देशी-विदेशी पर्यटकों (Foreign Tourists) को काफी लुभा रही है. शनिवार को अमेरिकी दूतावास (American Embassy) में काम करने वाले 21 लोग अपने परिवार के साथ सफारी पार्क घूमने पहुंचे. इससे इटावा सफारी के अधिकारियों की खुशी का ठिकाना नहीं रहा. इससे पहले एक साथ इतने विदेशी पर्यटक कभी भी सफारी का भ्रमण करने के लिए नहीं आये थे. सफारी भ्रमण करने आये 21 अमेरिकी नागरिकों में 11 पुरूष और दस महिलाएं थीं. यह सभी देश की राजधानी दिल्ली (Delhi) स्थित अमेरिकी दूतावास में कार्य करते हैं.

अमेरिकन एंबेसी में कार्यरत अधिकारी और उनके परिवार के सदस्य चंबल सफारी के संचालक रामप्रताप सिंह की अगुवाई में इटावा सफारी घूमने आये थे. सिंह ने बताया कि तीन दिन के चंबल भ्रमण पर अमेरिकी अधिकारी और उनके परिवार के करीब 30 सदस्य यहां आये हुए हैं. इनमें से आठ सदस्य बटेश्वर में भ्रमण पर हैं. शनिवार को दोपहर बाद 71 वर्षीय डॉ. फ्रेजियर के सरंक्षण में यह सभी सदस्य इटावा सफारी पहुंचे. सफारी भ्रमण करने के बाद फ्रेजियर ने विजिटर बुक में सफारी के निर्माण से लेकर व्यवस्था और बेहतर प्रबंधन के बारे में तारीफों के पुल बांधे. उन्होंने शानदार शब्दों में कमेंट लिख पर्यटकों को सफारी आने का संदेश दिया.

सफारी पार्क घूमकर गदगद हुए अमेरिकी पर्यटक

अमेरिकी पर्यटक सफारी पार्क को देख कर गदगद हैं. वो सफारी पार्क की भव्यता से काफी खुश हैं. शानदार सफारी का निर्माण करने के लिए उन्होंने धन्यवाद दिया. सफारी में नेचुरल एयर है जो शहर के अंदर नहीं है. कुछ पर्यटकों का कहना था कि ऐसा लगाता है कि इटावा सफारी में आने के बाद अफ्रीका की सफारी के अंदर आ गया. यहां ग्रीनरी (हरियाली) बहुत अधिक है. बिल्कुल भी प्रदूषण नहीं है.

उन्होंने बताया कि वो अपने साथ साइकिल भी लेकर आये हैं, ताकि चंबल में साइकिल चलाकर आंनद का एहसास कर सकें. सिंह ने उम्मीद जताई कि अमेरिकन एंबेसी में काम करने वाले विदेशियों का इतनी बड़ी तादाद में आना इस बात का संकेत दे रहा है कि आने वाले दिनों में अन्य देशों के दूतावासों में काम करने वाले लोग भी सफारी का भ्रमण कर सकते हैं.

कड़ी सुरक्षा के बीच पर्यटकों को सफारी का भ्रमण कराया गया

इटावा सफारी पहुंचे अमेरिकियों ने इसके मुख्य गेट पर पत्थर के बने शेरों के सामने फोटो सेशन भी कराया. उन्हों कड़ी सुरक्षा के बीच सफारी में भ्रमण कराया गया. सफारी के क्षेत्रीय वन अधिकारी विनीत सक्सेना ने सभी पर्यटकों को भ्रमण कराया. उन्होंने बताया कि दोपहर करीब साढ़े तीन बजे अमेरिकी पर्यटकों का दल सफारी आया जो शाम सवा छह बजे के बाद भ्रमण कर वापस लौट गया. उन्होंने बताया कि अमेरिकी पर्यटकों को सफारी में मौजूद सभी वन्य जीवों का दीदार कराया गया. जिसका सभी ने खूब आंनद लिया. अमेरिकी पर्यटकों ने डायरेक्टर के.के सिंह और डिप्टी डायरेक्टर अरूण सिंह से भी मुलाकात की. इससे पहले दिसंबर 2019 में तीन जापानी पर्यटक अपने भारतीय परिचितों के साथ इटावा सफारी पार्क का दीदार करने के लिए आए थे.

बता दें कि 24 नंबवर, 2019 को शुभारंभ के बाद लगातार देशी-विदेशी पर्यटकों के सफारी आने का सिलसिला जारी है. 26 नवंबर को एक जर्मन युगल आया ता. उसके बाद जापानी पर्यटकों की आमद ने सफारी की लोकप्रियता को बढ़ाया, लेकिन अब एक साथ 21 अमेरिकी पर्यटकों ने यहां पहुंचकर प्राकृतिक आवास में वन्य जीवों को करीब से देखा.

UP Assembly Election: शिवपाल यादव ने चुनाव पूर्व सर्वे पर उठाया सवाल, बोले- जनता को किया जा रहा भ्रमित

शिवपाल यादव ने यूपी चुनाव सर्वे को बताया भ्रामक

UP Political News: एक न्यूज चैनल ने सर्वे के जरिये एक बार फिर से उत्तर प्रदेश मे भारतीय जनता पार्टी की सरकार के दुबारा सत्ता में काबिज होने का दावा किया गया है. जिसको लेकर उत्तर प्रदेश की राजनीति में सरगर्मी एक बार फिर तेज हो गई है.

SHARE THIS:

इटावा. चुनावी सर्वे (Pre-Poll Survey) पर सवाल उठाते हुए प्रगितशील समाजवादी पार्टी लोहिया (PSP Lohia) के अध्यक्ष शिवपाल सिंह यादव (Shivpal Singh Yadav) ने कहा कि यूपी विधानसभा 2022 के चुनाव (UP Assembly Election 2022) को लेकर आये सर्वे जनता को भ्रमित करने वाले हैं. शिवपाल सिंह यादव इटावा मे एक घार्मिक समारोह मे भाग लेेने के बाद चुनिंदा पत्रकारो से बात कर रहे थे. उन्होने कहा कि अभी चुनाव तक बहुत सारे सर्वे आयेंगे. उन्होने कहा कि हमारी जनता से यही अपील है कि जनता इन सर्वे से भ्रमित न हो. चुनाव में निर्णय जनता को करना करना है. इस बार जनता सही निर्णय लेगी.

बताते चले कि एक न्यूज चैनल ने सर्वे के जरिये एक बार फिर से उत्तर प्रदेश मे भारतीय जनता पार्टी की सरकार के दुबारा सत्ता में काबिज होने का दावा किया गया है. जिसको लेकर उत्तर प्रदेश की राजनीति में  सरगर्मी एक बार फिर तेज हो गई है. सर्वे में भारतीय जनता पार्टी को 2022 यूपी विधानसभा चुनाव में एक बार फिर से उत्तर प्रदेश में पूर्ण बहुमत की सरकार बनते हुए दिखाया गया है, जबकि मुख्य विपक्षी समाजवादी पार्टी को एक सैकड़ा के आसपास ही सीटें मिलती हुई दिखाई दे रही है. इसी सर्वे को लेकर के समाजवादी पार्टी से लेकर के बहुजन समाज पार्टी और कांग्रेस ने प्रतिक्रिया देते हुए इसे आधारहीन बताया है.

राजनेताओं ने भी उठाया सवाल
कई राजनेताओं ने इस बात पर भी सवाल उठाया है कि पश्चिम बंगाल में भी पूर्ण बहुमत की सरकार सर्वे के आधार पर गठित होती हुई दिखाई दे रही थी, लेकिन जब नतीजा सामने आया तो भारतीय जनता पार्टी सत्ता से कोसों दूर थी. बसपा सुप्रीमो मायावती ने तो चुनावी सर्वे पर सवाल उठाते हुए कहा कि इस सर्वे का कतई कोई औचित्य नहीं बनता है. यह सर्वे भारतीय जनता पार्टी को हर हाल में प्रमोट कर रहे हैं. इसलिए इस पर कोई भी भरोसा नहीं किया जा सकता है. समाजवादी पार्टी के राष्ट्रीय अध्यक्ष अखिलेश यादव बेशक चुनावी सर्वे पर सवाल न उठा रहे हों. लेकिन वह यह कहने से चूक रहे हैं कि भारतीय जनता पार्टी झूठ का कारोबार करने में माहिर है.

Etawah News: बेटी ने भरा प्रेमी के नाम का मांग में सिंदूर, मां ने उतारा मौत के घाट

इटावा: बेटी की हत्या कर मां ने रची थी उसके प्रेमी के खिलाफ साजिश. हुई गिरफ्तार.

Etawah Crime News - इटावा जिले के उमराई गांव में एक मां ने अपनी ही बेटी को मार डाला. बेटी अपने प्रेमी से शादी करना चाहती थी और उसने उसके नाम का सिंदूर अपनी मांग में भर लिया था. इस पर गुस्से में आई मां ने उसकी गला दबाकर हत्या कर दी. पुलिस ने पूरे मामले का खुलासा कर दिया है.

SHARE THIS:

इटावा. उत्तर प्रदेश (Uttar Pradesh) के इटावा (Etawah) जिले के वैदपुरा इलाके से एक ऐसी खबर आई है जिसमें रिश्तों का ही खून कर दिया गया. यहां के उमराई गांव से पुलिस ने एक महिला को गिरफ्तार कर उसे अपनी ही बेटी का कातिल बताया है. लड़की के माथे पर लगे सिंदूर को देखने के बाद पुलिस ने बारीक पड़ताल शुरू की थी, जिसके बाद पर्तें जब खुलीं तो हत्यारोपी कोई और नहीं बल्कि लड़की की मां ही निकली.

इटावा के पुलिस अधीक्षक ग्रामीण ओमवीर सिंह ने बताया कि असल मे बेटी की हत्या की यह घटना इटावा के वैदपुरा इलाके के उमराई गांव में 28 अगस्त की शाम को घटी. इसमें परिजनों की ओर से पहले बताया गया कि लड़की को परेशान करने वाला शख्स अपने दो साथियों के साथ हत्या की वारदात को अंजाम देने के बाद मौके से फरार हो गया. पुलिस ने लड़की के पिता के प्रार्थना पत्र पर लड़की के प्रेमी और उसके दो साथियों के खिलाफ मामला दर्ज कर लिया.

लड़की की मौत के बाद परिजनों ने राजकुमार और उसके साथियों के खिलाफ मामला दर्ज कराया था. वरिष्ठ पुलिस अधीक्षक ने घटना के खुलासे के लिए क्षेत्राधिकारी सैफई के नेतृत्व में एसओजी इटावा, थाना वैदपुरा, थाना सैफई से 3 पुलिस की टीमें गठित कीं.

जांच में साक्ष्यों के आधार पर यह तथ्य मिले कि मृतका प्रियंका की गला दबाकर हत्या उसकी मा निर्मला देवी ने की है. इसके बाद बुधवार को पुलिस ने महोला जेल रोड रेलवे पुल के पास से उसे गिरफ्तार कर लिया. हत्यारोपी मां निर्मला ने बताया कि उसकी पुत्री का गांव के राजकुमार से प्रेम प्रंसग चल रहा था. जिसका सभी परिवारीजनों ने विरोध किया. निर्मला देवी ने बताया कि वह और उसकी छोटी बेटी इटावा से दवा लेकर घर लौटे तो मृतका प्रियंका अपनी मांग में सिन्दूर भर रही थी. इसके विरोध के दौरान उसने गुस्से में आकर बेटी प्रियंका को धक्का देकर बेड पर गिरा कर उसका गला दबा दिया था, जिस कारण उसकी मृत्यु हो गई.

पुलिस के अनुसार मां ने ही अपने इस कृत्य को छुपाने एवं पुलिस से बचने के लिए प्रेमी राजकुमार पर अपनी पुत्री की हत्या कर फांसी पर लटकाने षडयंत्र रचकर उसके विरुद्ध अभियोग पंजीकृत कराया गया था.

...जब अंडर ब्रिज में फंसी एंबुलेंस और सवारियों से भरी बस, गर्भवती महिला की अटकी सांसें

...जब अंडर ब्रिज में फंसी एंबुलेंस और सवारियों से भरी बस

Etawah News: अंडरब्रिज में पानी भरने से एक घंटे तक आगरा फोर्ट डिपो की बस फंसी रही. बताया जा रहा है कि बस में 30 सवारियां मौजूद थी.

SHARE THIS:

इटावा. उत्तर प्रदेश के इटावा (Etawah) में भारी बारिश (Heavy Rainfall) अब लोगों पर आफत बनकर टूट रही है. नदी-नालों में उफान के कारण असमय ही लोगों को बाढ़ जैसी आपदा का सामना करना पड़ रहा है. इसी बीच रविवार को उस वक्त अफरा तफरी फैल गई जब एक रोडवेज बस और एम्बुलेंस अंडर ब्रिज में जाकर फंस गई. दरअसल इटावा हाइवे पर बने मैनपुरी अंडर ब्रिज में गर्भवती महिला को अस्पताल लेकर जा रही एंबुलेंस समेत दर्जनों वाहन फंस गए. जिनको निकालने के लिए जेसीबी का सहारा लेना पड़ा. सभी फंसे हुए वाहनों को क्रेनों को जरिए निकाला जा सका. अंडर ब्रिज में पानी भरने से एक घंटे तक आगरा फोर्ट डिपो की बस फंसी रही. बताया जा रहा है कि बस में 30 सवारियां मौजूद थी.

जेसीबी की मदद से बस को निकाला गया. तेज मूसलाधार बारिश में मैनपुरी मार्ग पर बने अंडरपास में भरा पानी गर्भवती महिला को अस्पताल लेकर जा रही एंबुलेंस और यात्रियों से भरी रोडवेज बस पानी में फंसी. जिसे जेसीबी मशीन के द्वारा रेस्क्यू कर एंबुलेंस और रोडवेज बस को पानी के बाहर निकाला गया. यह कोई पहला मौका नहीं है जब इस अंडर ब्रिज में भारी बरसात के दौरान इस तरह से वाहन फंसे हो, इससे पहले भी कई घटनाएं सामने आ चुकी है.

