अपना शहर चुनें

States

इटावा लायन सफारी के लिए जेसिका बनी 'वरदान', फिर दिया दो शावकों को जन्म

इटावा लायन सफारी में जेसिका ने फिर दो शावकों को जन्म दिया. अब यहां जेसिका के 8 शावक हैं.
इटावा लायन सफारी में जेसिका ने फिर दो शावकों को जन्म दिया. अब यहां जेसिका के 8 शावक हैं.

शेरनी जेसिका के दो शावकों के पैदा होने के साथ ही सफारी में अब 9 शावक हो गए हैं. इनमें 8 शावक जेसिका के और एक जेनिफर के हैं. सफारी में शावक, शेर और शेरनी मिलाकर कुल संख्या 20 हो गई है.

  • News18Hindi
  • Last Updated: December 18, 2020, 8:31 PM IST
  • Share this:
इटावा. उत्तर प्रदेश की इटावा लाइन सफारी के लिए गुजरात से आई शेरनी जेसिका वरदान बन गई है. इटावा सफारी पार्क के उपनिदेशक सुरेश चंद्र राजपूत ने न्यूज18 से यह बात कही. उन्होंने बताया कि 12 दिसंबर को शेरनी जेसिका चौथी बार मां बनी है. उसके दोनों शावक पूरी तरह से स्वस्थ्य हैं. 8 शावकों को जन्म देकर जेसिका लाइन सफारी की असल खेवनहार बन गई है.

बाड़े के पास किसी को जाने की इजाजत नहीं

राजपूत ने बताया कि जेसिका ने अपने बाड़े में दो शावकों को जन्म दिया है. कीपर के अलावा किसी को जेसिका के पास जाने की इजाजत नहीं दी गई है. केवल कीपर को बाड़े के पास जाने की इजाजत दी गई है. शावकों की पैदाइश पर सीसीटीवी कैमरे के जरिये इटावा सफारी पार्क के विशेषज्ञ डाक्टरों की नजर थी. गर्भावस्था में शेरनी जेसिका का सफारी में खास ख्याल रखा जा रहा था. सफारी पार्क में शेरनी के रहने की जगह के आसपास किसी को भी जाने की इजाजत नहीं दी गई थी.



सफारी में अब कुल 9 शावक
इन दो शावकों के पैदा होने के साथ ही सफारी में अब 9 शावक हो गए हैं. इनमें 8 शावक जेसिका के और एक जेनिफर के हैं. सफारी में शावक, शेर और शेरनी मिलाकर कुल संख्या 20 हो गई है. शेरनी जेसिका को चौथी बार मां बनने का सौभाग्य प्राप्त हुआ है. इससे पहले उसने 26 जून 19 को एक साथ 4 शावको को जन्म दिया था. इससे पहले उसने 6 अक्टूबर 2016 को सिंबा व सुल्तान को उसने जन्म दिया था. 15 जनवरी 2018 को बाहुबली को जन्म दिया था. चौथी बार शेरनी जेसिका के मां बनने से सफारी पार्क में खुशी का माहौल बना हुआ है.

बरती गईं विशेष सावधानियां

शेरनी जेसिका के गर्भवती होने पर विशेष सावधानियां बरती गईं. उसके आसपास किसी को नहीं जाने दिया गया. उसके खान-पान पर विशेष ध्यान रखा गया. सीसीटीवी कैमरे से 24 घंटे उस पर निगरानी की गई.

शेरनी का गर्भकाल 105 दिनों का

6 अक्टूबर 2016 जन्मे शिंबा सुल्तान और 15 जनवरी 2018 को जन्मे बाहुबली शेरनी जेसिका के तीनों शावक इस समय लाइन सफारी की रौनक बने हुए हैं. वैसे इससे पहले जुलाई और अगस्त 2015 में शेरनी हीर व ग्रीष्मा ने 5 शावकों को जन्म दिया था. इनमें से दो की मौत तो जन्म के साथ ही हो गई थी, जबकि कुछ दिनों बाद शेष तीन शावकों की भी मौत हो गई. शेरनी हीर के दो शावक 18 जुलाई 2015 को पैदा हुए थे, जिनकी मौत जन्म के साथ ही हो गई थी. इसी तरह से शेरनी ग्रीष्मा के पैदा हुए तीन शावकों में से दो की 21 जुलाई 2015 को और एक शावक की 14 अगस्त 2015 को मौत हो गई थी. हीर और ग्रीष्मा के शावकों की मौत के बाद लाइन सफारी के ब्रीडिंग सेंटर पर सवाल उठने लगे थे, लेकिन शेरनी ग्रीष्मा ने इस मिथक को तोड़ दिया है. शेरनी जेसिका की मैटिंग शेर मनन से कराई गई थी. शेरनी का गर्भकाल 105 दिन का होता है.

यह है गाइडलाइन

सेंट्रल जू अथॉरिटी (CZA) के नियमों के मुताबिक, लायन सफारी को जनता के लिए तभी खोला जा सकता है, जब वहां कम से कम दस शावक हों. सफारी में फिलहाल 9 शावक हैं. दरअसल लायन सफारी को खोलने के लिए केंद्रीय चिड़ियाघर प्राधिकरण ने कम से कम 10 बच्चों की अनिवार्यता बताई है.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज