Home /News /uttar-pradesh /

miscreants traveled 850 kilometer to rob nepalese software engineer vishal aryal know the full story nodark

नेपाली सॉफ्टवेयर इंजीनियर को लूटने के लिए बदमाशों ने तय की 850KM की दूरी, जानें रूह कंपा देने वाली कहानी

सॉफ्टवेयर इंजीनियर विशाल अर्याल नेपाल के रहने वाले हैं.

सॉफ्टवेयर इंजीनियर विशाल अर्याल नेपाल के रहने वाले हैं.

UP Crime News: यूपी में नेपाली सॉफ्टवेयर इंजीनियर विशाल अर्याल (Vishal Aryal) से लूटपाट का एक अनोखा मामला सामने आया है. दरअसल बदमाशों ने सॉफ्टवेयर इंजीनियर को लूटने के लिए करीब 850 किलोमीटर की यात्रा की. वह जब बाराबंकी से विशाल को लूटने के बाद कार में हाथ और मुंह बांध कर वापस नोएडा लौट रहे थे तो इटावा में लखनऊ-आगरा एक्‍सप्रेसवे पर पेट्रोल पंप पर डीजल डलवाने के दौरान बंधक किसी तरह छूट गया. इसके बाद उसने शोर मचा दिया, तो बदमाश भाग गए. वहीं, सैफई पुलिस ने मुठभेड़ के बाद मास्‍टरमाइंड आसिफ सैफी को अरेस्‍ट कर लिया है.

अधिक पढ़ें ...

इटावा. नेपाली सॉफ्टवेयर इंजीनियर विशाल अर्याल (Vishal Aryal) को लूटने के लिए एक कुख्यात अपराधी द्वारा करीब 850 किलोमीटर की यात्रा तय करने का मामला सामने आया है. वहीं, पुलिस ने इटावा के सैफई इलाके में मुठभेड़ में सॉफ्टवेयर इंजीनियर को लूटकर बंधक बनाने वाले एक अपराधी को गिरफ्तार करने का दावा किया है. इस मामले में इटावा के एसएसपी जयप्रकाश सिंह ने बताया कि नेपाली सॉफ्टवेयर इंजीनियर को लूटने वाले आसिफ सैफी के कब्जे से एक पिस्टल, छह कारतूस और लूटे गए 2 लाख रुपये में से 135000 रुपये बरामद किये गये हैं.

इसके साथ एसएसपी ने बताया कि गिरफ्तार किए गए लुटेरे ने नेपाली युवक को लूटने के लिए करीब 850 किलोमीटर की यात्रा की. दिल्‍ली से सटे यूपी के नोएडा के परीचौक से अपराधी कार में सवार हुआ और आगरा-लखनऊ एक्सप्रेसवे से बाराबंकी तक पहुंचा. उसके बाद नेपाली सॉफ्टवेयर इंजीनियर को कार में ही बंधक बनाकर डाल लिया और कार को वापस आगरा-लखनऊ एक्सप्रेसवे होते हुए नोएडा चल दिया, लेकिन इटावा जिले के सैफई इलाके में 104 माइल स्टोन पर डीजल खत्म होने पर कार रुक गयी. जब कार रुकी तो लुटेरों ने डीजल डलवाने की कोशिश की और इस बीच बंधक कार से निकल भागा. इसके बाद नेपाली सॉफ्टवेयर इंजीनियर ने अपने साथ हुई पूरी घटना की जानकारी पुलिस को दी.

जानें कैसे अपराधी ने बिछाया जाल
इटावा एसएसपी जयप्रकाश सिंह ने बताया कि सॉफ्टवेयर इंजीनियर विशाल अर्याल नेपाल के पाल्या के रहने वाले हैं. वह 29 मार्च को ग्रेटर नोएडा स्थित अपनी बहन के घर से सोनाली बॉर्डर के लिए अपनी टोयोटा इटियोस कार से जा रहे थे. इसी दौरान एक अज्ञात राहगीर ने यमुना एक्सप्रेसवे पर लखनऊ जाने की कह कर लिफ्ट मांगी. लिफ्ट लेने के बाद जब वह लखनऊ पहुंचा तो उस व्यक्ति ने बाराबंकी जाने की बात कही थी. इसके बाद कार बाराबंकी पार करने के बाद टोल प्‍लाजा पर पहुंची तो लिफ्ट लेने वाले व्यक्ति ने नेपाली सॉफ्टवेयर इंजीनियर की कनपटी पर पिस्टल लगाकर कार रुकवा ली.

