इटावा हादसे में मारे गए 12 श्रद्वालुओं का पोस्टमार्टम रात में ही होगा, तीन डाक्टरों की बनाई गई टीम

इटावा हादसे में मौत का शिकार हुए मृतकों का पोस्टमार्टम रात में कराया जा रहा है.

इटावा हादसे में मौत का शिकार हुए मृतकों का पोस्टमार्टम रात में कराया जा रहा है.

उत्तर प्रदेश के इटावा जिले के बढ़पुरा इलाके मे मोहाली मोड के पास हुए दर्दनाक हादसे में शिकार हुए 12 लोगों के शवों का पोस्टमार्टम रात में कराया जा रहा है. इसके लिए तीन डाक्टरों की टीम गठित की गई है.

  • Last Updated: April 10, 2021, 11:26 PM IST
  • Share this:
इटावा. उत्तर प्रदेश के इटावा जिले के बढ़पुरा इलाके मे मोहाली मोड के पास हुए दर्दनाक हादसे (Etawah accident) में शिकार हुए 12 लोगों के शवों का पोस्टमार्टम रात में कराया जा रहा है. इसके लिए तीन डाक्टरों की टीम लगाई गई है. इटावा के मुख्य चिकित्साधिकारी डा. एनएस तोमर ने बताया कि DCM हादसे में दस लोगों की मौके पर ही मौत हो गयी थी. दो लोगोंं की इलाज के दौरान जिला अस्पताल में मौत हो गई थी. हादसे में 40 लोग घायल हुए हैं, जिनमें 10 लोग सैफई मेडिकल यूनिवर्सिटी रेफर किये जा चुके हैं. जबकि 28 लोगों का इलाज जिला अस्पताल में चल रहा है. हादसे में मरने वाले सभी एक दर्जन श्रद्धालुओंं का पोस्टमार्टम रात में ही किया जाएगा, जिसके लिए तीन डाक्टरों की टीम बनाई गई हैं.

CMO ने बताया कि पंचायतनामा की कार्यवाही पूरी होने के बाद डाक्टरों की टीम शवों का पोस्टमार्टम करने में जुट जाएगी. इटावा में हुए डीसीएम हादसे में मरने वालो में संख्या बढ़कर 12 हो गयी है. हादसे में घायल महिला ने इलाज के दौरान जिला अस्पताल में दम तोड़ दिया है. स्वास्थ्य विभाग की टीम हादसे में मरने वाले एक दर्जन श्रद्धालुओं के शवों का पोस्टमार्टम रात में ही करने की तैयारी में जुटी है. घायलों का हालचाल लेने के लिए सदर विद्यायक सरिता भदौरिया और सपा जिलाध्यक्ष गोपाल यादव जिला अस्पताल पहुंचे हैं. सदर विधायक ने अस्पताल में भर्ती घायलों को उचित उचित इलाज देने के लिए सीएमओ को निर्देशित किया.

वहीं सपा जिलाध्यक्ष गोपाल यादव ने यूपी के सीएम योगी आदित्यनाथ ने मृतकों को दिए गए दो-दो लाख रुपये के मुआवजे को नाकाफी बताया. उन्होंने मृतकों को दस-दस लाख और घायलों को दो-दो लाख रूपये देने की मांग की है. बता दें कि शनिवार शाम करीब साढ़े चार बजे आगरा के पिनाहट से लखना कालिका मंदिर झंडा चढाने जा रहे श्रद्धालुओ से भरी डीसीएम अनियंत्रित होकर खाई में गिर गयी थी. जिसमें दस श्रद्धालुओ की मौके पर मौत हो गयी थी और चालीस लोग घायल हो गए थे जिसके बाद देर शाम इलाज के दौरान दो श्रद्धालुओं ने दम तोड़ दिया.

बीजेपी विधायक सरिता भदौरिया ने बताया कि यह ह्रदय विदारक हादसा हुआ है. जिसमें 12 श्रद्धालुओं की मौत हो चुकी है, सभी घायलों को बेहतर इलाज देने के लिए स्वास्थ्य विभाग को निर्देशित किया गया है. मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने फौरी तौर पर मृतको को दो-दो लाख रुपये के मुआवजा देने की घोषणा की है. उनके द्वारा भी ज्यादा से ज्यादा मदद मृतकोंं के परिजनों की करवाने की कोशिश की जाएगी.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज