''मंदिर के नाम पर कथित भड़काऊ बयानबाजी पर कोई प्रतिक्रिया ना दें मुसलमान''

''सभी सदस्यों की एक राय थी कि मंदिर के नाम पर जो बयानबाजी हो रही है, उस पर कोई प्रतिक्रिया ना दी जाए. अगर कोई भड़काऊ बात कहीं जाए तो मुसलमान कोई उत्तेजनापूर्ण प्रतिक्रिया न दें.''

News18 Uttar Pradesh
Updated: December 25, 2018, 8:09 PM IST
''मंदिर के नाम पर कथित भड़काऊ बयानबाजी पर कोई प्रतिक्रिया ना दें मुसलमान''
बाबरी मस्जिद एक्शन कमेटी (बीएमएसी) का ऐलान (प्रतिकात्मक फोटो)
News18 Uttar Pradesh
Updated: December 25, 2018, 8:09 PM IST
अयोध्या मामले की उच्चतम न्यायालय में सुनवाई शुरू होने से पहले मंगलवार को यहां बाबरी मस्जिद एक्शन कमेटी (बीएमएसी) की एक अहम बैठक हुई. इसमें तय किया गया कि मुसलमान मंदिर के नाम पर कथित भड़काऊ बयानबाजी पर कोई प्रतिक्रिया ना दें.

कमेटी के संयोजक वरिष्ठ अधिवक्ता जफरयाब जीलानी ने बताया कि उत्तर प्रदेश बाबरी मस्जिद एक्शन कमेटी की बैठक में करीब आठ माह पहले हुई थी. जिसमें अब तक हुए घटनाक्रमों, जैसे कि बाबरी मस्जिद से जुड़े तमाम मुकदमों के बारे में, हाल में विश्व हिन्दू परिषद द्वारा आयोजित धर्म सभा और धर्म संसद कार्यक्रमों में की गयी कथित भड़काऊ बयानबाजी और मंदिर निर्माण के लिये अध्यादेश लाये जाने की आशंकाओं के बारे में विस्तृत विचार-विमर्श किया गया. बैठक में अदालती कार्यवाही पर संतोष जाहिर किया गया.

उन्होंने बताया कि बैठक में सभी सदस्यों की एक राय थी कि मंदिर के नाम पर जो बयानबाजी हो रही है, उस पर कोई प्रतिक्रिया ना दी जाए. अगर कोई भड़काऊ बात कहीं जाए तो मुसलमान कोई उत्तेजनापूर्ण प्रतिक्रिया न दें, ताकि जो लोग धार्मिक भावनाएं भड़काकर वोटों का धुव्रीकरण करना चाहते हैं, उनके मंसूबे कामयाब नहीं हों.

सार्वजनिक स्थल पर नमाज मामले में BJP ने किया नोएडा पुलिस का समर्थन

जीलानी के मुताबिक इसके लिये कार्ययोजना तय की गयी है कि ज्यादा से ज्यादा मुसलमानों तक यह बात पहुंचायी जाए कि मंदिर मामले को लेकर अभी तक उनका रवैया संतोषजनक रहा है और आगे भी वह इसी तरह धैर्य से काम लें.

नोएडा प्रशासन की कार्रवाई पर मुस्लिम धर्मगुरुओं ने जताई नाराजगी

बैठक में यह भी राय बनी कि जैसा कि ऑल इण्डिया मुस्लिम पर्सनल लॉ बोर्ड तय कर चुका है कि अगर मंदिर निर्माण के लिये संसद में कोई अध्यादेश लाया जाएगा तो उसको उच्चतम न्यायालय में चुनौती दी जाएगी. उम्मीद है कि न्यायालय अंतिम फैसला आने तक विवादित स्थल पर यथास्थिति बनाए रखेगा.
Loading...

(एजेंसी इनपुट के साथ)

News18 Hindi पर सबसे पहले Hindi News पढ़ने के लिए हमें यूट्यूब, फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें. देखिए फैजाबाद से जुड़ी लेटेस्ट खबरें.

First published: December 25, 2018, 8:09 PM IST
Loading...
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर
Loading...