लाइव टीवी

सुप्रीम कोर्ट का फैसला विवाद निपटाने में अहम साबित होगा: CM योगी

News18 Uttar Pradesh
Updated: September 27, 2018, 5:33 PM IST
सुप्रीम कोर्ट का फैसला विवाद निपटाने में अहम साबित होगा: CM योगी
बाबरी मस्जिद-रामजन्मभूमि पर लाए कोर्ट के फैसले पर सीमी ने जताई ने खुशी (फाइल फोटो)

सीएम ने आगे कहा कि हमारी अपील है जल्द से जल्द इस विवाद का निपटारा होना चाहिए. जो लोग इसको निपटाना नहीं चाहते वो ही इसकी राह में रोड़े अटका रहे हैं.

  • Share this:
बाबरी मस्जिद-रामजन्मभूमि केस से जुड़े एक मामले पर सुप्रीम कोर्ट के स्टैंड पर  यूपी के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने खुशी जताई है, उन्होंने विवादित मामले के समाधान की दिशा में इसे काफी महत्वपूर्ण  फैसला बताया है. उन्होंने कहा इस फैसले के बाद रामजन्मभूमि का जो कथित विवाद है उसका निपटारा जितनी जल्दी हो जाए वो ठीक है.

सीएम ने आगे कहा कि हमारी अपील है जल्द से जल्द इस विवाद का निपटारा होना चाहिए. जो लोग इसको निपटाना नहीं चाहते वो ही इसकी राह में रोड़े अटका रहे हैं. वहीं इस फैसले पर हिंन्दू और मुसलमान दोनों पक्षकारों ने इसका स्वागत किया है और उम्मीद की है कि अयोध्या मामले पर भी जल्द ही सुनवाई होगी.

बाबरी फैसले को लेकर जुबानी जंग: राम मंदिर पर विनय कटियार को मुस्लिम पक्षकार ने दिया ये जवाब

आपको बता दें कि इस्माइल फारूकी मामले को लेकर सुप्रीम कोर्ट ने ये बड़ा फैसला दिया. सुप्रीम कोर्ट की तीन जजों की बेंच ने 2-1 के फैसले के हिसाब से कहा है कि अब ये फैसला बड़ी बेंच को नहीं जाएगा. इस केस के पक्षकारों ने केस को पांच सदस्यीय बेंच में ट्रांसफर करने की मांग की थी.कोर्ट ने कहा कि इस्माइल फारूकी केस से अयोध्या जमीन विवाद का मामला प्रभावित नहीं होगा. ये केस बिल्कुल अलग है. अब इसपर फैसला होने से अयोध्या केस में सुनवाई का रास्ता साफ हो गया है. कोर्ट के फैसले के बाद अब 29 अक्टूबर 2018 से अयोध्या टाइटल सूट पर सुनवाई शुरू होगी. पीठ में तीन जज शामिल थे, चीफ जस्टिस दीपक मिश्रा, जस्टिस अशोक भूषण और जस्टिस नजीर.

बाबरी फैसले से राम मंदिर निर्माण की पहली बाधा दूर: स्वामी चक्रपाणि

दरअसल, सुप्रीम कोर्ट में मुस्लिम पक्षकारों की ओर से दलील दी गई है कि इस पर जल्दी निर्णय लिया जाए. फैसले में कोर्ट बताएगा कि यह मामला संविधान पीठ को रेफर किया जाए या नहीं. सुप्रीम कोर्ट ने 20 जुलाई को इस मुद्दे पर फैसला सुरक्षित रखा था कि संविधान पीठ के इस्माइल फारूकी (1994) फैसले को बड़ी बेंच को भेजने की जरूरत है या नहीं.

बाबरी केस: पिंडदान के बीच अयोध्या में सुप्रीम कोर्ट के फैसले पर टकटकी

News18 Hindi पर सबसे पहले Hindi News पढ़ने के लिए हमें यूट्यूब, फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें. देखिए फैजाबाद से जुड़ी लेटेस्ट खबरें.

First published: September 27, 2018, 5:33 PM IST
Loading...
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर
Loading...