अपना शहर चुनें

States

रामगोपाल का शिवपाल को जवाब- राष्ट्रीय अध्यक्ष का पद स्वयं अखिलेश भी किसी को नहीं दे सकते

शिवपाल सिंह यादव द्वारा अखिलेश को पार्टी के राष्ट्रीय अध्यक्ष पद छोड़ने पर रामगोपाल यादव ने इटावा में जवाब दिया है कि शायद उन्होंने समाजवादी पार्टी का संविधान नही पढ़ा है.

  • Share this:
समाजवादी पार्टी में वर्चस्व की जंग के बीच नेताओं में जवाबी हमले तेज होते दिख रहे हैं. शिवपाल सिंह यादव द्वारा अखिलेश को पार्टी के राष्ट्रीय अध्यक्ष पद छोड़ने पर रामगोपाल यादव ने इटावा में जवाब दिया है कि शायद उन्होंने समाजवादी पार्टी का संविधान नही पढ़ा है. राष्ट्रीय अध्यक्ष का पद स्वयं अखिलेश भी किसी को नही दे सकते.

दरअसल एक दिन पहले जौनपुर में शिवपाल सिंह यादव ने कहा था कि राष्ट्रीय अध्यक्ष अखिलेश यादव को अब पार्टी की कमान सपा संस्थापक मुलायम सिंह यादव को सौंप देनी चाहिए. क्योंकि उन्होंने ही कहा था कि तीन महीने के बाद पार्टी की कमान सपा मुखिया मुलायम सिंह यादव को सौंप देंगे. ऐसे में उन्हें अब अपना वादा पूरा करना चाहिए.

रामगोपाल ने कहा कि पार्टी की जनरल बॉडी ने सर्वसम्मति से अखिलेश को राष्ट्रीय अध्यक्ष चुना है. सदस्यता अभियान खत्म होने के बाद राष्ट्रीय अध्यक्ष के पद का भी चुनाव होगा. शिवपाल को पार्टी की नीतियों की जानकारी नहीं है. अगर शिवपाल को अध्यक्ष बनना है या कुछ और तो पार्टी में लोगों को सदस्यता दिलावएं और नीचे से लेकर ऊपर तक चुनाव लड़वाएं. इनके पास कुछ नहीं है, इन्होंने नेता जी (मुलायम सिंह यादव) को गुमराह किया है.



इससे पहले इटावा में समाजवादी पार्टी के सदस्यता कार्यक्रम में पहुंचे रामगोपाल ने कहा कि समाजवादी पार्टी का जो सदस्यता अभियान चल रहा है, उसमें सक्रिय सदस्य बनने के उद्देश्य से आया हूं. पार्टी के जिलाध्यक्ष गोपाल यादव द्वारा मुझे सदस्य बनाया गया है.
नक्सलियों पर बोलते हुए कहा कि नक्सलियों के बारे में मैं पहले भी संसद में बोल चुका हूं. आतंकवाद से भी कठिन समस्या है, नक्सलवाद. उसके लिए केंद्र सरकार और सम्बंधित राज्य सरकार को अपनी नीति और रणनीति बदलनी चाहिए. ये समस्या सिर्फ वहां है, जहां गरीबी है.

जब आदमी के पास खोने को कुछ नहीं होता, तब वो हथियार उठा लेता है. समाजवादियों का पुराना नारा रहा है कि जो जमीन को जोतता है, वही उसका मालिक है. नक्सलियों के लिए सेना को भेजकर कोई हल नही निकलेगा, नक्सलियों को रास्ते पर लाने के लिए सुविधाएं देनी होंगीं.

तीन तलाक के मुद्दे रामगोपाल बोले कि बीजेपी का काम है नारे देना और मुद्दों को उछालना. उसके बाद दूसरों पर आरोप लगाना फिर उस पर राजनीति करना, साध्वी प्राची पर तंज कसते हुए कहा कि उनके बयानों पर मैं कभी ध्यान नहीं देता हूं.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज