अपना शहर चुनें

States

बलरामपुर में खतरे के निशान तक पहुंचा बाढ़ का पानी, लोग छोड़ने लगे घर

नेपाल से करीब एक लाख बत्तीस हजार क्यूसेक पानी छोड़े जाने से बलरामपुर में बाढ़ का खतरा बढ़ गया है. राप्ती नदी 10 सेमी प्रतिघण्टे की रफ्तार से बढ़ते हुये खतरे के निशान के ऊपर पहुंच गयी है.

  • Share this:
नेपाल से करीब एक लाख बत्तीस हजार क्यूसेक पानी छोड़े जाने से बलरामपुर में बाढ़ का खतरा बढ़ गया है. राप्ती नदी 10 सेमी प्रतिघण्टे की रफ्तार से बढ़ते हुये खतरे के निशान के ऊपर पहुंच गयी है.

राप्ती नदी के कटे हुये तटबन्धो के कारण भीषण तबाही की सम्भावना व्यक्त की जा रही है. निचले इलाकों में बाढ़ का पानी भरना शुरू हो गया है. लोग सुरक्षित स्थानों की ओर पलायन कर रहे हैं. जिला प्रशासन ने सभी ग्राम पंचायतों और बाढ़ चौकियों को एलर्ट कर दिया है.

जिला प्रशासन ने शासन से दो कम्पनी फ्लड पीएसी की मांग भी की है. गैर जनपदों से नाव भी मंगाई जा रही हैं. हाई अलर्ट के बाद ग्रामीण मवेशियों को लेकर सड़क पर पहुंच गये हैं. जिस रफ्तार से राप्ती नदी का पानी बढ़ रहा है, उससे सम्भावना व्यक्त की जा रही है कि भीषण तबाही हो सकती है.



पांच सौ से ज्यादा गांव में पानी घुस जाएगा. 2014 में इसी तरह नेपाल के पानी से जिले में भीषण बाढ़ आयी थी. मुख्यालय के कई मोहल्लों में नांव चलाई जा रही थीं. जिस तरह से इस बार पानी छोड़ा गया है, उससे लगता है कि 2014 से भी ज्यादा विकट स्थित बन सकती है.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज