सैफई मेडिकल यूनिवर्सिटी में मंत्री के पहुंचते ही मरीजों ने घेरा, भर्ती न करने पर डॉक्टरों को फटकार

सैफई मेडिकल यूनिवर्सिटी की स्वास्थ्य व्यवस्था की पोल खुली , मरीजों को भर्ती न करने पर भडक़े मंत्री.

सैफई मेडिकल यूनिवर्सिटी की स्वास्थ्य व्यवस्था की पोल खुली , मरीजों को भर्ती न करने पर भडक़े मंत्री.

यूपी के कृषि मंत्री सूर्यप्रताप शाही के सामने मरीजों ने सैफई मेडिकल यूनिवर्सिटी की बदइंतजामियों की खोली पोल. प्रसपा नेता शिवपाल सिंह यादव ने सीएम योगी को पत्र लिखकर दिलाया था ध्यान.

  • Share this:

इटावा. उत्तर प्रदेश के कृषि मंत्री और जिले के प्रभारी मंत्री सूर्य प्रताप शाही के सामने सैफई मेडिकल यूनिवर्सिटी (Saifai Medical University) की बदइंतजामी खुलकर सामने आ गई. यहां कोरोना मरीजों को भर्ती करने के लिए प्रभारी मंत्री ने डाक्टरों को फटकार लगाई. इसके बाद मरीजों को यहां भर्ती कराया जा सका.

असल में जिले के प्रभारी और राज्य के कृषि मंत्री सूर्य प्रताप शाही सैफई मेडिकल यूनिवर्सिटी निरीक्षण करने पहुंचे हुए थे. मंत्री के पहुंचने पर सैफई मेडिकल यूनिवर्सिटी के बेहतर इंतजामों की कलई खुलकर के सामने आ गई है. निरीक्षण के दौरान एक तीमारदार प्रभारी मंत्री के सामने पहुंच गया. उसने कहा कि वह दो घंटे से अधिक समय से मरीज को भर्ती कराने के लिए घूम रहे हैं, लेकिन भर्ती नहीं किया जा रहा है. इसी बीच उन्होंने प्रति कुलपति को निर्देश दिए और तत्काल मरीज को भर्ती किया गया.

मेडीकल यूनिवर्सिटी में दो साल से बंद पड़े ऑक्सीजन गैस प्लांट की एक यूनिट को सेना की इंजीनियरिंग कोर की टीम द्वारा ठीक किये जाने के बाद रविवार को जिले के प्रभारी मंत्री सूर्यप्रताप शाही ने सैफई पहुंचकर ऑक्सीजन प्लांट का निरीक्षण कर सेना की इंजीनियरिंग कोर टीम को बधाई दी. इस प्लांट के ठीक होने के बाद यहां सैकड़ों मरीजों को ऑक्सीजन की आपूर्ति हो सकेगी. यहां पर अब एक मिनट में 450 लीटर आक्सीजन का उत्पादन होने लगा है.

यहां पहुंचने पर मंत्री ने कोविड अस्पताल के बारे में विस्तार से प्रति कुलपति डॉ. रमाकांत यादव एवं चिकित्सा अधीक्षक डॉ. आदेश कुमार से जानकारी ली. पत्रकार वार्ता में उन्होंने बताया शासन स्तर से विश्वविद्यालय के लिए एक बड़ा प्लांट सेक्शन करा दिया गया है. जिसका कार्य जल्दी शुरू करा दिया जाएगा. उसके बाद उन्होंने यूनिवर्सिटी प्रशासन से कहा कोई भी मरीज लौट कर वापस नहीं जाना चाहिए. सभी को इलाज मिलना चाहिए.
बताते चलें कि प्रसपा के प्रमुख पूर्व मंत्री शिवपाल सिंह यादव ने इटावा और उसके आसपास के जिलों के मरीजों की जान पर आए संकट को लेकर प्रदेश के मुख्यमंत्री को पत्र लिखकर इस मामले में हस्तक्षेप की मांग की थी. इसी के बाद योगी सरकार जहां हरकत में आई थी, वहीं सेना ने सैफई मेडिकल यूनिवर्सिटी में दो साल से खराब पड़ी ऑक्सीजन की दोनों यूनिटों को ठीक करने की कवायद शुरू कर दी थी.

अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज