होम /न्यूज /उत्तर प्रदेश /UP Chunav: मिली केवल 1 सीट फिर भी अखिलेश यादव के लिए पार्टी की कुर्बानी क्यों दी? शिवपाल यादव ने बता दी वजह

UP Chunav: मिली केवल 1 सीट फिर भी अखिलेश यादव के लिए पार्टी की कुर्बानी क्यों दी? शिवपाल यादव ने बता दी वजह

UP Chunav 2022 के लिए शिवपाल सिंह यादव ने सपा के साथ गठबंधन किया है और इस गठबंधन में उन्हें मात्र एक सीट मिली है.

UP Chunav 2022 के लिए शिवपाल सिंह यादव ने सपा के साथ गठबंधन किया है और इस गठबंधन में उन्हें मात्र एक सीट मिली है.

UP Election 2022: उत्तर प्रदेश विधानसभा चुनाव (Uttar Pradesh Vidhan Sabha Chunav) में प्रगतिशील समाजवादी पार्टी के मुखि ...अधिक पढ़ें

इटावा: उत्तर प्रदेश विधानसभा चुनाव (Uttar Pradesh Vidhan Sabha Chunav) में प्रगतिशील समाजवादी पार्टी के मुखिया शिवपाल सिंह यादव (Shivpal Singh Yadav) को पार्टी की कुर्बानी के बावजूद महज एक सीट ही मिली है, फिर भी वह अखिलेश यादव (Akhilesh Yadav) के लिए वोट मांग रहे हैं. जसवंतनगर से चुनाव लड़ रहे शिवपाल सिंह यादव (Shivpal Yadav) ने कहा है कि अखिलेश यादव (Akhilesh Yadav News) को फिर से मुख्यमंत्री बनाने के लिए उन्होंने अपनी पार्टी और चुनाव चिह्न की कुर्बानी दी है.

यूपी चुनाव के लिए जारी सियासी घमासान के बीच शिवपाल सिंह यादव ने कहा कि वह चाहते हैं कि अखिलेश यादव फिर से मुख्यमंत्री बने. इसीलिए उन्होंने इतनी बड़ी कुर्बानी दी है. उन्होंने कहा कि भले ही मैंने अलग पार्टी बना ली, मगर हमेशा नेता जी मुलायम सिंह यादव से मिलता रहा. वह हमेशा हमें और अखिलेश को एकजुट देखना चाहते हैं.

हालांकि, शिवपाल यादव का फिर वह दर्द भी छलका, जिसकी चर्चा काफी दिनों से हो रही है. शिवपाल यादव ने कहा कि उनकी पार्टी ने सौ से अधिक सीटों पर कैंडिडेट भी फाइनल कर लिए थे, मगर उनके हिस्से केवल एक सीट यानी जसवंतनगर विधानसभा सीट आई. अगर अधिक सीटें मिलतीं तो हम सभी सीटें जीत लेते. उन्होंने आगे कहा कि फिर भी हमारा गठबंधन भाजपा का सफाया कर रहा है. बता दें कि शिवपाल यादव सपा के चुनाव चिह्न साइकिल पर ताल ठोक रहे हैं.

बीते दिनों शिवपाल यादव ने कहा था कि वह अपने बड़े भाई मुलायम सिंह यादव (नेता जी) का बेहद सम्मान करते हैं और उन्हीं के कहने पर सपा गठबंधन का हिस्सा बने थे. उन्होंने कहा, ‘नेताजी कहते थे कि कम से कम सौ सीटें लेना, फिर बोले कम से कम से 200 सीटें लेना, लेकिन मैंने तो केवल 100 ही मांगी थी मगर उन्होंने (अखिलेश) ने कहा कि कुछ कम कर दो, तो पहले 65, फिर 45 और फिर 35 कर दी, फिर बोले यह भी ज्यादा है फिर मैंने कहा कि सर्वे करा लो, जितने भी हमारे जीतने वाले लोग हों, उन्हीं को टिकट दे दो. हम तो समझते थे कि कम से कम 20 या 25 लोगो को टिकट दे देंगे.’

उन्होंने कहा, ‘हमारी सूची में सभी जीतने वाले लोग थे. अगर हमारी मान ली होती तो इटावा सदर सीट पर कितना बढ़िया चुनाव होता. एकतरफा चुनाव होता लेकिन जब सूची निकली, तब केवल एक सीट मिली इसलिए हम चाहते हैं कि सबसे बड़ी जीत इस सीट पर उत्तर प्रदेश में होनी चाहिए.’

Tags: Akhilesh yadav, Assembly elections, Shivpal singh yadav, Uttar Pradesh Assembly Elections, ​​Uttar Pradesh News

विज्ञापन

टॉप स्टोरीज

अधिक पढ़ें