Ayodhya News: राष्ट्रपति कोविंद ने परिवार संग किए रामलला के दर्शन, बोले- सभी में और सभी के हैं श्रीराम

फिरोजाबाद की रहने वाली कुसम नामक महिला बस यात्री का कहना है कि वो इटावा आ रही थी. लेकिन अंडरब्रिज में पानी भरने से उसकी बस फंस गई. इसी तरह की बेबसी कुछ आगरा से आ रही मालती नामक महिला बस यात्री ने भी बयान की. अंडर ब्रिज में फंसी बसों और एंबुलेंस को निकालने में लगे नगर पालिका परिषद के इंस्पेक्टर आनंद कुमार का कहना है कि भारी बरसात के पीछे जो एंबुलेंस और बस फंसी हुई थी उन्हें नगर पालिका स्टाफ के जरिए बाहर निकाल दिया गया है. लेकिन इसके बावजूद भी कई लोगों को रोका जा रहा है. वह रुकने का नाम नहीं ले रहे हैं और इसी वजह से यह हादसे आम हो चुके हैं.

Etawah News: एसपी सिटी को थप्पड़ मारने वाला बना बीजेपी युवा मोर्चा का जिलाध्यक्ष

इटावा: भाजयुमो का जिलाध्यक्ष बनने पर संजू चौधरी का हुआ स्वागत सम्मान

Etawah BJP News: भारतीय जनता युवा मोर्चा के प्रदेश अध्यक्ष प्रांशु दत्त द्विवेदी ने संजू चौधरी के मनोनयन का पत्र जारी किया है. साथ ही प्रांशु और संजू की तस्वीर भी जारी की गई है. युवा मोर्चा का जिलाध्यक्ष बनने के बाद संजू की जोरदार स्वागत की तैयारी शुरू हो गई है.

SHARE THIS:

इटावा. गत 10 जुलाई को बढ़पुरा ब्लॉक प्रमुख चुनाव (Block Pramukh Election) के लिए हुए मतदान के दौरान पुलिस (Police) पर फायरिंग और एसपी सिटी प्रशांत कुमार (SP City Prashant Kumar) को थप्पड़ मारने वाले विवेक चौधरी (Vivek Chaudhary) उर्फ संजू को बीजेपी युवा मोर्चा (BJP YUva Morcha) का जिलाध्यक्ष नियुक्त किया गया है. भारतीय जनता युवा मोर्चा के प्रदेश अध्यक्ष प्रांशु दत्त द्विवेदी ने संजू चौधरी के मनोनयन का पत्र जारी किया है. साथ ही प्रांशु और संजू की तस्वीर भी जारी की गई है. युवा मोर्चा का जिलाध्यक्ष बनने के बाद संजू की जोरदार स्वागत की तैयारी शुरू हो गई है.

गौरतलब है कि एसपी सिटी को थप्पड़ मारकर सुर्ख़ियों में आए संजू को पुलिस ने गिरफ्तार कर जेल भी भेजा था. 16 जुलाई को संजू जेल से जमानत पर रिहा हुआ था. एक आरोपी को युवा मोर्चा का अध्यक्ष बनाए जाने पर क्षेत्रीय अध्यक्ष मानवेन्द्र सिंह ने कहा कि इस बारे में उन्हें कोई जानकारी नहीं है.

ब्लॉक प्रमुख चुनाव के दौरान मारा था थप्पड़
बता दें कि 10 जुलाई को ब्लॉक प्रमुख चुनाव के मतदान के दौरान बढ़पुरा ब्लॉक के बाहर सैकड़ों की संख्या में भीड़ इकट्ठा हुई थी. एसपी सिटी प्रशांत कुमार के नेतृत्व में मौके पर मौजूद भीड़ को हटाने की  कोशिश कर रही थी. तभी भीड़ में से फायरिंग शुरू हो गई. इसी बीच संजू चौधरी ने प्रशांत कुमार को थप्पड़ जड़ दिया. इसके बाद पुलिस ने संजू चौधरी को गिरफ्तार कर जेल भेज दिया था.

सपा-कांग्रेस ने साधा निशाना 
उधर समाजवादी पार्टी के जिला अध्यक्ष गोपाल यादव का कहना है कि बीजेपी अपराध मुक्त प्रदेश का दावा करती है, लेकिन एसपी को थप्पड़ मारने वाले एक अपराधी को युवा मोर्चा का अध्यक्ष बना कर सम्मान देती है. बीजेपी का यह दोहरा चरित्र किसी से छिपा नहीं है. इससे साफ है कि बीजेपी का अपराध मुक्त नारा केवल विरोधियों के खिलाफ अभियान का ही हिस्सा है. काग्रेंस के पूर्व जिलाध्यक्ष उदयभान सिंह यादव भी भाजयुमो अध्यक्ष की ताजपोशी पर सवाल उठाते हुए कहा कि बीजेपी स्वच्छ राजनीति की बात करती है, लेकिन जिस तरह से एसपी को थप्पड़ मारने वाले को अध्यक्ष बनाया गया है, उससे साफ है कि बीजेपी कहती कुछ है और करती कुछ है.

Etawah News: फांसी पर लटकी मिली किसान की बेटी, भरी हुई थी मांग, ग्रामीणों ने गैंगरेप की भी जताई आशंका

Etawah: हत्या या आत्महत्या की गुल्थी सुलझाने में जुटी पुलिस (सांकेतिक तस्वीर)

Etawah Crime News: मृतका अविवाहित थी, जब वह फांसी पर लटकती मिली, तो उसकी मांग भरी हुई थी. मांग मृतका ने खुद भरी या आरोपी ने, यह बात आरोपी के पकड़ने जाने के बाद ही साफ हो सकेगी.

SHARE THIS:

इटावा. उत्तर प्रदेश (Uttar Pradesh) के इटावा (Etawah) जिले के वैदपुरा थाना क्षेत्र के उमरई गांव में एक किसान की बेटी की मौत पर परिजनों ने गांव के ही एक युवक पर साथियों संग उसकी हत्या (Murder) करने का आरोप लगाया है. इटावा के एसएसपी डॉ ब्रजेश कुमार सिंह ने घटना की पुष्टि करते हुए न्यूज 18 को टेलीफोन पर बताया कि किशोरी की मौत को लेकर कई तरह के संगीन आरोप लगाये जा रहे हैं. इसलिए किशोरी के शव का पोस्टमार्टम तीन डॉक्टरों के पैनल से कराया जा रहा है. किशोरी के परिजनो की ओर से दिये गये प्रार्थना पत्र के आधार पर वैदपुरा थाने में समुचित धाराओं में मामला भी दर्ज कर आरोपियों की सरगर्मी से तलाश शुरू कर दी है.

