अपना शहर चुनें

States

सैफई मेडिकल कॉलेज रैगिंग मामले में उच्च स्तरीय जांच के आदेश, VC को सीएम ने किया तलब

योगी आदित्यनाथ ने सैफई मेडिकल यूनिवर्सिटी के वीसी को रैगिंग मामले में तलब किया.
योगी आदित्यनाथ ने सैफई मेडिकल यूनिवर्सिटी के वीसी को रैगिंग मामले में तलब किया.

उत्तर प्रदेश (Uttar Pradesh) के सैफई (Saifai) में स्थित उत्तर प्रदेश यूनिवर्सिटी ऑफ मेडिकल साइंसेज (Uttar Pradesh University of Medical Sciences/यूपीयूएमएस) में रैगिंग के मामले से हड़कंप मचा हुआ है.

  • Share this:
उत्तर प्रदेश (Uttar Pradesh) के सैफई (Saifai) में स्थित उत्तर प्रदेश यूनिवर्सिटी ऑफ मेडिकल साइंसेज (Uttar Pradesh University of Medical Sciences/यूपीयूएमएस) में रैगिंग के मामले से हड़कंप मचा हुआ है. मामले में मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने विश्वविद्यालय प्रशासन पर गंभीर रुख अपनाते हुए वाइस चांसलर को लखनऊ तलब कर लिया है. वाइस चांसलर प्रोफेसर राजकुमार लखनऊ के लिए रवाना हो गए हैं.

दरअसल मामले के बाद यूनिवर्सिटी के वीसी ने जांच में रैगिंग की बात से छात्रों ने इनकार किया था. वहीं मामले से नाराज मेडिकल काउंसिल आफ इंडिया (MCI) ने मेडिकल यूनिवर्सिटी की मान्यता रद्द करने की चेतावनी दे दी है. साथ ही सभी कोर्सेज पर रोक लगाने की चेतावनी दी है. एमसीआई के अनुसार रैगिंग में लिप्त यूनिवर्सिटी के हर छात्र पर एक लाख रुपये का जुर्माना लगाया जा सकता है.

उधर जिला प्रशासन की रिपोर्ट में विश्वविद्यालय प्रशासन रैगिंग को छुपाने का दोषी पाया गया है. विश्वविद्यालय के प्रो वीसी प्रशासनिक अधिकारी और रजिस्ट्रार ने शासन मामले में गुमराह किया. विश्वविद्यालय ने अपनी जांच रिपोर्ट में कहा था कि कोई रैगिंग नहीं हुई. मीडिया की खबर और शासन की फटकार के बाद विश्वविद्यालय ने रैगिंग की घटना स्वीकार की है.



बिठाई गई उच्चस्तरीय जांच कमेटी
मामले में प्रमुख सचिव चिकित्सा शिक्षा रजनीश दुबे ने उच्च स्तरीय जांच समिति बिठा दी है. इटावा के डीएम-एसएसपी की निगरानी में उच्च स्तरीय जांच समिति अब पूरे मामले में दोबारा जांच करेगी. सीडीओ, एडीएम, एडिशनल एसपी और डीआईओएस इस जांच कमेटी में शामिल होंगे. दरअसल मामले के बाद यूनिवर्सिटी के वाइस चांसलर डॉ. राजकुमार ने कहा है कि कैंपस में जूनियर छात्रों के सिर मुंडे हुए दिखाई दिए थे. आरोप लगाया गया था कि इनके साथ रैगिंग की गई है. उन्होंने कहा कि शुरुआती जांच रिपोर्ट के अनुसार छात्रों ने इस संबंध में किसी भी तरह की रैगिंग की बात से इनकार किया है. जांच रिपोर्ट के अनुसार रैगिंग का आरोप निराधार है. इस रिपोर्ट पर सभी छात्रों के हस्ताक्षर लिए गए हैं.

बता दें यूनिवर्सिटी के करीब 150 जूनियर छात्रों का सीनियर छात्रों ने जबरन सिर मुंडवा दिया और उनसे सीनियर छात्रों के हॉस्टल के सामने परेड करवाई गई. एमबीबीएस के जूनियर छात्रों से जबरन 'हुजूर तोहफा कुबूल है' के नारे लगवाए गए थे. इसका वीडियो वायरल होने के बाद हड़कंप मच गया था.
(रिपोर्ट: दीपक मिश्रा)

ये भी पढ़ें:

MCI ने दी सैफई यूनिवर्सिटी की मान्यता रद्द करने की चेतावनी

150 छात्रों के सिर मुंडवाने का मामला: वीसी बोले- रैगिंग नहीं

रैगिंग: MBBS के 150 स्टूडेंट्स का सीनियर्स ने सिर मुंडवाया
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज