Home /News /uttar-pradesh /

राम मंदिर नहीं बना तो 2019 के चुनाव में भाजपा के लिए मुश्किल खड़ी कर सकते हैं साधु-संत

राम मंदिर नहीं बना तो 2019 के चुनाव में भाजपा के लिए मुश्किल खड़ी कर सकते हैं साधु-संत

आक्रोशित साधु-संत कह रहे हैं कि रामलला को भुलाने का परिणाम भाजपा को उपचुनाव में देखना पड़ रहा है, अगर भाजपा नहीं मानीं तो इसका खामियाजा उसे 2019 के चुनाव में भुगतना पड़ेगा

    भाजपा के लिए 2019 के आम चुनाव की राह आसान नजर नहीं आ रही है. अयोध्या में रामजन्म भूमि के मुख्य पुजारी हो या रामजन्म भूमि से जुड़े संत, महंत सभी एक सुर में राम मन्दिर निर्माण को लेकर भारतीय जनता पार्टी पर हमलावर नजर आ रहे हैं.

    यह दबाव 2019 के पहले और बढ़ने वाला नजर आ रहा है.  नाराज साधु-संत 2019 के चुनाव में भाजपा के लिए मुश्किल खड़ी कर सकते हैं.जाहिर है चुनाव के पहले भाजपा की अग्नि परीक्षा की शुरुआत अयोध्या से हो चुकी है.

    संतों की मानें तो राम मंदिर निर्माण को मुद्दा बनाकर भाजपा प्रदेश से लेकर केंद्र सरकार तक पहुंच चुकी है लेकिन मौजूदा समय में कई प्रांतों और केंद्र में भाजपा की सरकार है. फिर भी राम मंदिर निर्माण के लिए पार्टी की तरफ से कोई पहल नहीं हो रही है.

    सत्येंद्र दास

    आक्रोशित साधु-संत कह रहे हैं कि रामलला को भुलाने का परिणाम भाजपा को उपचुनाव में देखना पड़ रहा है. अगर भाजपा नहीं मानीं तो इसका खामियाजा उसे 2019 के चुनाव में भुगतना पड़ेगा. ऐसा नहीं है कि अयोध्या के सभी साधु संत भाजपा से नाराज ही हैं. कुछ साधु-संत मोदी और योगी की तारीफ जरूर करते हैं लेकिन भव्य राम मंदिर के निर्माण की इच्छा भी व्यक्त करते हैं. इससे स्पष्ट होता है कि राम मंदिर को लेकर साधु-संतों में नाराजगी है.

    ये भी पढ़ें - शिया बोर्ड के चेयरमैन वसीम रिजवी ने PM मोदी को लिखा पत्र, कहा- राम मंदिर ही सबसे बड़ा मुद्दा

    आपके शहर से (फैजाबाद)

    फैजाबाद
    फैजाबाद

    Tags: Faizabad news

    विज्ञापन

    राशिभविष्य

    मेष

    वृषभ

    मिथुन

    कर्क

    सिंह

    कन्या

    तुला

    वृश्चिक

    धनु

    मकर

    कुंभ

    मीन

    प्रश्न पूछ सकते हैं या अपनी कुंडली बनवा सकते हैं ।
    और भी पढ़ें
    विज्ञापन

    टॉप स्टोरीज

    अधिक पढ़ें

    अगली ख़बर