मृतका अविवाहित थी, जब वह फांसी पर लटकती मिली, तो उसकी मांग भरी हुई थी. मांग मृतका ने खुद भरी या आरोपी ने, यह बात आरोपी के पकड़ने जाने के बाद ही साफ हो सकेगी. मांग भरी हुई देखने के बाद पुलिस और गांव वालों के बीच तरह-तरह की चर्चाएं हो रही हैं. हालांकि पुलिस पूरे मामले में सतर्कता बररते हुए अपनी तफ्तीश को आगे बढ़ा रही है.

गांव के एक युवक व उसके साथियों पर हत्या का आरोप
उधर ग्रामीणों व परिजनों ने गांव के एक युवक व उसके साथियों पर हत्या कर शव को फांसी लटकाने का आरोप लगाया. आरोपी युवक की मृतका से दोस्ती थी. पिछले कुछ समय से दोनों में विवाद चल रहा था. इसी को हत्या की वजह बताया गया है. मृतका की मां ने बताया कि शनिवार देर शाम वह छोटी बेटी के साथ वैदपुरा स्थित एक डॉक्टर की क्लीनिक में दवा लेने के लिए गई थीं. पति घरेलू काम से इटगांव गए थे. घर में बड़ी बेटी अकेली थी. जब वह घर लौटी तो गांव का एक युवक उनके घर से निकल कर जाता दिखाई दिया. वह छोटी बेटी के साथ भीतर पहुंची तो बड़ी बेटी कमरे में पंखे के कुंडे के सहारे फांसी पर लटक रही थी. उनके शोर मचाने पर आसपास के लोग मौके पर पहुंचे और बेटी को फंदे से नीचे उतारा. तब तक उसकी मौत हो चुकी थी. घटना की सूचना पाकर एएसपी ग्रामीण, सीओ सैफई और वैदपुरा प्रभारी फोर्स के साथ मौके पर पहुंचे और छानबीन की. तहरीर व पोस्टमार्टम रिपोर्ट के आधार पर आगे की कार्रवाई की जाएगी.

OMG: खूबसूरत दुल्हन दिखाकर मंडप में भेज दी 50 साल की महिला, थाने पहुंचा दूल्हा, बोला- ये तो ठगी है

दूल्हें ने पुलिस से मामले की शिकायत की है.

UP Crime News: शादी के नाम पर ठगी करने वाले परिवार के ऊपर दूल्हा और उसके परिजनों से जान से मारने की धमकी देने का भी लगाया आरोप. पुलिस कर रही है छानबीन. आरोपियों पर पहले भी ठगी के ऐसे मामलों को अंजाम देने का है आरोप.

SHARE THIS:

इटावा. उत्तर प्रदेश (Uttar Pradesh) के इटावा जिले मे एक दूल्हे को शादी के बहाने ठगने (Fraud) का अजीबो गरीब मामला सामने आया है. शादी कराने के नाम पर कुछ लोगों ने युवक को पहले एक खूबसूरत लड़की दिखाई, लेकिन जब शादी होने को हुई तो कोई दूसरी 50 साल की महिला सामने कर दी, जिसको देखने के बाद विरोध करने पर दूल्हे से ना केवल मारपीट की गई. बल्कि उसके पास रखे 35000 रुपये भी छीन लिए गए. इस मामले के सामने आने के बाद इटावा के एसपी सिटी कपिल देव सिंह ने सिविल लाइन थाना पुलिस को पूरे मामले की जांच के आदेश के साथ ही आरोपियों पर कार्रवाई करने भरोसा दिया.

दुल्हन तो मिली नहीं, रकम भी गंवा बैठे. शत्रुघ्न सिंह के सिर पर सेहरा सजा रह गया. अब वह कानूनी कार्रवाई के लिए वकीलों के बस्ता से लेकर चौकी-थाने के चक्कर लगा रहे हैं. साथ में मां इंद्रा देवी भी इधर से उधर भटक रही हैं. घर में बहू आने की हसरत पूरी न होने से मायूस हैं. इटावा जिले के सिविल लाइन थाना क्षेत्र के विजयपुरा वासी शत्रुघ्न पुत्र थम्मन सिंह के मुताबिक काश का नगला निवासी परिवार ने उनके घर पर दस दिन पहले आकर शादी पक्की की थी. 19 अगस्त को उनको नीलकंठ मंदिर लालपुरा पर करीब 20 वर्षीय लड़की की गोद भराई रस्म कराई गई, जिसमें 1000 रुपये दिए थे.

27 अगस्त को तय थी शादी
शादी के लिए 27 अगस्त तय थी. वह शादी के लिए अपने रिश्तेदारों और गांव के लोगों के साथ विजयपुरा के काली माता के मंदिर पर पहुंचे तो सामने जिसको दुल्हन के रूप में लाया गया, उसकी उम्र करीब 50 वर्ष थी. इस पर उन्होंने शादी से इन्कार कर दिया. आरोप है कि काश का नगला निवासी परिवार ने उनसे शादी का झांसा देकर 35 हजार रुपये ठग लिए. जब रकम मांगी गई तो धोखाधड़ी करने वाले परिवार ने अभद्रता करते हुए जान से मारने की धमकी दी. पता चला है कि यह परिवार इसी प्रकार शादी के नाम कई लोगों के साथ ठगी कर चुका है. उन्होंने सिविल लाइन थाना में नामजद आरोपितों के विरुद्ध प्रार्थना पत्र देकर कार्रवाई की मांग की है.

पुलिस से शिकायत
पीड़ित दूल्हे ने दुल्हन की दरकार में सिविल लाइन थाने की शरण ली, लेकिन पुलिस जब तक आरोपियों के करीब पहुंचती, आरोपी फरार हो गए. इटावा के एसपी सिटी कपिलदेव सिंह ने स्पष्ट तौर पर बताया कि शादी के नाम पर दूल्हे के साथ धोखाधड़ी के मामले की गहनता से जांच की जा रही है.

Road Accident: कानपुर से आगरा जा रही रोडवेज बस खड़े ट्रक में घुसी, 4 की मौत, 31 घायल

UP: इटावा में हुई भीषण सड़क दुर्घटना में ट्राला से टकराने के बाद बस का एक तरफ का पूरा हिस्सा ही गायब हो गया.

Bus-Truck Accident in Etawah : इटावा में बस हादसा बकेवर क्षेत्र के राधे-राधे धाबा के पास द्वारका गांव के सामने हुआ. यहां खड़ेे एक ट्रक ट्राला से टकराने के बाद बस का एक तरफ का पूरा हिस्सा ही गायब हो गया.

SHARE THIS:

इटावा. उत्तर प्रदेश के इटावा (Etawah) जिले के बकेवर इलाके में कानपुर-आगरा हाइवे पर बिजौली गांव के पास रोडवेज बस के खड़े ट्रक से टकरा (Accident) जाने से 4 लोगों की मौत (Death) हो गई है, जबकि 31 सवारियां घायल (Injured) हो गई हैं. इन घायलोंं में महिला समेत 7 की हालत गंभीर बताई जा रही है. इटावा के पुलिस अधीक्षक ग्रामीण ओमवीर सिंह ने बताया कि रात 2 बजे के आसपास यह दर्दनाक हादसा तब हुआ, जब आगरा डिपो की रोडवेज बस कानपुर से आगरा जा रही थी.

