मारपीट के आरोपी दिग्विजय सिंह ने सौंपे सभी सरकारी हथियार

आरोप है कि 30 जुलाई की रात रुदौली की ब्लाक प्रमुख शिल्पी सिंह के सरकारी गनर दिग्विजय सिंह ने भाजपा विधायक बाबा गोरखनाथ के ममेरे भाई से मारपीट की थी.

News18 Uttar Pradesh
Updated: August 17, 2018, 10:57 PM IST
News18 Uttar Pradesh
Updated: August 17, 2018, 10:57 PM IST
फैजाबाद में भाजपा विधायक के ममेरे भाई के साथ मारपीट में आरोपी दिग्विजय सिंह ने कैंट थाने में पुलिस लाइन के सामने सारे सरकारी हथियार सौंप दिए. दिग्विजय सिंह सरकारी गनर के पद पर तैनात था और उसने सलहे के साथ-साथ दो कार्बाइन व 100 कारतूस भी सौंपा.

दरअसल आरोप है कि 30 जुलाई की रात रुदौली की ब्लाक प्रमुख शिल्पी सिंह के सरकारी गनर दिग्विजय सिंह ने भाजपा विधायक बाबा गोरखनाथ के ममेरे भाई से मारपीट की थी. इस मारपीट का एक वीडियो भी वायरल हुआ था. वही इस मामले में गनर दिग्विजय सिंह समेत छह आरोपियों के खिलाफ कैंट थाने में गंभीर धाराओं में मुकदमा दर्ज हुआ था. सभी आरोपियों ने हाई कोर्ट से अरेस्ट स्टे आर्डर ले रखा है.

पूर्व मुख्यमंत्रियों समेत 157 सरकारी बंगले कराए खाली, SC को सौंपी रिपोर्ट

गनर दिग्विजय सिंह, मारपीट के बाद सरकारी असले समेत फरार हो गया था. जिसके बाद शुक्रवार को कैंट थाने पहुंचकर पुलिस लाइन के आरमोरर को असलहा सौंपा दिया. इससे पहले कैंट थाने के एसएचओ की अधिवक्ता मार्तंड प्रताप सिंह से काफी बहस भी हुई, जिस पर एसएचओ ने असलहा लेने से मना कर दिया था.

वो कौन था जिसके लिए हार गए थे वाजपेयी और मोदी ने की थी तारीफ!

तर्क दिया कि यह असलहा वही जमा होगा जहां से जारी होता है. लेकिन अधिवक्ता मार्तंड प्रताप सिंह भी अड़े रहे और कहा क्राइम संख्या मुकदमा कैंट थाने में दर्ज है तो संबंधित असलहा भी कैंट थाने में ही जमा होगा. काफी उहापोह की स्थिति के बाद अधिकारियों की सलाह पर पुलिस लाइन से आरमोरर को बुला कर असलहा जमा कराया गया.

पुराने लखनऊ की दूध की बर्फी के दीवाने थे अटल बिहारी वाजपेयी
Loading...
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर