Home /News /uttar-pradesh /

Greater Noida: पूरा पैसा देने, फ्लैट की रजिस्ट्री होने के बाद भी और देने होंगे रुपए, जानिए वजह

Greater Noida: पूरा पैसा देने, फ्लैट की रजिस्ट्री होने के बाद भी और देने होंगे रुपए, जानिए वजह

ग्रेटर नोएडा अथॉरिटी ने बिल्डर को यह अतिरक्त रकम जमा कराने के आदेश जारी किए हैं. (सांकेतिक तस्वीर)

ग्रेटर नोएडा अथॉरिटी ने बिल्डर को यह अतिरक्त रकम जमा कराने के आदेश जारी किए हैं. (सांकेतिक तस्वीर)

ग्रेटर नोएडा (Greater Noida) में जमीन देने वाले किसानों का आरोप है कि इंडस्ट्रियल डवलपमेंट के नाम पर उनसे जमीन मांगी गई. उसी के हिसाब से उन्हें मुआवजा भी दिया गया. लेकिन कुछ वक्त बाद इंडस्ट्री के नाम पर ली गई जमीन का यूज बदलकर ग्रुप हाउसिंग (Group Housing) स्कीम के तहत बिल्डर्स को जमीन का आवंटन कर दिया गया. इस पर कोर्ट गए किसानों का कहना था कि लैंड यूज बदलकर ऊंचे दाम पर बिल्डर्स को जमीन बेची गई है. बिल्डर्स (Builders) भी फ्लैट बनाकर महंगे दाम पर बेच रहे हैं. ऐसे में जब सब मुनाफा कमा रहे हैं तो किसानों को क्यों नहीं उनकी जमीन (Land) का उसी बदले हुए रेट से मुआवजा मिले.  

अधिक पढ़ें ...

    ग्रेटर नोएडा. अगर आप ग्रेटर नोएडा (Greater Noida) में रहते हैं, आपका खुद का फ्लैट है. आप बिल्डर को फ्लैट की पूरी रकम देकर रजिस्ट्री भी करा चुके हैं, लेकिन बावजूद इतना सब करने के आपको एक बार फिर से बिल्डर को एक-डेढ़ लाख रुपये से ज्यादा की रकम देनी पड़ सकती है. ग्रेटर नोएडा अथॉरिटी ने बिल्डर (Builder) को यह अतिरक्त रकम जमा कराने के आदेश जारी किए हैं. अथॉरिटी को जमीन देने वाले किसानों (Farmer) द्वारा अतिरक्त मुआवजा मांगे जाने के बाद यह हालात पैदा हुए हैं. अथॉरिटी ने इंडस्ट्रियल एरिया के लिए भी इसी तरह के आदेश जारी किए हैं.

    वसूला जाएगा 64.7 फीसद अतिरक्त मुआवजा

    जानकारों की मानें तो ग्रेटर नोएडा में जमीन देने वाले किसानों ने अतिरिक्त मुआवजे की मांग की है. यह मामला कोर्ट में भी जा चुका है. इसी के चलते ग्रेटर नोएडा अथॉरिटी रेसीडेंशियल, इंस्टीट्यूशनल और कमर्शियल एरिया में पहले ही अतिरिक्त मुआवजे के लिए आदेश जारी कर चुका है. काफी लोगों से अतिरिक्त मुआवजे की वसूली भी हो चुकी है.

    अब अथॉरिटी ने इंडस्ट्रियल एरिया और ग्रुप हाउसिंग सोसाइटी के तहत जमीन लेने वाले बिल्डर्स को नोटिस भेजना शुरू कर दिया है. नोटिस में अतिरिक्त मुआवजा अथॉरिटी में जमा कराने के आदेश दिए गए हैं. यही मुआवजा अतिरिक्त मुआवजे की मांग करने वाले किसानों में वितरित किया जाएगा.

    दिल्ली-मुंबई, यमुना और पेरिफेरल एक्सप्रेसवे को ऐसे जोड़ा जाएगा Jewar Airport से, ये है प्लान

    1769 रुपये प्रति वर्ग मीटर के हिसाब से होगी वसूली

    जानकारों का कहना है कि साल 2019 में भी इसी तरह का आदेश जारी किया गया था. आदेश आने के बाद बिल्डर कोर्ट चले गए थे. लम्बे अर्से तक कोर्ट में मामला चलने के बाद अब कोर्ट ने अतिरिक्त मुआवजे की वसूली का फैसला ग्रेटर नोएडा अथॉरिटी पर ही छोड़ दिया है. इसके बाद ही अथॉरिटी ने इंडस्ट्रियल एरिया में 478 रुपये प्रति वर्गमीटर और बाकी सभी एरिया में 1769 रुपये प्रति वर्गमीटर अतिरिक्त मुआवजा जमा कराने के आदेश जारी किए हैं.

    Tags: Farmer, Greater noida news, Land Dispute

    विज्ञापन

    राशिभविष्य

    मेष

    वृषभ

    मिथुन

    कर्क

    सिंह

    कन्या

    तुला

    वृश्चिक

    धनु

    मकर

    कुंभ

    मीन

    प्रश्न पूछ सकते हैं या अपनी कुंडली बनवा सकते हैं ।
    और भी पढ़ें
    विज्ञापन

    टॉप स्टोरीज

    अधिक पढ़ें

    अगली ख़बर