बकेवर पुलिस थाना पार करने के बाद तीव्र गति से चल रही रोडवेज की बस खड़े ट्रक से जा टकराई. कहा जा रहा है कि चालक को नींद की झोंका आ गया परिणामस्वरूप यह दर्दनाक हादसा पेश आ गया. हादसे के बाद चालक फरार हो गया, जबकि परिचालक बुरी तरह से घायल है. बस हादसा बकेवर क्षेत्र के राधे-राधे धाबा के पास द्वारका गांव के सामने हुआ. यहां ट्राला से टकराने के बाद बस का एक तरफ का पूरा हिस्सा ही गायब हो गया.

भयानक मंजर देख लोग सन्न रह गए
भयानक मंजर देखकर लोग सन्न रह गए. गुरुवार की रात कानपुर नगर से चलकर रोडवेज की आगरा फोर्ट डिपो की बस लगभग 50 सवारियों को लेकर आगरा के लिए निकली थी. बस में कानपुर, इटावा, शिकोहाबाद, फिरोजाबाद, आगरा, अलीगढ़ की सवारियां सवार थीं. रात करीब सवा 2 बजे बस इटावा के बकेवर थाना क्षेत्र से गुजर रही थी, तभी वह हाइवे पर खड़े 22 चक्का ट्राला से पीछे से तेजी से टकरा गई. बस की कंडक्टर साइड के आधे हिस्से के परखच्चे उड़ गए. बस में बैठी सवारियों में चीख पुकार मच गई और लगभग 30 के आसपास यात्री गंभीर रूप से घायल ही गए.

दुर्घटना में बस का एक हिस्सा बुरी तरह क्षतिग्रस्त

etawah bus accident, Etawah News, Etawah police,

UP: इटावा में हुई भीषण सड़क दुर्घटना में ट्राला से टकराने के बाद बस का एक तरफ का पूरा हिस्सा ही गायब हो गया.

हादसे के बाद यात्रियों की चीख पुकार सुनकर आसपास गांव के लोग मदद के लिए दौड़ पड़े और पुलिस को दुर्घटना की जानकारी दी. हादसे के बाद बस का ड्राइवर मौके से भाग गया. सूचना पर एसपी ग्रामीण ओमवीर सिंह, सीओ भरथना पुलिस फोर्स के साथ पहुंच गए और आनन-फानन में रेस्क्यू चलाकर बस में फंसे घायल यात्रियों को एम्बुलेन्स व निजी वाहनों की मदद से अस्पताल भिजवाया गया.

31 घायलों में से 7 की हालत गंभीर
जहां एक साल के मासूम अलीगढ़ के आदित्य, हमीरपुर के निरपत समेत तीन लोगों की मौत हो गई. 31 घायलों में एक महिला समेत सात लोगों की हालत नाजुक होने पर उन्हें सैफई रेफर किया गया है. जिला अस्पताल में सीएमएस एमएम आर्या समेत पांच डाक्टरों की टीम घायलों के इलाज में जुटी. इनमें 31 लोग मुख्यालय के डॉ.भीमराव अंबेडकर राजकीय सयुक्त चिकित्सालय ले जाये गये हैं, जहां डॉक्टरों ने दो को मृत घोषित कर दिया. अन्य का इलाज डाक्टरों की टीम ने शुरू किया. इसी बीच पांच घायलों को नाजुक हालात होने पर उपचार के लिए सैफई मेडिकल यूनिवसिर्टी उपचार के लिए भेज दिया गया है.

हादसे के बाद बस चालक फरार
बस हादसे में घायल हुए परिचालक विजय सिंह का कहना है कि वो भी सो गया था. एकाएक हुए हादसे के बीच वो भी अन्य बस यात्रियों के साथ घायल हो गया है, जबकि चालक मौके से फरार हो गया. डॉ.भीमराव अंबेडकर राजकीय संयुक्त चिकित्सालय के चिकित्सक डॉ.अनिल शाक्य ने बताया कि बकेवर मे बस हादसे मे घायल हुए 31 बस यात्रियों और बस स्टाफ को लाया गया. इनमें से 2 की मौत हो गई जबकि पांच अन्य को सैफई मेडिकल यूनिवसिर्टी बेहतर उपचार के लिए भेजा गया. एक घायल की सैफई ले जाते समय मौत हो गई.

तेज रफ्तार से चला रहा था बस
अपर पुलिस अधीक्षक ग्रामीण ओमवीर सिंह भी घटनास्थल पर पहुंचे. हादसे के बाद चालक मुनेंद्र सिंह भाग निकला. परिचालक विजय सिंह ने बताया कि वह पहली बार इस ड्राइवर के साथ आया था, वो काफी तेज बस को चला रहा था. मृतकों में एक साल का आदित्य निवासी आहरुआ थाना गोड़ा अलीगढ़, 42 साल के निरपत निवासी चिल्ली मुस्करा हमीरपुर शामिल हैं. घायल बस यात्रियों ने बताया कि चालक कानपुर से ही बहुत तेज बस चला रहा था, जिससे कई यात्रियों को झटके लग रहे थे, लेकिन उसने किसी की नहीं सुनी. नतीजा ये हुआ कि आखिर में बस हादसे का शिकार हो गई और यात्रियों की जान चली गई. कई जिंदगी और मौत से जूझ रहे हैं.

मृतक और घायल
हादसे में मौत के शिकार गीतेश (22), आदित्य (1), निरपत (42) और अमर मृदगुल (62) है. वहीं घायलों में  अंजना खंडेलवाल आगरा, सुधीर आगरा, अमर इटावा, शैलजा कानपुर नगर, दीपक जैन फिरोजाबाद, दीपक कानपुर, अशोक भदोही, सुलेखा कानपुर, गौरव आगरा, अनुराग फिरोजाबाद, राहुल फिरोजबाद, रेनु आगरा, दिनेश कानपुर, नीलेश शाहाजहॉपुर, मेहंदी हसन एटा, विजय सिंह आगरा, नीतू फहेतपुर, सुरजीत फतेहपुर, रामू सीतापुर, शिवशंकर गोंडा, संजय सीतापुर, अनूप फतेहपुर, रानू उन्नाव, रूपेंद्र उन्नाव, रोहित सीतापुर, रंजेश सीतापुर, विनीता अलीगढ, आदिल हमीरपुर हैं.

लखनऊ मत जाना! CM योगी ने चलाया रंग और नाम बदलने का नया फैशन- अखिलेश यादव

UP: अखिलेश यादव बोले- CM योगी ने चलाया रंग और नाम बदलने का नया फैशन!

Etawah News: अखिलेश यादव (Akhilesh Yadav) ने कहा कि जो दल समाजवादी विचारधारा से मिलते जुलते हैं और जो भारतीय जनता पार्टी (BJP) को हराना चाहते हैं, उन सभी दलों को साथ लाने की कोशिश लगातार पार्टी की रहेगी.

SHARE THIS:

इटावा. समाजवादी पार्टी के राष्ट्रीय अध्यक्ष एवं पूर्व मुख्यमंत्री अखिलेश यादव (Akhilesh Yadav) ने शुक्रवार को उत्तर प्रदेश मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ (CM Yogi Adityanath) पर हमला बोला. इटावा (Etawah) में मीडिया से बातचीत में अखिलेश यादव ने कहा कि सीएम योगी ने राज्य में रंग और नाम बदलने का नया फैशन चलाकर आम जनमानस को गुमराह करना शुरू कर दिया है. उन्होंने बताया कि मैं आपसे कह रहा हूं कोई लखनऊ मत जाना अगर लखनऊ आप गए और मुख्यमंत्री जी को पता लग गया तो जरूरी नहीं कि उसी नाम से आप लखनऊ से वापस आओ. क्योंकि हमारे मुख्यमंत्री का रंग बदलने और नाम बदलने का नया फैशन है. सपा प्रमुख ने आगे कहा कि विकास का कोई काम नहीं किया है. इसलिए किसी भी मोहल्ले, किसी भी गांव का नाम बदला जा सकता है और अगर आप लोग गलती से लखनऊ चले गए और पता लग गया कि आप लोग इटावा से आए हो तो आपका नाम नया जरूर पड़ जाएगा और बदल भी दिया जाएगा.

अखिलेश यादव ने महान दल के राष्ट्रीय अध्यक्ष केशव देव मौर्य को बधाई देते हुए कहा समाजवादी पार्टी का मानना है कि सभी जातियों को भी जोड़ा जाए और जातियों के आबादी के हिसाब से उनको हक और सम्मान मिल जाए. उन्होंने बताया कि भारतीय जनता की पार्टी की सरकार में इतना परेशान और अपमानित अन्नदाता किसी सरकार में नहीं हुआ है. अन्नदाता जो न केवल पेट भरता है बल्कि अपनी मेहनत खेती करता है और हमारे लिये रोटी और कपड़े का इंतजाम करता है. भारतीय जनता पार्टी ने और झूठे मुकदमे भी लगाए. जब सरकार के पास कोई व्यवस्था नहीं है.

UP News: देवरिया में बाढ़ का कहर, खनुआ नदी में डूबने से 3 बच्चों की मौत

सरकार ने गरीबों को धोखा दिया है, पहले सस्ता फ्री में सिलेंडर दिया और अब बताइए सिलेंडर के दाम कीमत क्या है. भारतीय जनता पार्टी के लोगों को गांव-गांव जाकर माताओं बहनों से माफी मांगनी चाहिए कि जिस तरीके से उन्होंने सिलेंडर, डीजल, पेट्रोल महंगा किया है. अखिलेश यादव ने कहा कि जो दल समाजवादी विचारधारा से मिलते जुलते हैं और जो भारतीय जनता पार्टी को हराना चाहते हैं, उन सभी दलों को साथ लाने की कोशिश लगातार पार्टी की रहेगी. उन्होंने कहा कि वो नौजवानों से साफ साफ कहेंगे कि अपने भविष्य के लिए रोजगार के लिए नौकरी के लिए काम के लिए और समाज बदले देश बदले प्रदेश उसके लिए समाजपार्टी के साथ जुटे.

UP News Live Update: PGI के दीक्षांत समारोह में शामिल होंगे राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद

यूपी दौरे के दूसरे दिन आज राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद लखनऊ के पीजीआई के दीक्षांत समारोह में हिस्सा लेंगे. (फाइल फोटो)

Uttar Pradesh News, 27th August 2021: अपने यूपी दौरे के दूसरे दिन राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद आज लखनऊ स्थित पीजीआई के 26वें दीक्षांत समारोह में शामिल होंगे. शाम 5 से 6 बजे तक दीक्षांत समारोह के दौरान राज्यपाल और मुख्यमंत्री भी मौजूद रहेंगे. इस दौरान पीजीआई से पासआउट 115 छात्रों को राष्ट्रपति डिग्रियां देंगे.

SHARE THIS:

UP News Live Update: अपने यूपी दौरे के दूसरे दिन राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद आज लखनऊ स्थित पीजीआई के 26वें दीक्षांत समारोह में शामिल होंगे. शाम 5 से 6 बजे तक दीक्षांत समारोह के दौरान राज्यपाल और मुख्यमंत्री भी मौजूद रहेंगे. इस दौरान पीजीआई से पासआउट 115 छात्रों को राष्ट्रपति डिग्रियां देंगे. इनमें पीएचडी के 2 छात्रों, डीएम डिग्री धारी के 40 छात्रों, एमसीएच डिग्री धारी के 17 छात्रों और एमडी डिग्री धारी के 33 छात्रों को डिग्री दी जाएगी. वहीं प्रोफेसर एस आर नायक पुरस्कार एंडोक्राइन सर्जरी के डॉ गौरव अग्रवाल को प्रदान किया जायेगा. एण्डोकाइनालिजी विभाग के संगम रजक को प्रोफेसर एस एस अग्रवाल पुरस्कार प्रदान किया जाएगा. डॉ पंक्ति मेहता (क्लीनिक इम्यूनोलाजी) को सर्वोत्कृष्ट डीएम विद्यार्थी का पुरस्कार और डॉ सितांग्शु काकोटी (यूरोलाजी) को सर्वोत्कृष्ट एमसीएच विद्यार्थी का पुरस्कार मिलेगा.

राम गोपाल यादव ने महान दल के केशव देव मौर्य की तुलना भगवान श्रीकृष्ण से की, बोले...

इटावा: सैफई में रैली को संबोधित करते सपा के राष्ट्रीय महासचिव राम गोपाल यादव

Etawah News: सैफई रैली में सपा के राष्ट्रीय महासचिव प्रो. रामगोपाल यादव ने कहा कि 2022 में सपा के चुनावी रथ के सारथी महान दल के केशव देव मौर्य होंगे.

SHARE THIS:

इटावा. समाजवादी पार्टी (Samajwadi Party) के महासचिव प्रो. रामगोपाल यादव ने महान दल (Mahan Dal) के अध्यक्ष केशव देव मौर्य (Keshav Dev Maurya) की तुलना भगवान श्रीकृष्ण (Lord Shri Krishna) से की है. सैफई में महान दल की जनाक्रोश यात्रा के समापन के अवसर पर सैफई महोत्सव पंडाल में आयोजित रैली के दौरान प्रो. रामगोपाल यादव ने कहा कि 2022 के विधानसभा चुनाव में सपा के चुनावी रथ के सारथी महान दल के केशव देव मौर्य होंगे. उन्होंने कहा कि जब-जब अन्याय होता है, अत्याचार होता है, तब-तब केशव लोगों की रक्षा के लिए अवतार लेते हैं. चाहे द्रौपदी का चीर हरण हो या अत्याचार, अन्याय के अंत के लिए केशव ने अवतार लेकर लोगों को बचाया है.

