होम /न्यूज /उत्तर प्रदेश /

Good News: इटावा सफारी में आया नया मेहमान, शेरनी जेनिफर ने दिया शावक को जन्म

Good News: इटावा सफारी में आया नया मेहमान, शेरनी जेनिफर ने दिया शावक को जन्म

Etawah News: शेर-शेरनियों की मीटिंग कराने से पहले दोनों को 3-4 माह पहले आसपास के सेल में रखा जाता है.

Etawah News: शेर-शेरनियों की मीटिंग कराने से पहले दोनों को 3-4 माह पहले आसपास के सेल में रखा जाता है.

Etawah News: निदेशक ने बताया कि दूध पिलाने का मतलब है कि शेरनी ने शावक को स्वीकार कर लिया है. उन्होंने बताया कि सामान्य तौर पर शेरनी बच्चे को दूध नहीं पिलाती हैं, उस स्थिति में काफी दिक्कतें आती हैं. उन्होंने बताया कि शेरनी और उसके शावक को एनीमल हाउस नंबर दो में रखा गया है.

अधिक पढ़ें ...

हाइलाइट्स

शेरनियों का गर्भकाल 105 दिन का होता है.
बाड़े में लगा सीसीटीवी कैमरा
शेरनी जेनिफर ने दिया शावक को जन्म

इटावा. इटावा सफारी पार्क से एक अच्छी खबर आई है. गुजरात से लाई गई शेरिनी जेनिफर (Lioness Jenifer) ने बुधवार देर रात करीब 11 बजे एक शावक को जन्म दिया. जेनिफर अब तक 10 बच्चों को जन्म दे चुकी है. इसके पहले वह गुजरात में एक बच्चे को जन्म दे चुकी है. सिंबा, सुल्तान, बाहुबली, केसरी,भारत, रूपा, सोना,नीरजा और गार्गी पहले से ही है. इस समय सफारी में शेर, शेरनी एवं शावकों को मिलाकर 19 बब्बर शेरों का कुनबा मौजूद है. सफारी के बायोलॉजिस्ट बीएन सिंह ने बताया कि सफारी की जेनिफर की प्रेग्नेंसी की रिपोर्ट पॉज़िटिव आई थी. शेर-शेरनियों की मीटिंग कराने से पहले दोनों को 3-4 माह पहले आसपास के सेल में रखा जाता है. दोनों को साथ-साथ छोड़ा जाता है. दोनों के व्यवहार का अध्ययन बारीकी से किया जाता है. शेरनियों का गर्भकाल 105 दिन का होता है.

शेरनी व शावक की देखरेख के लिए मेडिकल स्टाफ समेत छह लोगों की ड्यूटी लगाई गई है. जेनिफर समेत सात शेर और शेरनी बीते 25 सितंबर को गुजरात से इटावा सफारी पार्क में लाए गए थे. इसी साल जनवरी में जेनिफर गर्भवती हो गई थी. सफारी के निदेशक वीके सिंह ने बताया कि बुधवार देर रात करीब 11 बजे जेनिफर ने एक शावक को जन्म दिया. जन्म के करीब 23 मिनट बाद ही शेरनी ने शावक को अपना दूध भी पिलाया. उसके बाद बाड़े में ही उसे मुंह में दबाकर इधर-उधर रखा.

Raksha Bandhan 2022: Amazon पर बाराबंकी की राखियों की बढ़ी डिमांड, दीदियां कर रहीं बंपर कमाई

निदेशक ने बताया कि दूध पिलाने का मतलब है कि शेरनी ने शावक को स्वीकार कर लिया है. उन्होंने बताया कि सामान्य तौर पर शेरनी बच्चे को दूध नहीं पिलाती हैं, उस स्थिति में काफी दिक्कतें आती हैं. उन्होंने बताया कि शेरनी और उसके शावक को एनीमल हाउस नंबर दो में रखा गया है. उनकी देखरेख के लिए एक डॉक्टर, दो मेडिकल स्टाफ, दो कीपर और एक सफाईकर्मी को लगाया गया है. डॉक्टर की देखरेख में कर्मचारी 24 घंटे बारी-बारी से शेरनी और शावक की देखरेख करेंगे. शेरनी की हर गतिविधि पर नजर रखी जा रही है. उसके बाड़े में सीसीटीवी कैमरा भी लगाया गया है.

Tags: Etawah Lion Safari, Etawah news today, Tiger reserve, Up forest department, UP news, Yogi government

अगली ख़बर