नेपाली सॉफ्टवेयर इंजीनियर के मुताबिक, बाराबंकी के बाद टोल पर अपराधी ने पहले से मौजूद अपने दो अन्य साथियों को कार में बैठा लिया. इसके बाद मेरे साथ न सिर्फ मारपीट की गई बल्कि हाथ और मुंह बांधकर कार में पीछे डाल दिया. इसके साथ उन्‍होंने मेरा मोबाइल,आधार कार्ड, 2 लाख रुपयों से भरा बैग और अन्य जरूरी कागजात लूट लिए. वहीं, बदमाश उसकी कार चलाकर लखनऊ-आगरा एक्सप्रेसवे पर आगरा की ओर चल दिए. इसी दौरान कार में डीजल खत्‍म होने पर एक्सप्रेसवे स्थित किलोमीटर नंबर 104 पर लगे पेट्रोल पम्प पर डीजल डलवाने लगे तो मैंने मौका पाकर अपने हाथ व मुंह खोल लिए और कार से उतरकर शोर मचाया कि ये लोग बदमाश हैं और मेरी कार व पैसे छीन लिए हैं. इसके बाद बदमाश मेरी कार छोड़कर भाग गए थे.

शिकायत के बाद पुलिस ने लिया एक्‍शन
वहीं, मामले की शिकायत मिलने के बाद क्षेत्राधिकारी सैफई के नेतृत्व में अभियुक्तों की गिरफ्तारी एवं लूट की घटना के सफल अनावरण हेतु थाना सैफई से पुलिस टीम का गठन किया गया था. इसके बाद पुलिस ने इलेक्ट्रॉनिक एवं मैनुअल साक्ष्यों के आधार पर अपराधी की गिरफ्तारी हेतु संभावित स्थानों पर दबिश दी. इस बीच मुखबिर की सूचना पर विलिन्दा नहर पुल के पास मुठभेड़ के बाद गौतमबुद्ध नगर के अपराधी आसिफ से 6 जिंदा कारतूस, 1 आधार कार्ड और 135500 रुपये बरामद किये गये. पुलिस पूछताछ में गिरफ्तार अपराधी ने बताया कि यमुना एक्सप्रेसवे के नोएडा स्थित जीरो प्वाइंट से उसने एक टोयोटा इटियोस चालक से लिफ्ट मांगी थी. इसके बाद बाराबंकी पहुंचने पर अपने अन्य 2 साथियों के साथ मिलकर कार चालक के साथ मारपीट कर उससे 2 लाख रुपये, मोबाइल, आधार कार्ड आदि सामान छीन लिया था. इसके बाद लखनऊ से आगरा की तरफ आते हुए कार में डीजल डलवाते समय पेट्रोल पम्प पर कार मालिक के शोर मचाने पर हम लोग पैसों से भरा थैला और अन्‍य छीना हुआ सामान लेकर जंगल की ओर भाग गये थे.

तिहाड़ जेल में बंद रहा है सैफी
नेपाली सॉफ्टवेयर इंजीनियर को लूटने वाले आसिफ सैफी ने साल 2018 में नई दिल्ली के भजनपुरा से 7 साल के एक मासूम का अपहरण कर लिया था. इस मामले में वह काफी दिनों तक तिहाड़ जेल में कैद भी रहा था. वहीं, पुलिस सैफी के दो अन्‍य साथियों की तलाश कर रही है, जो कि मौके से फरार हो गए थे. एसएसपी ने दावा किया है कि बहुत जल्दी ही दोनों लुटेरे भी गिरफ्तार कर लिया जाएंगे.

Tags: Etawah news, Etawah Police, India-Nepal Border, Up crime news

विज्ञापन

राशिभविष्य

मेष

वृषभ

मिथुन

कर्क

सिंह

कन्या

तुला

वृश्चिक

धनु

मकर

कुंभ

मीन

प्रश्न पूछ सकते हैं या अपनी कुंडली बनवा सकते हैं ।
और भी पढ़ें
विज्ञापन

टॉप स्टोरीज

अधिक पढ़ें

अगली ख़बर