दरअसल, समाजवादी पार्टी से गठजोड़ के बाद महान दल की 16 अगस्त से पीलीभीत जिले से शुरू की गई जनाक्रोश रैली का रथ गुरुवार दोपहर बाद 3 बजे सैफई महोत्सव पंडाल में पहुंचा.

इस दौरान प्रो. रामगोपाल यादव ने कहा कि महान दल के राष्ट्रीय अध्यक्ष का जो नाम है, उसको सब जानते हैं. लेकिन नाम की महत्वता क्या है, इसको भी जान लीजिएगा. एक वक्त था जब कभी लोगों पर संकट आया, उस समय केशव को पुकारा और केशव आए. चीरहरण के वक्‍त भी केशव आए. जब अर्जुन पर संकट आया, तब भी केशव आए. आज भी ऐसी स्थिति है, आज भी चीरहरण हो रहे हैं, इसलिए महान दल के राष्ट्रीय अध्यक्ष केशव देव मौर्य ने समाजवादी पार्टी से गठबंधन किया और सपा मुखिया को मुख्यमंत्री बनाने का संकल्प लिया है.

सपा नेता ने कहा कि इस समय यही हो रहा है. हर ओर अन्याय और अत्याचार है. महिलाओं के साथ बलात्कार हो रहे हैं, लूट-डकैती मची हुई है, ऐसे में फिर से केशव की जरूरत है. केशव देव मौर्या ने देश-प्रदेश और समाज को अत्याचारियों से बचाने के लिए सपा मुखिया के साथ गठबंधन किया है. उन्होंने कहा कि यहां की सरकार अन्याय की पर्यायवाची हो गई है. महिलाएं, बेरोजगारों और युवाओं के खिलाफ फर्जी मुकदमे दर्ज हो रहे हैं. सरकार को हटाने के लिए लोगों को सड़कों पर उतरना होगा. यह सरकार कोरोनकाल में लोगों को ऑक्सीजन और चिकित्सीय सुविधा नहीं दे पाई. प्रदेश सरकार कह रही है कि 23 हजार लोग मरे हैं, लेकिन हकीकत में 15 से 17 लाख लोग मरे हैं. उन्होंने लोगों से हाथ उठवाकर विधानसभा चुनाव में सपा और महानदल के प्रत्याशी को बिना किसी भेदभाव के वोट देने का आश्वासन लिया.

महान दल के राष्ट्रीय अध्यक्ष केशव देव मौर्य ने कहा कि यूपी में उनकी पार्टी और सपा मिलकर अखिलेश यादव के नेतृत्व में भारतीय जनता पार्टी की सरकार को सत्ता से उखाड़कर फेंकेगी और अखिलेश यादव प्रदेश के मुख्यमंत्री बनेंगे.

इटावा थप्पड़ कांडः BJP के जिलाध्यक्ष के बाद अब एसपी सिटी भी हटाए गए

UP: एसपी सिटी प्रशांत कुमार प्रसाद (बाएं) और बीजेपी जिलाध्यक्ष अजय घाकरे (File Photo)

Etawah News: प्रशांत कुमार प्रसाद ने 11 जनवरी, 2021 को एसपी सिटी इटावा के पद पर कार्यभार ग्रहण किया था लेकिन बेहतर कामकाज के बावजूद थप्पड़ कांड ने उनको इटावा से मुजफ्फरनगर भेज दिया.

SHARE THIS:

इटावा. उत्तर प्रदेश के इटावा (Etawah) जिले में ब्लॉक प्रमुख चुनाव के दौरान बढपुरा में फायरिंग के बीच एसपी सिटी प्रशांत कुमार प्रसाद को मारे गए थप्पड़ की गूंज अभी तक शांत नहीं हुई है. अब एसपी सिटी को भी हटा दिया गया है. इसी कांड के कारण भाजपा जिलाध्यक्ष अजय घाकरे भी हटाए जा चुके हैं. पहले 15 अगस्त को भाजपा जिलाध्यक्ष को पद से हटाया गया, उसके बाद 24 अगस्त को एसपी सिटी को हटाया गया.

खास बात तो यह है कि 9 अगस्त को मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ के बाढ़ राहत बांटने के दौरान अजय घाकरे ने बढ़-चढ़कर हिस्सेदारी की थी. इसीलिए अजय घाकरे के हटने की उम्मीद नहीं थी. बहरहाल एसपी सिटी को इटावा से हटाकर मुजफ्फरनगर में एसपी क्राइम के पद पर तैनात कर दिया गया है.

घटना वाले दिन एसपी ने आला अफसरों को घ ए बताया था कि भाजपा नेता विमल भदौरिया के साथी ने मुझे थप्पड़ मारा और ये लोग लाठी-डंडे, बम, असलहे लेकर आए हैं. इस वीडियो के वायरल होने के बाद पूरे प्रदेश मे भाजपाइयों की भूमिका पर सवाल उठना शुरू हो गए थे. क्योंकि इससे पहले समाजवादी पार्टी लगाताार योगी सरकार के अफसरों पर सवाल उठा रही थी कि वे पंचायत चुनाव में सत्ता के इशारे पर लूट-पाट, उम्मीदवारों को डराने-घमकाने में लगे हुए हैं.

दरअसल इटावा के एक वीडियो ने समाजवादी पार्टी के आरोपों को बल दे दिया. इस वीडियो के सुर्खियों में आने के बाद मामला प्रधानमंत्री तक जा पहुंचा था, जिसमें उन्होंने सीएम योगी से भाजपाइयों की करतूत को लेकर नाराजगी जताई थी. वायरल वीडियो मे एसपी सिटी को साफ कहते हुए सुना गया कि भाजपा के लोग पुलिसकर्मियों से मारपीट, पथराव व फायरिंग भी कर रहे हैं. मामला मुख्यमंत्री के दरबार तक पहुंचा था.

इसी के बाद भाजपा जिलाध्यक्ष अजय धाकरे को हटाया जाना और फिर एसपी सिटी का तबादला होना इस प्रकरण से जोड़ कर देखा जा रहा है. पंचायत चुनाव के तहत 10 जुलाई 2021 को ब्लॉक प्रमुख चुनाव का मतदान हुआ था. इस दिन बढ़पुरा ब्लाक में मतदान चल रहा था, तभी भाजपा के कई नेता समर्थकों के साथ ब्लॉक कार्यालय के बाहर जमा हो गए थे.

माहौल बिगड़ता देख एसपी सिटी प्रशांत कुमार प्रसाद ने सहकर्मियों के साथ भीड़ को हटाने का प्रयास किया था. उसी दौरान भाजपा नेता विमल भदौरिया ने एसपी सिटी को थप्पड़ मार दिया था. भीड़ में शामिल लोगों ने पुलिसकर्मियों से मारपीट व फायरिंग भी की. इसकी जानकारी मोबाइल पर एसपी सिटी आला अफसरों को दे रहे थे. इस बातचीत की वीडियो सोशल मीडिया पर वायरल हुआ था.

