लाइव टीवी

बाबरी फैसले पर अयोध्या के संतों ने जताई खुशी, मुस्लिम पक्षकारों ने भी किया स्वागत

Amit Tiwari | News18 Uttar Pradesh
Updated: September 27, 2018, 4:28 PM IST
बाबरी फैसले पर अयोध्या के संतों ने जताई खुशी, मुस्लिम पक्षकारों ने भी किया स्वागत
कोर्ट के फैसले का दोनों पक्षकारों ने किया स्वागत

अयोध्यावासियों का मानना है कि ये विवाद काफी लम्बे समय से चल रहा है. अब उम्मीद है कि इस विवाद का अंत होना चाहिए. अयोध्या के रामजन्मभूमि विवाद के प्रमुख पक्षकार महंत धर्मदास महाराज ने कहा कि फैसला स्वागत योग्य है.

  • Share this:
बाबरी मस्जिद-रामजन्मभूमि के से जुड़े एक मामले पर फैसला सुनाते हुए सुप्रीम कोर्ट की तीन बेंच की खंडपीठ ने 1994 के अपने फैसले को बरकरार रखा है. सुप्रीम कोर्ट ने कहा कि मस्जिद इस्लाम का अभिन्न अंग नहीं है. सुप्रीम कोर्ट के इस फैसले का अयोध्यावासियों ने स्वागत किया है. उनका कहना है कि अब पहली बाधा दूर हो चुकी है और जल्द ही जमीन से जुड़े मुख्य विवाद पर भी फैसला आ जाएगा.

अयोध्यावासियों का मानना है कि ये विवाद काफी लम्बे समय से चल रहा है. अब उम्मीद है कि इस विवाद का अंत होना चाहिए. अयोध्या के रामजन्मभूमि विवाद के प्रमुख पक्षकार महंत धर्मदास महाराज ने कहा कि फैसला स्वागत योग्य है. उन्होंने कहा कि अब 29 अक्टूबर से जब रोजाना सुनवाई होगी तो जमीन विवाद पर भी फैसला आ जाएगा. महंत धर्मदास ने आशा जताई कि साल के अंत तक मंदिर निर्माण का काम भी शुरू हो जाएगा.

बाबरी फैसले से राम मंदिर निर्माण की पहली बाधा दूर: स्वामी चक्रपाणि


वहीं अस्थायी राम मंदिर के महंत सत्येंद्र दास ने कहा कि यह अयोध्यावासियों के साथ-साथ देश भर के लोगों के लिए हर्ष का पल है. उन्होंने कहा कि यह उन लोगों के लिए भी सबक है जो इस पर राजनीति कर रहे हैं. महंत सत्येंद्र दास ने आगे कहा कि अयोध्यावासी इस बात को समझते हैं. जो राजनीति करते हैं उन्हें इससे क्या लेना देना. इसमें सियासत ने कुछ नहीं किया. जो भी कुछ अब तक हुआ है वह कोर्ट के आदेश से हुआ है. आगे भी कोर्ट का फैसला ही मानेंगे.

बाबरी केस: पिंडदान के बीच अयोध्या में सुप्रीम कोर्ट के फैसले पर टकटकी

Loading...

वहीं, फैसले पर मुस्लिम पक्षकार इकबाल अंसारी ने कहा कि अयोध्या इस फैसले का स्वागत करती है. अब हिंदू-मुसलमान की राजनीति खत्म होनी चाहिए. देश को हिंदू-मुसलमान से आगे निकलकर तरक्की के रास्ते पर चलना है. बहुत राजनीति हो चुकी. अब फैसला आ जाए. अयोध्या मंदिर मस्जिद को लेकर नहीं लड़ेगी. हम बैठेंगे और मिलकर इसका हल निकाल लेंगे. बाहर वाले अब इसमें हस्तक्षेप न करें.

बाबरी फैसले को लेकर जुबानी जंग: राम मंदिर पर विनय कटियार को मुस्लिम पक्षकार ने दिया ये जवाब

फैसले पर बबलू खान ने कहा कि आज तक बस इस मुद्दे पर राजनीति होती आई है. अयोध्या में हिंदू-मुसलमान कभी नहीं लड़ता. हम सभी त्योहार एक साथ मनाते हैं. ये तो बाहर वाले हैं जो राजनीति करते हैं. अब मंदिर बने या मस्जिद, इसका फैसला अयोध्या वाले करें तो बेहतर है. हम हिन्दुस्तानी हैं, चाहते हैं हिंदुस्तान आगे बढ़े. कोई हिंदू मुस्लमान के नाम पर लड़ा रहा है तो कोई जाति के नाम पर. ये सब बंद होना चाहिए. मुल्क की तरक्की ही मुख्य मुद्दा है.

बाबरी मस्जिद के मुद्दई बोले- तोड़ने के बाद भी नमाज होगी तो वह जगह मस्जिद ही कहलाएगी

News18 Hindi पर सबसे पहले Hindi News पढ़ने के लिए हमें यूट्यूब, फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें. देखिए फैजाबाद से जुड़ी लेटेस्ट खबरें.

First published: September 27, 2018, 4:28 PM IST
Loading...
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर
Loading...