Home /News /uttar-pradesh /

Modi Cabinet Expansion: UP के प्रभावी दलित नेता माने जाते हैं प्रो रामशंकर कठेरिया, जानिए सियासी सफर

Modi Cabinet Expansion: UP के प्रभावी दलित नेता माने जाते हैं प्रो रामशंकर कठेरिया, जानिए सियासी सफर

UP: बीजेपी के इटावा से सांसद प्रोफेसर राम शंकर कठेरिया को मोदी मंत्रिमंडल विस्तार में जगह मिलने की अटकलें तेज हैं.

UP: बीजेपी के इटावा से सांसद प्रोफेसर राम शंकर कठेरिया को मोदी मंत्रिमंडल विस्तार में जगह मिलने की अटकलें तेज हैं.

Etawah News: इटावा से बीजेपी सांसद प्रोफेसर रामशंकर कठेरिया को जिस तरह से एकाएक दिल्ली बुलाया गया है, उससे उनके समर्थकों में उत्साह देखा जा रहा है. समर्थकों का मत है कि मोदी मंत्रिमंडल में प्रो. रामशंकर कठेरिया को एक बार फिर से मिलने जा रही है.

अधिक पढ़ें ...
इटावा. पूर्व केंद्रीय राज्य मंत्री और इटावा (Etawah) से भारतीय जनता पार्टी (BJP MP) के सांसद प्रो. रामशंकर कठेरिया (Prof. Ram Shankar Katheria) को मोदी मंत्रिमंडल (Modi Cabinet Expansion) के एक बार फिर से जगह मिलने की उम्मीद जताई जा रही है. हालांकि इस बारे में कोई आधिकारिक पुष्टि अभी तक नहीं की जा सकती है लेकिन जिस ढंग से प्रो. रामशंकर कठेरिया को एकाएक दिल्ली बुलाया गया है, उससे उनके समर्थकों में उत्साह देखा जा रहा है. दिल्ली बुलाए जाने के पीछे समर्थकों का ऐसा मत है कि मोदी मंत्रिमंडल में प्रो. रामशंकर कठेरिया को एक बार फिर से मिलने जा रही है. बता दें प्रोफेसर रामशंकर कठेरिया इससे पहले भी मोदी मंत्रिमंडल में मानव संसाधन विभाग में राज्यमंत्री रह चुके हैं.

प्रोफेसर रामशंकर कठेरिया उत्तर प्रदेश के प्रभावी दलित नेताओं में भी शुमार हैं और इसी वजह से उनको पार्टी संगठन में राष्ट्रीय महासचिव की जगह भी दी जा चुकी है. इतना ही नहीं प्रोफेसर रामशंकर कठेरिया अनुसूचित जाति आयोग के चेयरमैन भी रह चुके हैं. प्रो. कठेरिया उत्तर प्रदेश के आगरा निर्वाचन क्षेत्र का प्रतिनिधित्व करते थे. आगरा से लगातार दो चुनाव जीते और 6 जुलाई 2016 तक मानव संसाधन विकास मंत्रालय में राज्य मंत्री रहे. वह मूल रूप से उत्तर प्रदेश के इटावा जिले के नागरिया गांव के रहने वाले हैं.



प्रो. राम शंकर कठेरिया ने अखिल भारतीय विधार्थी परिषद से शुरूआती तौर पर जुड़कर राजनीतिक जीवन की शुरुआत की. कठेरिया आरएसएस के प्रचारक रहते हुए भारतीय जनता पार्टी की राजनीति में स्थापित हुए हैं. राजनीति में अपनी शुरुआत से पहले, राम शंकर कठेरिया आगरा विश्वविद्यालय में हिंदी के प्रोफेसर रहे. उन्होंने 13 वर्षों तक आगरा में आरएसएस के प्रचारक के रूप में भी काम किया.

2019 के संसदीय चुनाव में बीजेपी ने प्रो. राम शंकर कठेरिया को गृह जिले इटावा से टिकट दिया, जिसमें उनको जीत हासिल की. उस वक्त रामशंकर अनसूचित जाति आयोग के चैयरमैन भी थे लेकिन बदली हुई परिस्थितियों में इस पद से उनको हटा दिया गया. रामशंकर कठेरिया को प्रभावी दलित नेता के तौर पर माना जाता है. वो एक समय पार्टी के राष्ट्रीय महासचिव पद पर भी काबिज रहे. अब एकाएक उनके नाम के मोदी मंत्रिमंडल में शामिल होने को लेकर चर्चा के केंद्र में आ गया है.

Tags: BJP MP, Cabinet expansion, Cabinet reshuffle, Etawah news, UP news

विज्ञापन

विज्ञापन

टॉप स्टोरीज

अधिक पढ़ें

अगली ख़बर