मामला मुख्यमंत्री के दरबार तक पहुंचा, तो 15 अगस्त को अजय धाकरे को भाजपा जिलाध्यक्ष के पद से हटा दिया गया. अब एसपी सिटी प्रशांत कुमार प्रसाद को मुजफ्फरनगर एसपी अपराध के पद पर तबादला हो गया. उनकी जगह हरदोई में तैनात एसपी सिटी पश्चिम कपिल देव सिंह को एसपी सिटी इटावा बनाया गया है.

पुलिस अधीक्षक प्रशांत कुमार प्रसाद ने 11 जनवरी 2021 को एसपी सिटी इटावा के पद पर कार्यभार ग्रहण किया था लेकिन बेहतर कामकाज के बावजूद थप्पड़ कांड ने उनको इटावा से मुजफ्फरनगर भेज दिया.

उधर एसपी सिटी प्रशांत कुमार प्रसाद के तबादले पर सवाल खड़े करते हुए समाजवादी पार्टी के जिलाध्यक्ष गोपाल यादव का कहना है कि योगी सरकार उपद्रवी भाजपाइयों को बचाने के लिए पुलिस और प्रशासनिक अधिकारियों के खिलाफ कार्यवाही करने मे लगी हुई है. उपद्रवी भाजपाइयों के खिलाफ कार्यवाही अमल मे नहीं लाई जा रही है. यह पूरी तरह से भेदभाव पूर्ण नीति है.

इटावा में मालगाड़ी दुर्घटनाग्रस्त, फ्रेट कॉरिडोर की सुरक्षा में उजागर हुईं कई खामियां

UP: इटावा में मालगाड़ी दुर्घटना होने के बाद फ्रेट कॉरिडोर मार्ग क्षतिग्रस्त हो गया है.

Etawah News: जसवंतनगर के उपजिलाधिकारी नंदप्रकाश मौर्य का कहना है कि डीएफसीसी के उच्चाधिकारियों को इस ट्रैक की सुरक्षा व्यवस्था कराने के लिए अवगत कराया जाएगा. डीएफसीसी को सुरक्षा के साथ खिलवाड़ नहीं करने दिया जाएगा.

SHARE THIS:

इटावा. उत्तर प्रदेश के इटावा (Etawah) जिले के जसवंतनगर इलाके के राजपुर गांव के पास डीएफसी के डाउन ट्रेक पर मालगाड़ी पलटने के बाद इंडियन रेलवे ने मरम्मत का कार्य शुरू कर दिया है. फ्रेट कॉरिडोर क्षतिग्रस्त होने के चलते डीएफसीसी (Dedicated Freight Corridor Corporation) के एग्जीक्यूटिव डायरेक्टर भी अपनी कई टीमों के साथ पहुंच चुके हैं और ट्रैक के मरम्मत का काम शुरू करा दिया है. देर रात तक ट्रैक खाली होने की उम्मीद है. ट्रेक को दुरुस्त करने में करीब 250 से 300 लोगों के लोग लगे हुए हैं.

दिल्ली हावड़ा रेल मार्ग के बगल में मालगाड़ी के लिये बने डेडिकेटिड फ्रेट कारिडोर पर बड़ा हादसा हो गया था, जिसमें गाज़ियाबाद से कानपुर जा रही 43 डिब्बों की मालगाड़ी के 7 डिब्बे पलट गए थे और 17 डिब्बे बुरी तरह क्षतिग्रस्त हो गए थे. मालगाड़ी में लोहे की भारी स्लीपर लदे हुए थे. अनुमान लगाया जा रहा है कि लोहे के स्लीपर खुल कर गिर जाने से मालगाड़ी का संतुलन बिगड़ गया और गाड़ी पलट गई.

मालगाड़ी के डिरेल होने पर कई खामियों पर गई नजर

बता दें डीएफसीसी यानी डेडीकेटिड फ्रेट कॉरीडोर कारपोरेशन मालगाड़ी रेलवे ट्रैक अभी सुरक्षित नहीं है. दिल्ली-हावड़ा रेलवे ट्रैक के समानांतर इस ट्रैक पर कई खतरनाक स्थानों पर फेनसिग तक नहीं है. इससे हाईस्पीड इस ट्रैक पर हर समय खतरा मंडराता है. सोमवार को मालगाड़ी के डिरेल होने पर सभी की कई खामियों पर नजर गई. मालगाड़ी ज्यादा स्पीड में होती और वैगन दिल्ली-हावड़ा ट्रैक तक पहुंच जाते काफी भयावह हालात हो सकते थे. डीएफसीसी को इस हादसे से सबक लेकर ट्रैक पर सुरक्षा के पुख्ता इंतजाम करने चाहिए.

दिल्ली-हावड़ा रेलवे ट्रैक आ सकता था जद में

डीएफसीसी के मालगाड़ी रेलवे ट्रैक पर जिस स्थान पर मालगाड़ी डिरेल हुई है, उससे मुश्किल से 10 मीटर की दूरी पर दिल्ली-हावड़ा रेलवे ट्रैक पर ट्रेनें दौड़ रही थीं. उनमें अधिकतर यात्री ट्रेनें दौड़ रही थीं. मालगाड़ी के वैगन उस ट्रैक से महज दो-तीन मीटर की दूरी पर गिरे. इससे हादसा बाल-बाल बच गया जबकि डीएफसीसी के अप और डाउन दोनों प्रभावित ही नहीं हुए बल्कि करीब 500 मीटर की दूरी में ट्रैक भी काफी क्षतिग्रस्त हुआ है.

ओवरब्रिज पर खड़े हो रहे सवाल

डीएफसीसी के अधिकारी किस कदर संवेदनशील हैं इसका प्रत्यक्ष प्रमाण उस समय मिला जब घटना की सूचना पाकर एसडीएम जसवंतनगर नंदराम मौर्य तथा सीओ जसवंतनगर राजीव प्रताप सिंह फोर्स के साथ मौके पर पहुंचे. वहां से ग्रामीणों की भीड़ को हटवाया लेकिन दो घंटे बीत जाने के बावजूद डीएफसीसी के आला अधिकारी मौके पर नहीं आए. डीएफसीसी ने जसवंतनगर से इकदिल के मध्य हाईवे तथा अन्य मार्गों पर कई ओवरब्रिज बनाए हैं. इनमें एक भी ओवरब्रिज मानक के अनुरूप नहीं हैं.

सड़क के धरातल से कई फीट नीचे होने से अक्सर जलभराव के हालात रहते हैं. बारिश के दौरान कई पुलों में जलभराव से आवागमन बंद हो जाता है. इन पुलों पर फेनसिग भी नहीं कराई गई है, इससे ओपन रेलवे ट्रैक सड़कों पर आवागमन करने वालों के सदैव खतरनाक बने हुए हैं.

जसवंतनगर के उपजिलाधिकारी नंदप्रकाश मौर्य का कहना है कि डीएफसीसी के उच्चाधिकारियों को इस ट्रैक की सुरक्षा व्यवस्था कराने के लिए अवगत कराया जाएगा. डीएफसीसी को सुरक्षा के साथ खिलवाड़ नहीं करने दिया जाएगा.

Load More News

More from Other District

विज्ञापन

विज्ञापन

टॉप स्टोरीज