अपना शहर चुनें

States

यूपी के सैफई में रैगिंग की शर्मनाक घटना, MBBS के 150 स्टूडेंट्स का सीनियर्स ने मुंडवाया सिर

सिर मुड़वा कर चलते जूनियर्स
सिर मुड़वा कर चलते जूनियर्स

इस घटना का वीडियो सामने आने के बाद मेडिकल यूनिवर्सिटी के वाइस चांसलर डॉ राजकुमार ने कहा कि पूरे मामले की जांच कराई जाएगी और दोषियों के खिलाफ कार्रवाई की जाएगी.

  • Share this:
उत्तर प्रदेश (Uttar Pradesh) के सैफई (Saifai) में स्थित उत्तर प्रदेश यूनिवर्सिटी ऑफ मेडिकल साइंसेज (Uttar Pradesh University of Medical Sciences/यूपीयूएमएस) में रैगिंग का एक चौंकाने वाला मामला सामने आया है. सैफई में स्थित इस मेडिकल यूनिवर्सिटी में सीनियर छात्रों ने एमबीबीएस के जूनियर छात्रों से फिल्मी अंदाज में रैगिंग करवाई. करीब 150 जूनियर छात्रों का सीनियर छात्रों ने जबरन सिर मुंडवा दिया और जूनियर छात्रों से सीनियर छात्रों के हॉस्टल के सामने परेड करवाई गई. जूनियर एमबीबीएस के छात्रों से जबरन 'हुजूर तोहफा कुबूल है' के नारे लगवाए गए.

देश की सबसे बड़ी अदालत ने कई बार अपने आदेशों में सख्ती से रैगिंग पर रोक लगाने को कहा है. रैगिंग के खिलाफ कानून भी सरकार ने बना रखे हैं. इसके बावजूद सैफई में गुंडागर्दी अराजकता और इस तरह से छात्रों को अपमानित करके रैगिंग किए जाने का यह मामला सामने आया है. तस्वीर में आप देख सकते हैं कि सैकड़ों छात्र एक कतार में सिर मुड़वाकर सीनियर हॉस्टल के सामने से गुजर रहे हैं और सीनियर्स की दबंगई से इतना परेशान है कि बेहद अपमानजनक रैगिंग के बाद सीनियर्स के कहे अनुसार नारे भी लगा रहे हैं.

वाइस चांसलर ने कार्रवाई का दिया भरोसा
इस पूरे मामले में खुलकर सैफई मेडिकल यूनिवर्सिटी प्रशासन की लापरवाही और संवेदनहीनता उजागर हुई है. वहीं, इस घटना का वीडियो सामने आने के बाद मेडिकल यूनिवर्सिटी के वाइस चांसलर डॉ राजकुमार ने कहा कि पूरे मामले की जांच कराई जाएगी और दोषियों के खिलाफ कार्रवाई की जाएगी.
यह भी जानकारी मिली है कि पिछले कई दिनों से इसी तरह लगातार जूनियर छात्रों की परेड करवाई जा रही है लेकिन विश्वविद्यालय प्रशासन की लापरवाही का आलम यह है कि मीडिया की दखल के बाद वाइस चांसलर कार्रवाई की बात कह रहे हैं जबकि विश्वविद्यालय के सभी विभागों में वहां के हेड ऑफ डिपार्टमेंट के अधीन एंटी रैगिंग टीम बनाई गई है.



हाल ही में आया था रेप के बाद जहर देने का मामला
हाल ही यहां एक मेडिकल छात्रा के साथ यौन शोषण के बाद उसे जहर खिलाने का मामला सामने आया था. पीड़ित डॉक्टर के परिजनों ने सीनियर डॉक्टरों पर उसके यौन शोषण और हत्या के प्रयास का आरोप लगाया था. परिजनों ने मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ से इंसाफ की गुहार लगाई थी. आरोप है कि यूपीयूएमएस के कुछ सीनियर डॉक्टरों ने दोस्ती के जाल में फंसा कर छात्रा को अपना शिकार बना लिया. उसका यौन शोषण किया और जब उन्हें अपना राज खुलने का अंदेशा हुआ तो उन्होंने छात्रा को धोखे से जहर खिलाकर मारने की कोशिश की.

इसके पहले भी कई छात्र-छात्राओं के शोषण के मामले और उन्हें शारीरिक अथवा मानसिक तौर पर उत्पीड़न करने के मामले सामने आ चुके हैं. लेकिन कार्रवाई के बजाय मामलों को दबा दिया जाता है.

(रिपोर्ट- दीपक मिश्रा)

ये भी पढ़ें-
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज