भैयाजी जोशी पर भड़के इकबाल अंसारी, कहा- चुनाव आते ही याद आता राम मंदिर

भैयाजी जोशी के बायन पर इकबाल अंसारी भड़के. कहा- अयोध्या मसला सुप्रीम कोर्ट में है तो नेता कैसे तारीख बताएंगे, जैसे ही चुनाव आता है जात और धर्म की राजनीति शुरू हो जाती है.

News18 Uttar Pradesh
Updated: January 18, 2019, 7:14 PM IST
News18 Uttar Pradesh
Updated: January 18, 2019, 7:14 PM IST
अयोध्या 2025 में राम मंदिर निर्माण को लेकर आरएसएस के प्रमुख नेता भैयाजी जोशी के बयान पर बाबरी मस्जिद के पक्षकार इकबाल अंसारी ने बड़ा सवाल खड़ा किया है. इकबाल अंसारी का कहना है कि अयोध्या मसला सुप्रीम कोर्ट में है तो नेता कैसे तारीख बताएंगे, जैसे ही चुनाव आता है जात और धर्म की राजनीति शुरू हो जाती है. राजनीति करना है तो विकास की राजनीति करो, जनता को विकास चाहिए.

हालांकि आगे उन्होंने कहा कि इस तरह की बयानबाजी सरकार को बदनाम करने की साजिश है.  प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी और मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ विकास का काम कर रहे हैं. वहीं आरएसएस के भैया जी जोशी के बयान पर सन्तों में भी नाराजगी है . श्री रामलला के मुख्य पुजारी आचार्य सतेन्द्र दास ने आरएसएस को झूठा उन्होंमे कहा कि बीजेपी, आरएसएस और बजरंग दल के नेताओं की भाषाएं केवल लोगों को लुभाने के लिए हैं. ये लोग राम के नाम पर झूठ बोलते हैं. इन्हें रामलला के नाम पर राजनीति करना बन्द कर देना चाहिए.

अयोध्या केस पर सुप्रीम कोर्ट में सुनवाई 29 जनवरी तक फिर टली, जानिए क्या हुआ आ

राम मंदिर निर्माण को कोर्ट के फैसले पर ही छोड़ देना चाहिए. कोर्ट के आदेश पर ही मन्दिर का निर्माण होगा.  जितनी बातें हैं यह बनावटी है, काल्पनिक है और काल्पनिक बातें असत्य होती हैं. ऐसे बयान से आगामी लोक सभा चुनाव मे बुरा असर पड़ेगा. वहीं जगत गुरु रामदिनेशाचार्य ने कहा कि सनातन धर्मी और हिंदू निराश है. भारत की जनता बीजेपी या अन्य पार्टियों को मंदिर के नाम पर वोट न दे. सरकार का इस तरह का बयान हिन्दुओं के घाव को और भी कुरेदता है. इस समय सरकार से संत समाज के लोग काफी आहत हैं.

(निमिष गोस्वामी की रिपोर्ट)

अयोध्या केस: बाबरी पक्षकार इकबाल अंसारी बोले- अदालत लेट कर रही है
Loading...
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर
Loading...