इटावा में कर्ज से परेशान किसान ने फांसी लगाकर की आत्महत्या

इटावा में कर्ज से परेशान किसान जितेंद्र कुमार उर्फ पप्पी ने आत्महत्या कर ली. (File Photo)

इटावा में कर्ज से परेशान किसान जितेंद्र कुमार उर्फ पप्पी ने आत्महत्या कर ली. (File Photo)

Etawah News: जितेंद्र के इकलौते बेटे राम उर्फ हैप्पी ने बताया कि पिता ने करीब 7 लाख का कर्ज भूमि विकास बैंक, पूर्वांचल बैंक, साधन सहकारी बैंक व कुछ क्षेत्र के साहूकारों से लिया था. इसे उन्होंने उसकी तीन बहनों की शादी में खर्च किया था.

  • Share this:
इटावा. उत्तर प्रदेश के इटावा (Etawah) जिले के बसरेहर थाना क्षेत्र के गांव अकबरपुर में कर्ज मे डूबे एक किसान ने फांसी लगाकर जान (Suicide) दे दी. पुलिस के अनुसार अकबरपुर गांव मे 6 बजे तब सनसनी फैल गई, जब गांव के ही 45 वर्षीय जितेंद्र कुमार उर्फ पप्पी का शव गांव के बाहर जामुन के पेड़ पर फांसी के फंदे पर लटका हुआ मिला. घटना की जानकारी पर बसरेहर थाना प्रभारी मुकेश कुमार सोलंकी पुलिस फोर्स के साथ मौके पर पहुंचे और जांच पड़ताल में जुट गए.

शुरुआती पूछताछ में उन्हें लोगों व परिजनों से जानकारी हुई कि जितेंद्र के ऊपर बैंक व साहूकारों का मिलाकर 7 लाख के आसपास कर्ज था. जो उन्होंने अपनी बेटियों की शादी के लिए लिया था. लेकिन उस कर्ज को अदा न कर पाने को लेकर करीब 2 महीने से परेशान चल रहे थे. उन्हें लगातार साहूकारों व बैंक के पैसा जमा करने का दबाव बनाया जा रहा था. माना जा रहा है कि शायद उसी कारणवश उन्होंने इतना बड़ा कदम उठाया और अपनी जीवन लीला समाप्त कर ली. पुलिस ने शव का पंचनामा भरकर पोस्टमार्टम के लिए भेज दिया.

कई बैंक और साहूकारों से लिया था कर्ज

जितेंद्र के इकलौते बेटे 20 वर्षीय राम उर्फ हैप्पी ने बताया कि पिता ने करीब सात लाख का कर्ज भूमि विकास बैंक, पूर्वांचल बैंक, साधन सहकारी बैंक व कुछ क्षेत्र के साहूकारों से लेकर हमारी तीन बहने शिल्पी, प्रियंका और नीलेश की शादी में खर्च किया था लेकिन खेती में पैदावार ना होने के कारण और जो पैदावार हो भी रही थी, उसमें सही लागत के हिसाब से मूल्य ना मिलने के कारण हम लोग दिन पर दिन घाटे में जाते रहे. उसने बताया कि मेरे पिता काफी परेशान चल रहे थे, शायद उसी कारण बस उन्होंने इतना बड़ा कदम उठाया और अपनी जीवन लीला समाप्त कर ली.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज