Home /News /uttar-pradesh /

इटावा जिला जेल में कैदी की मौत, 3 डॉक्टरों का पैनल करेगा पोस्टमॉर्टम, मैजिस्ट्रेट स्तर का अफसर करेगा जांच

इटावा जिला जेल में कैदी की मौत, 3 डॉक्टरों का पैनल करेगा पोस्टमॉर्टम, मैजिस्ट्रेट स्तर का अफसर करेगा जांच

दीपक की फाइल फोटो.

दीपक की फाइल फोटो.

Undertrial Prisoner : दीपक के परिजनों के जिला अस्पताल में हंगामा करने की सूचना मिलने के बाद इटावा के नगर मजिस्ट्रेट राजेंद्र प्रसाद, उप जिलाधिकारी राजेश वर्मा, सीओ सिटी अमित कुमार सिंह समेत कई अफसर पुलिसबल के साथ गुस्साए लोगों को समझाने के लिए पहुंचे. उन्होंने इस बात का भरोसा दिया कि पूरे प्रकरण की जांच मजिस्ट्रेट स्तर के अफसर से कराई जाएगी और शव का पोस्टमॉर्टम 3 डाक्टरों के पैनल से कराया जा रहा है. पोस्टमॉर्टम रिपोर्ट आने के बाद अगर जेलकर्मी दोषी पाए जाते हैं, तो उनके खिलाफ दंडात्मक कार्रवाई अमल में लाई जाएगी.

अधिक पढ़ें ...

इटावा. उत्तर प्रदेश के इटावा जिला जेल में गुरुवार को एक विचाराधीन कैदी की संदिग्ध हालात में मौत हो गई है. कैदी के परिजनों ने हत्या की आशंका जताई है. उन्होंने जेल अफसरों पर हत्या का मामला दर्ज कर कार्रवाई की मांग की है. जिस कैदी की मौत हुई है उसकी पहचान दीपक शाक्य के रूप में हुई है. वह इटावा जिले के भरथना थाना क्षेत्र के बाहरपुरा गांव का रहनेवाला था.

बता दें कि दीपक दहेज हत्या के आरोप में इटावा जिला जेल में बंद था. दीपक की पत्नी मेघा ने 2 जनवरी को फांसी लगाकर जान दे दी थी. जिसके बाद मेघा के परिजनों ने दहेज हत्या का मुकदमा दर्ज कराया था. इसी केस में 3 जनवरी को दीपक और उसके पिता को गिरफ्तार करके जेल भेज दिया गया था.

पेड़ से गिरकर घायल हुआ था दीपक!

5 जनवरी की रात 9 बजे के करीब इटावा जिला जेल से दीपक को घायल अवस्था में मुख्यालय के डॉ. भीमराव अंबेडकर राजकीय संयुक्त चिकित्सालय लाया गया था. जेल अफसरों का कहना है कि पेड़ से गिरने से दीपक घायल हो गया था. लेकिन उनके पास इस बात का जवाब नहीं था कि दीपक आखिरकार पेड़ से कैसे गिरा?

दीपक के परिजनों का आरोप

गुरुवार को परिजनों को जेल प्रशासन ने टेलीफोन के जरिए दीपक की मौत की जानकारी दी गई. इस जानकारी के बाद परिजन जिला अस्पताल पहुंचे. उन्होंने जेल प्रशासन पर गंभीर आरोप लगाए और कहा कि जेल के भीतर दीपक की हत्या करके उसको मौत के घाट उतारा गया है. दीपक के चचेरे भाई गौरव ने बताया कि जो शख्स 3 जनवरी को सही सलामत जेल में दाखिल हुआ हो और आखिरकार ऐसा क्या उसके साथ घटित हो गया कि 2 दिन के भीतर ही उसकी जान चली जाए. जाहिर है कि जेल के भीतर जरूर ऐसा कुछ न कुछ हुआ है, जिसके चलते दीपक की मौत हुई है. मौत को लेकर के जेल के अफसर हर हाल में जिम्मेदार हैं. उनके खिलाफ हत्या का मुकदमा दर्ज करके कार्रवाई अमल में लाई जाए.

पुलिस अधिकारियों का आश्वासन

दीपक के परिजनों के जिला अस्पताल में हंगामा करने की सूचना मिलने के बाद इटावा के नगर मजिस्ट्रेट राजेंद्र प्रसाद, उप जिलाधिकारी राजेश वर्मा, सीओ सिटी अमित कुमार सिंह समेत कई अफसर पुलिसबल के साथ गुस्साए लोगों को समझाने के लिए पहुंचे. उन्होंने इस बात का भरोसा दिया कि पूरे प्रकरण की जांच मजिस्ट्रेट स्तर के अफसर से कराई जाएगी और शव का पोस्टमॉर्टम 3 डाक्टरों के पैनल से कराया जा रहा है. पोस्टमॉर्टम रिपोर्ट आने के बाद अगर जेलकर्मी दोषी पाए जाते हैं, तो उनके खिलाफ दंडात्मक कार्रवाई अमल में लाई जाएगी.

Tags: Crime News, Etawah latest news, Etawah Police

विज्ञापन

राशिभविष्य

मेष

वृषभ

मिथुन

कर्क

सिंह

कन्या

तुला

वृश्चिक

धनु

मकर

कुंभ

मीन

प्रश्न पूछ सकते हैं या अपनी कुंडली बनवा सकते हैं ।
और भी पढ़ें
विज्ञापन

टॉप स्टोरीज

अधिक पढ़ें

अगली ख़बर