अपना शहर चुनें

States

सरकार की लापरवाहीः पिछले दीपोत्सव में लगी भगवान की मूर्ति ढही

हनुमान मूर्ति गिरने से लोगों में गुस्सा
हनुमान मूर्ति गिरने से लोगों में गुस्सा

स्थानीय लोगों में आक्रोश है श्रद्धालु इसे श्रद्धा के साथ खिलवाड़ मान रहे हैं. उनका कहना है कि प्रशासनिक हीला हवाली की वजह से मूर्तियों की यह दुर्दशा हुई है.

  • Share this:
अयोध्या. उत्तर प्रदेश (Uttar Pradesh) के अयोध्या में पिछले दीपोत्सव में लगी भगवान राम और हनुमान जी की अस्थाई मूर्ति प्रशासन की लापरवाही की वजह से अब उपेक्षा का शिकार हो रही है. भारी बारिश की वजह से प्लास्टर ऑफ पेरिस और घास फूस से बनी हनुमान जी की आराधना मुद्रा की मूर्ति शनिवार को ढह गई. जिसके बाद स्थानीय लोगों में आक्रोश है.

पहली बारिश के दौरान ही ढही मूर्ति
दरअसल 2018 के दीप उत्सव के दौरान अयोध्या में तीन अस्थाई मूर्तियां लगी थी. राम की पैड़ी में राम जी की और उनके सामने आराधना मुद्रा में हनुमान जी की मूर्ति लगी थी. एक मूर्ति सीना चीरते हुए नया घाट पर लगी थी जो पर्यटक केलिए आकर्षण का केंद्र थी. पहली बारिश के दौरान ही नया घाट पर लगी सीना चीरते हुए हनुमान जी की मूर्ति ढह गई थी.

 लापरवाही के चलते हुई मूर्तियों की दुर्दशा
वहीं शनिवार को राम की पैड़ी में भगवान राम की मूर्ति के सामने लगी आराधना मुद्रा में हनुमान जी की मूर्ति भी गिर गई है. स्थानीय लोगों में आक्रोश है श्रद्धालु इसे श्रद्धा के साथ खिलवाड़ मान रहे हैं. उनका कहना है कि प्रशासनिक हीला हवाली की वजह से मूर्तियों की यह दुर्दशा हुई है. दीपोत्सव के बाद उनको हटाकर सुरक्षित स्थान पर रख दिया जाता तो आज मूर्ति सुरक्षित होती.



संत समाज के साथ-साथ लोगों में भी गुस्सा
वही राम की पैड़ी में  लगी अस्थाई भगवान राम की मूर्ति भी जर्जर है और कभी भी धराशाई हो सकती है. मुख्यमंत्री के ड्रीम प्रोजेक्ट की धज्जियां उनके मातहत ही उड़ा रहे हैं. रामलला के प्रधान पुजारी ने भी कहा है कि जो मूर्तियां लगाई जाए वह स्थाई रूप से लगाई जाए. मूर्तियों के इस तरह से ढह जाने के बाद आस्था को ठेस लगती है साथ ही उन्होंने प्रशासन पर हीला हवाली का भी आरोप लगाया.

ये भी पढ़ें:

पहले किशोरी का रेप किया फिर अगवा कर 30 हजार रुपये में बेचा

खुलासा: लव, सेक्स और धोखे की 'कॉकटेल' में हुई मीना की हत्या
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज