• Home
  • »
  • News
  • »
  • uttar-pradesh
  • »
  • इटावा : फ्रेट कॉरिडोर पर मालगाड़ी के 17 डब्बे पलट गए, ट्रेन दो हिस्सों में बंटी

इटावा : फ्रेट कॉरिडोर पर मालगाड़ी के 17 डब्बे पलट गए, ट्रेन दो हिस्सों में बंटी

हादसे के बाद मौके पर कई अधिकारी पहुंच चुके हैं और वहां पर मालगाड़ी के बिखरे डब्बों की सुरक्षा में पुलिस तैनात कर दी गई है.

हादसे के बाद मौके पर कई अधिकारी पहुंच चुके हैं और वहां पर मालगाड़ी के बिखरे डब्बों की सुरक्षा में पुलिस तैनात कर दी गई है.

दुर्घटना इटावा जिले के जसवंतनगर इलाके के राजपुर गांव के पास फ्रेट कॉरिडोर पर हुई है. इस मालगाड़ी में लोहे की स्लीपर लदी थी. उत्तर प्रदेश के जसवंतनगर के एसडीएम नंदप्रकाश मौर्य ने मालगाड़ी के दुर्घटनाग्रस्त होने की पुष्टि करते हुए बताया कि फिलहाल हादसे की वजह का पता नहीं चल सका है.

  • Share this:

इटावा. गाजियाबाद से कानपुर जा रही एक मालगाड़ी सोमवार को दुर्घटनाग्रस्त हो गई. उसके 17 डब्बे पलट गए हैं. रेलवे संपत्ति को बड़ा नुकसान पहुंचा है. यह दुर्घटना इटावा जिले के जसवंतनगर इलाके के राजपुर गांव के पास फ्रेट कॉरिडोर पर हुई है. इस मालगाड़ी में लोहे की स्लीपर लदी थी. उत्तर प्रदेश के जसवंतनगर के एसडीएम नंदप्रकाश मौर्य ने मालगाड़ी के दुर्घटनाग्रस्त होने की पुष्टि करते हुए बताया कि फिलहाल हादसे की वजह का पता नहीं चल सका है.

दुर्घटनास्थल पर पुलिस तैनात

जसंवतनगर के सीओ राजीव प्रताप सिंह ने बताया कि मालगाड़ी दुर्घटनाग्रस्त होने के बाद सुरक्षा के लिए बलरई और जसवंतनगर इलाके की पुलिस को मौके पर मुस्तैद कर दिया गया है. स्थानीय लोगों की मानें तो हादसे के बाद का दृश्य भूकंप से हुई तबाही जैसा था. हादसे के बाद मौके पर जसवंतगनर के उप जिलाधिकारी नंदप्रकाश मौर्य, सीओ राजीव प्रताप सिंह समेत पुलिस प्रशासन और रेलव के अफसर पहुंच गए हैं. मालगाड़ी के दुर्घटनाग्रस्त होने के बाद आसपास के गांव के लोग बड़ी संख्या में मौके पर पहुंच गए थे.

शाम 6 बजे हुई दुर्घटना

यह दुर्घटना सोमवार की शाम करीब 6 बजे हुई. हादसे के बाद मालगाड़ी दो हिस्सों में बंट गई. आगे का हिस्सा राजपुर गांव के पास फाटक संख्या 37 पर जाकर रुका. दुर्घटना के बाद रेलमार्ग ठप हो गया है और पीछे से आ रही मालगाड़ियों को रोक दिया गया है. हादसा जिस जगह हुआ, वहां से इटावा से दूरी करीब 25 किमी है. फ्रेट कॉरिडोर के किसी अधिकारी के मौके पर न होने के कारण दुर्घटना की वजह मालूम नहीं हो सकी. लेकिन ग्रामीणों का कहना है कि मालगाड़ी से आवाज आ रही थी और लोहे का गर्डर मालगाड़ी के डिब्बे में फंस गया था, जिसके कारण डिब्बे पलट गए. उन्होंने बताया कि मालगाड़ी में लोहे के गर्डर लदे थे. तभी अचानक तेज आवाज हुई और मालगाड़ी के डिब्बे एक के ऊपर एक चढ़ गए और ग्राम भारद्वाजपुर के पास पोल संख्या 651/32 पर पलट गए.

इसे भी पढ़ें : कल से खुलेंगे छठी से 8वीं तक के स्कूल

बगल से गुजर रही दिल्ली-हावड़ा ट्रैक को नुकसान नहीं

हादसे के कारण करीब आधा किमी तक की पटरी उखड़ गई. दुर्घटना होने पर मौके पर ग्राम भारद्वाजपुर के ग्रामीण पहुंच गए. ओएचई लाइन के तारों को भी नुकसान पहुंचा है. 8 डिब्बों को भारी नुकसान पहुंचा है, जबकि 9 पलटे पड़े हैं. करीब एक दर्जन खंभे भी क्षतिग्रस्त हो गए हैं. एसडीएम नंदप्रकाश मौर्य ने बताया कि कोई जनहानि नहीं हुई है. मालगाड़ी के 8 डिब्बों को नुकसान पहुंचा है. शेष 9 डिब्बे पलटे हैं. घटना कैसे हुई यह जांच का विषय है. फ्रेट कॉरिडोर के अधिकारियों को बता दिया गया है. जहां पर हादसा हुआ है, वहां से कुछ मीटर की दूरी पर दिल्ली-हावड़ा रेलमार्ग था. बताया गया है कि दोनों रेलमार्ग दो से तीन मीटर के फासले पर समानांतर चल रहे थे. गनीमत यह रही कि मालगाड़ी के डिब्बे दिल्ली-हावड़ा ट्रैक पर नहीं गए, अन्यथा उस ट्रैक को भी नुकसान हो सकता था. रेलवे ने दिल्ली-हावड़ा ट्रैक पर ड्राइवरों को अलर्ट कर दिया है. दुर्घटना के बाद फ्रेट कॉरिडोर पर करीब आधा दर्जन मालगाड़ियों को पीछे के स्टेशनों पर रोक दिया गया है.

पढ़ें Hindi News ऑनलाइन और देखें Live TV News18 हिंदी की वेबसाइट पर. जानिए देश-विदेश और अपने प्रदेश, बॉलीवुड, खेल जगत, बिज़नेस से जुड़ी News in Hindi.

हमें FacebookTwitter, Instagram और Telegram पर फॉलो करें.

विज्ञापन
विज्ञापन

विज्ञापन

टॉप स्टोरीज