अयोध्‍या पंचायत चुनाव: हिंदू बाहुल्य गांव में अकेले मुस्लिम ने जीता प्रधानी का चुनाव

हिंदू बाहुल्य गांव में एक मुस्लिम ने जीता प्रधानी का चुनाव (File photo)

हिंदू बाहुल्य गांव में एक मुस्लिम ने जीता प्रधानी का चुनाव (File photo)

हाफिज अजीमुद्दीन रजनपुर में अपने परिवार (Family) के साथ अकेले रहते हैं. राजनपुर गांव में केवल यही एक परिवार मुस्लिम परिवार रहता है

  • Share this:

फैजाबाद. उत्तर प्रदेश में पंचायत चुनावों के परिणाम (UP Panchayat Chunav Results) आ चुके हैं. इन सबके बीच यूपी के फैजाबाद (Faizabad) जिले में गांव रजनपुर में एक ऐसे मुस्लिम प्रधान (Muslim Village Head) ने जीत दर्ज की है. जिस गांव की पहचान बहुसंख्यक गैर-मुस्लिम वोटर के रूप में होती है. जी हां अयोध्या के रुदौली विधानसभा क्षेत्र के मवई ब्लाक के रजनपुर गांव में हाफ़िज अजीम उद्दीन ने हिंदू बहुल क्षेत्र में प्रधान का पद जीतकर यह साबित कर दिया है रजनपुर गांव में हिंदू मुस्लिम एकता कायम है. बहुसंख्यक लोग भी अल्पसंख्याक व्यक्ति को अपना प्रतिनिधि चुन सकते हैं.

बता दें कि मवई ब्लॉक के रजनपुर गांव के हिंदू बाहुल्य क्षेत्र के लोग एक मुस्लिम व्यक्ति को अपना प्रधान चुना है. हालांकि प्रधान के चुनाव में कई हिंदू प्रत्याशी भी प्रधान का चुनाव लड़ रहे थे, लेकिन हिंदुओं ने अपना प्रतिनिधि एक मुसलमान व्यक्ति को चुना. अब इस गांव की चर्चा पूरे जनपद में हो रही है कि हिंदू बाहुल्य से गांव में अकेला मुसलमान प्रधान बन सकता है.

सीएम योगी बोले- संक्रमितों के इलाज में किसी भी तरह की लापरवाही बर्दाश्त नहीं, ओवरचार्जिंग पर होगी कड़ी कार्रवाई

हाफिज अजीमुद्दीन रजनपुर में अपने परिवार के साथ अकेले रहते हैं. राजनपुर गांव में केवल यही एक परिवार मुस्लिम परिवार रहता है और हिम्मत कर हाफिज अजीमुद्दीन ने प्रधान का पर्चा दाखिल कर दिया और उन्हें उम्मीद भी नहीं थी कि हिंदू बाहुल्य से गांव में हिंदू लोग उन्हें अपना प्रतिनिधि चुनेंगे. जहां एक तरफ हिंदू मुस्लिम नफरत की चिंगारी भड़क उठती है. वहीं नफरती लोगों को रजनपुर गांव के लोगों ने मुंह तोड़ जवाब दिया है.
प्रधानों का शपथ ग्रहण टला

वहीं ग्राम प्रधानी के चुनाव के बाद ग्राम पंचायतों का गठन और ग्राम प्रधानों व क्षेत्र पंचायत सदस्यों के शपथ ग्रहण को फ़िलहाल टाल दिया गया है. साथ ही जिला पंचायत अध्यक्ष और ब्लॉक प्रमुख के अप्रत्यक्ष चुनाव पर भी ग्रहण लग गया है. पंचायतीराज विभाग से मिल रही जानकारी के मुताबिक नवनिर्वाचित ग्राम प्रधानों, क्षेत्र पंचायत सदस्यों और जिला पंचायत अध्यक्ष व ब्लॉक प्रमुखों के चुनाव के लिए जो प्रस्ताव मुख्यमंत्री ऑफिस को भेजा गया था उसे लौटा दिया गया है. बताया जा रहा है कि ग्रामीण इलाकों में फैले कोरोना संक्रमण की वजह से फिलहाल सभी कार्यक्रम रोक दिए गए हैं.

अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज