अपना शहर चुनें

States

यूपी: पिता के हत्यारों की गिरफ्तारी के लिए तीन बच्चियां भूख हड़ताल पर बैठीं

पिता के हत्यारों की गिरफ्तारी के लिए भूख हड़ताल पर बैठीं तीन बच्चियां
पिता के हत्यारों की गिरफ्तारी के लिए भूख हड़ताल पर बैठीं तीन बच्चियां

इटावा में अपने पिता के हत्यारों की गिरफ्तारी के लिए एसएसपी कार्यालय के सामने तीन नाबालिग बच्चियां सोमवार से भूख हड़ताल पर बैठ गई हैं.

  • Share this:
इटावा में अपने पिता के हत्यारों की गिरफ्तारी के लिए एसएसपी कार्यालय के सामने तीन नाबालिग बच्चियां सोमवार से भूख हड़ताल पर बैठ गई हैं. इन बच्चियों का आरोप है कि जसवन्तनगर कोतवाली पुलिस तीन माह से उनके पिता के नामजद हत्यारोपियों को नहीं पकड़ रही है और हत्यारे खुलेआम घूम रहे हैं.

गौरतलब है कि इन बच्चियों के पिता सुरेश कुमार गुप्ता की गत 19 अप्रैल को एक मकान के विवाद में चाकुओं से गोदकर हत्या कर दी गई थी. इस मामले में जसवन्तनगर कस्बे के दबंग आरोपी राजेन्द्र प्रसाद गुप्ता, अमित प्रसाद गुप्ता, सुरेश कुमार उर्फ पप्पू सहित दो अन्य लोगों के खिलाफ नामजद रिपोर्ट दर्ज हुई थी.

लेकिन मामले में रिपोर्ट दर्ज करने के बाद थाना जसवन्तनगर पुलिस ने आरोपियों की गिरफ्तारी के लिए कोई ठोस कदम नहीं उठाया. इससे पहले 1 जून को भी ये तीनों बच्चियां कचहरी परिसर में धरने पर बैठीं थीं. जिसके बाद इटावा के एएसपी जितेन्द्र श्रीवास्तव ने एक हफ्ते के भीतर हत्यारोपियों की गिरफ्तारी का आश्वासन देकर इनका धरना खत्म करवाया था.



लेकिन एएसपी के सात दिन में हत्यारोपियों की गिरफ्तारी का आश्वासन भी खोखला साबित हुआ. एएसपी के आश्वासन के एक माह बाद भी हत्यारे पुलिस की पकड़ से दूर हैं. जिसके बाद आज फिर ये तीनों बच्चियां एसएसपी कार्यालय के सामने भूख हडताल पर बैंठ गई हैं. इस मामले में इटावा के एसएसपी बता रहे हैं कि बिना बिसरा रिपोर्ट आए इन बच्चियों के पिता के हत्यारों को गिरफतार नही किया जा सकता.
अब सवाल यह है कि हत्या के ऐसे मामलों में क्या पुलिस बिसरा रिपोर्ट आने के बाद ही हत्यारोपियों की गिरफतारी सुनिश्चित करती हैं? सूत्र बता रहे हैं कि इन बच्चियों के पिता के हत्यारे काफी पैसे वाले और दबंग हैं. साथ ही उनकी राजनैतिक पकड़ भी मजबूत है. इसलिए इटावा के एसएसपी इन बच्चियों के पिता के हत्यारों की गिरफतारी करने के सवाल पर बिसरा रिपोर्ट आने का हवाला देकर हत्यारों को बचाने का प्रयास कर रहे हैं.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज